JamtaraJharkhand

Jamtara: लॉक डाउन में भी कल्याण गुरुकुल की 450 लड़कियों को मिल रहा है रोजगार

  • जामताड़ा कल्याण गुरुकुल से साक्षर पास 450 लड़कियों को कौशल विकास का प्रशिक्षण देकर भेजा गया तमिलनाडु, गारमेंट्स कंपनी में मिला है काम

Anwar Hussain

Jamtara: कोरोना संकट से एक तरफ जहां लोग बेरोजगार हो रहे हैं, वहीं जामताड़ा कल्याण गुरुकुल से चेन्नई गयी लड़कियों को रोजगार मिल रहा है. लड़कियों को रोजगार मिलने से घर के लोग भी उत्साहित हैं.

जामताड़ा गुरुकुल से तमिलनाडु की विभिन्न गारमेंट्स कंपनियों में साढ़े 400 लड़कियां काम कर रही हैं. इस कोरोना महामारी संकट में भी उन्हें ज्यादा परेशानी नहीं हुई.

सिर्फ 15 दिन काम बंद था. उसके बाद सामाजिक दूरी का अनुपालन व हैंड सैनिटाइजर की व्यवस्था कर पुनः कार्य शुरू हुआ है. लड़कियों को रोजगार लगातार मिल रहा है.

जिले की साक्षर लड़कियों को कौशल विकास का प्रशिक्षण देकर उन्हें रोजगार से जोड़ा गया है. इससे जामताड़ा कल्याण गुरुकुल का यह प्रशिक्षण कोरोना संकट में भी जिले के एससी,  एसटी, ओबीसी व माइनॉरिटी समाज के लिए वरदान साबित हो रहा है.

इसे भी पढ़ें – CoronaUpdate: झारखंड में संक्रमण से नौंवी मौत, रांची से एक नया केस मिलने के साथ ही आंकड़ा हुआ 1762

लॉकडाउन के कारण जिले की 62 लड़कियों को नहीं मिला रोजगार

जामताड़ा कल्याण गुरुकुल से प्रशिक्षण प्राप्त 62 लड़कियों को रोजगार नहीं मिला. इन लड़कियों को 26 मार्च को तमिलनाडु भेजना था लेकिन 25 मार्च से ही लॉकडाउन के कारण उन्हें भेजा नहीं जा सका.

इन लड़कियों को 3 महीने का प्रशिक्षण दिया गया था. उनकी काउंसलिंग हो चुकी थी. उनके जाने की व्यवस्था हो गयी थी. 26 मार्च को तमिलनाडु रवाना करना था.

ऐन मौके पर लॉक डाउन लगा. लड़कियां प्रतिदिन गुरुकुल में पूछताछ करती हैं कि वे तमिलनाडु कब जायेंगी.

लॉक डाउन के कारण नये बैच का नहीं हो सका संचालन

लॉकडाउन के कारण नया बैच शुरू नहीं हो सका. लड़कियों का सिलेक्शन हो चुका है,  लेकिन कल्याण विभाग से आदेश नही मिलने पर नये बैच का प्रशिक्षण नहीं हो रहा है.

इसे भी पढ़ें – 6th JPSC: जिस संकल्प का हवाला देकर जोड़ा गया न्यूनतम मार्क्स, कोर्ट में उसे पेश नहीं कर पाया आयोग

क्या कहते हैं प्राचार्य

“जामताड़ा कल्याण गुरुकुल से साढ़े चार सौ लड़कियां तमिलनाडु गयी हैं. गारमेंट्स कंपनी में सिलाई का काम मिला है. उन्हें 10 हजार रुपये मासिक भुगतान होता है. उनकी सुरक्षा की सारी व्यवस्था की गयी है. लॉक डाउन के कारण जिले की 62 लड़कियों को भेजा नहीं जा सका. नये बैच का प्रशिक्षण भी फंस गया.”

महेंद्र पाल, प्राचार्य, कल्याण गुरुकुल, जामताड़ा

इसे भी पढ़ें – राज्यसभा चुनावः बीजेपी को लगा झटका, ढुल्लू महतो की औपबंधिक जमानत को अदालत ने किया खारिज

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: