HEALTHJamshedpurJharkhand

JAMSHEPUR : क्या आप पेट में बननेवाली गैस से परेशान हैं? तो यह जानकारी आपके लिए है, जानिये क्या कहते हैं आयुष चिकित्सक

डॉ रीना आजमी

Jamshedpur : पेट में गैस बनने की समस्या से बहुत से लोग परेशान रहते हैं. इसके लिए रहन-सहन से लेकर आपकी दिनचर्या, खाने-पीने की आदतें समेत अन्य कई कारण जिम्मेदार हैं. इससे न सिर्फ पेट में गैस बनती है, बल्कि यह गैस डकार और फार्ट के रूप में निकलकर शर्मिंदगी का कारण भी बनती है. जानीमानी आयुष चिकित्सक डॉ रीना आजमी की मानें, तो गैस बनना और निकलना एक प्राकृतिक प्रक्रिया है, लेकिन इसमें कौन सी गैस होती है. यह भी जानना जरूरी है. 1998 में एक जठरांत्र रोग विज्ञान के चिकित्सक माइकल लेविट (अमेरिका) ने इस विषय पर प्रयोग किया. इसके कई परिणाम निकले.

इसके परिणाम में सामने आया कि पेट से निकलनेवाली गैस का एक चौथाई भाग ऑक्सीजन और नाइट्रोजन का होता है, जो सांस से ग्रहण किया जाता है. शेष तीन चौथाई हिस्से में कार्बन डाइऑक्साइड, हाइड्रोजन और मीथेन होता है. आधे से अधिक लोगो में मिथेन गैस बनती है. क्योंकि उनके पेट में मीथेन का उत्पादन करनेवाला जैविक तंत्र नहीं होता है. इसके अलावा कभी-कभी दुर्गंध करनेवाली गैस हाइड्रोजन सल्फाइड (सड़े अंडे जैसी गंध) मीथेनथिओल (सड़े हुए गोभी की गंध) डाइमिथाइल सल्फाइड (लहसुन जैसी गंध) आदि बहुत कम मात्रा ( 50 पीपीएम या 10 लाख में 50) में होती है. इनके अलावा ज्यादातर दुर्गंध में खाये जानेवाले खाने में पाये जानेवाले एरोमेटिक फैटी एसिड्स की गंध होती है.

ram janam hospital
Catalyst IAS

गैस समस्या बन जाये तो ये करें उपाय  

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

1. एक कप कच्चा दूध में तीन कप पानी मिलाकर उबाल लें. उसके बाद गुनगुना रहने तक ठंडा करें. फिर उसे पी लें.

2. हरी इलायची, जीरा, सौंफ को नियमित रूप से खाएं.
3. नींबू का रस और अदरक एक-एक चम्मच लें. उसमें थोड़ा सा काला नमक मिलाए. उसे खाने के बाद खायें. इससे पाचन शक्ति भी अच्छी होगी.
4. अजवाइन के चूर्ण को पानी के साथ खायें.
5. छोटी हरड़ मुंह में डालकर चूसते रहें.

ये भी पढ़ें- सांसद निशिकांत का ट्वीट, ईडी की छापेमारी के बाद से लापता है विशाल चौधरी, हत्या की आशंका

Related Articles

Back to top button