JamshedpurJharkhand

जमशेदपुरः दुर्गा पूजा पंडालों में बजा अश्लील गाना तो आयोजकों की खैर नहीं, ड्रोन कैमरों से होगी निगहबानी, मनचलों के लिए स्पेशल स्क्वॉड

Abinash Mishra: जमशेदपुर में दुर्गा पूजा के दौरान पंडालों में अश्लील गाने बजाने पर रोक लगायी गयी है. किसी भी पंडाल में अश्लील गाने सुनाई देने पर पूजा समितियों को पेनाल्टी भरना होगा, साथ ही अगली बार आयोजकों को पूजा समिति से भी हाथ धोना पड़ सकता है.

डीसी के साथ शांति समिति की दूसरे दौर की बैठक में कई बिंदुओं पर सहमति बनी. पंडालों में इस बार केवल भक्ति गीत या भजन ही सुनाई देंगे. डीसी रविशंकर शुक्ला ने कहा की दुर्गा पूजा शांति और सौहार्द्र के साथ मनाने में आयोजकों की भूमिका 90 फीसदी और प्रशासन का योगदान 10 फीसदी होता है. लिहाजा पूजा समितियों को ही पंडाल और मेले में अनुशासन का ख्याल रखना होगा.

इसे भी पढ़ें – क्लर्क नियुक्ति के लिए फॉर्म की फीस 1000 रुपये, कितना जायज? हमें लिखें…

Chanakya IAS
SIP abacus
Catalyst IAS

धार्मिक गाने भी तेज आवाज में न बजें इसको लेकर भी सहमति बनी है. ये नियम केवल शहरी इलाकों के पंडालों पर ही नहीं बल्कि ग्रामीण इलाकों के पंडालों पर भी लागू होंगे. जमशेदपुर जिले में शहरी और ग्रामीण क्षेत्र मिला कर 200 से ज्यादा पंडालों की संख्या होती है. सभी पूजा समितियों के लिए जरूरी हो जाता है की पंडाल में सुऱक्षा के तमाम इंतजाम मौजूद रहें.

The Royal’s
Sanjeevani
MDLM

फायर फाइटिंग और सूचना केंद्र जरूरी

सभी पंडालों में इस बार फायर फाइटिंग सिस्टम और सूचना केंद्र को अनिवार्य कर दिया गया है चाहे वो छोटे पंडाल हों या बड़े. इसके लिए पूजा समिति के कुछ सदस्यों को ट्रेनिंग देने पर भी सहमति बनी है. जिन तीन सर्वश्रेष्ठ पंडालों को पुरस्कृत किया जायेगा, उनमें न केवल पंडालों का तामझाम और लाइटिंग को देखा जायेगा बल्कि सुरक्षा के मापदंड पर भी पंडालों को खरा उतरना होगा.

इसे भी पढ़ें – alexa.com रैंकिंग में देश में 18वें रैंक पर पहुंचा newswing.com

एक टीम सभी पंडालों का निरीक्षण कर चमक-दमक के साथ हर स्तर पर पंडाल की जांच कर अंक देगी. और अंत में सभी को जोड़ कर तय किया जायेगा की कौन सबसे बेहतर है. इस साल इसमें निगेटिव मार्किंग का भी प्रावधान रखा गया है ताकि बड़े पंडाल केवल खर्च के आधार पर न जीत सकें.

इसके अलावा सभी पंडालों में वोलंटियर्स की टीम भी होगी जो पीक समय में भीड़ के पंडाल में प्रवेश से लेकर निकासी में गाइड करेगी. ये टीम कितनी सहजता से काम करेगी इसके लिए भी अंक दिये जायेंगे.

मनचलों के लिए स्पेशल स्कवॉड

सभी पंडालों में मनचलों पर नकेल के लिए खास तौर से स्पेशल स्कवॉड भी तैनात किये जायेंगे, जिसमें पुलिस और वोलंटियर दोनों शामिल रहेंगे. सभी को खास हिदायत रहेगी कि मनचलों की शिकायत मिलने पर पंडाल में उनके साथ मारपीट या गाली-गलौच न हो, उनको सीधे पुलिस को सौंप दिया जाये ताकि पूजा का माहौल खराब न हो या कोई असहज महसूस न करे.

24 घंटे ड्रोन कैमरे से नजर

वैसे तो पंडालों में सीसीटीवी कैमरे लगेंगे ही लेकिन बड़े पंडालों पर पुलिस खुद ड्रोन से भी नजर रखेगी. पूजा के लिए खास तौर से 30 से ज्यादा ड्रोन मंगाये गये हैं, ताकि बड़े पंडालों में भारी भीड़ के बावजूद सुरक्षा के स्तर में कोई चूक न रह जाये.

पंडालों में सीसीटीवी और कंट्रोल रूम तो रहेगा ही, लेकिन सभी का एक-एक लिंक पुलिस कंट्रोल रूम में भी रहेगा ताकि आइटी सेल खतरे को भांप सके.

इसे भी पढ़ें – #KrishiAshirwadYojana: 3000 करोड़ से घटकर हुआ 2250 करोड़ का, किसानों के खाते में अब तक गए सिर्फ 442 करोड़

Related Articles

Back to top button