Jharkhand Vidhansabha Election

#Jamshedpur : पुरानी दर पर चुनावी दौड़-धूप करने से टैक्सी चालकों का इनकार, नयी दर को सरकार की मंजूरी नहीं

Abinash Mishra

Jamshedpur : विधानसभा चुनाव 2019 में आपके बूथ पर चुनाव अधिकारी नयी चमचमाती गाड़ी के बजाय पुरानी और खटारा वाहनों से पहुंचें तो आश्चर्य की बात नहीं क्योंकि इस बार के सरकारी रेट टैक्सी चालकों को मंजूर नहीं हैं.

टैक्सी चालकों का कहना है कि अधिकारी हर चुनाव में नयी चमचमाती कार की डिमांड करते हैं तो रेट पुराने चुनाव वाला ही क्यों? डीजल-पेट्रोल की कीमत मे भी तेजी है सो अलग. टैक्सी चालकों ने परिवहन विभाग को साफ कह दिया है कि अगर पुराने रेट पर बिल का भुगतान होगा तो इस बार चुनाव में अपनी गाड़ियां नहीं देगें.

Catalyst IAS
ram janam hospital

बता दें कि हर चुनाव में जमशेदपुर में करीब 850 गाड़ियां भाड़े पर ली जातीं है जिसमें 350 बड़ी-छोटी बसें होती हैं, 250 के आसपास एसयूवी और 20 एमयूवी होती है. इसके अलावा 200 से ज्यादा टाटा मैजिक (छोटा हाथी) जैसी गड़ियां चुनावी दौड़-धूप का हिस्सा होती हैं.

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें : शहीद ग्राम आवास योजना : दो साल दो माह पूर्व अमित शाह ने किया था भूमि पूजन, एक ईंट भी नहीं जुड़ी

कहां फंसा है पेच

हर चुनाव में आयोग चुनावी काम के लिए सभी प्रकार की गाड़ियों का अधिग्रहण करती है ताकि चुनावी सामान के साथ-साथ अधिकारी और सुरक्षा दल समय से पहले अपने निर्धारित जगहों पर पहुंचे सकें.

पूरी प्रक्रिया में कोई परेशानी न आये इसलिए इस्तेमाल किये गये वाहनों का बिल परिवहन विभाग जमा लेता है और तय समय के भीतर सरकारी रेट के हिसाब से भुगतान कर देता है.

अगर इसमें नया रेट दिया गयी है तो नियम के मुताबिक उस पर भी सरकार की हरी झंडी जरूरी है, लेकिन नया रेट लिस्ट अगर पेंडिंग है तो उस स्थीति में परिवहन विभाग बीते चुनाव के रेट के आधार पर बिल का भुगतान करता है.

चुनावी माहौल को देखते हुए जमशेदपुर के टैक्सी चालकों ने परिवहन विभाग व उपायुक्त को नयी रेट लिस्ट को लेकर सूचित किया था ताकि समय रहते नये रेट कार्ड को स्वीकृति मिल जाये. पर नये रेट कार्ड को स्वीकृति मिली नहीं है और टैक्सी चालक पशोपेश में हैं.

इस बार उनका साफ कहना है कि समय रहते सरकार को रेट लिस्ट सौप दी गयी है, लिहाजा सरकार को तय करना है कि उन्हें गाडियां लेनी है या नहीं. इस बार चुनाव में पुरानी दर पर उन्हें गाडियां देना कतई मंजूर नहीं.

इसे भी पढ़ें : #Jamshedpur: जमशेदपुर में एसीबी ने सिंचाई विभाग के मुख्य अभियंता के घर की छापेमारी, 2.44 करोड़ रुपये बरामद, जमीन और फ्लैट के दस्तावेज भी मिले

कैसी है नयी-पुरानी दर

टैक्सी चालकों ने परिवहन विभाग का हवाला देते हुए असल में जमा किये गये नये रेट के बारे में तो साफ-साफ नहीं कहा लेकिन संभावित नयी दर क्या हो सकती है उसका लेखा-जोखा नीचे दिये गये रेट कार्ड में देखा जा सकता है.

गाड़ियां पुराना रेट नया रेट (appx)
बस 3150-2660 3310-2850
एसयूवी (AC) 1310-1360 1450-1500
एमयूवी (AC) 1360 1500
हैंचबैक 820-980 1000
छोटा हाथी 550 750

 

इसे भी पढ़ें : #JharkhandElection के ठीक पहले निकाली गयी पांच विभिन्न पदों पर वैकेंसी, इनमें दो पर बैकलॉग का भारी बोझ

Related Articles

Back to top button