JamshedpurJharkhand

#Jamshedpur: दाढ़ी के कारण सिख छात्र को बॉक्सिंग रिंग में उतरने से रोका, सिख समुदाय का जोरदार हंगामा, वीडियो वायरल

विज्ञापन

Jamshedpur: जेआरडी टाटा स्पोर्टस कॉमप्लेक्स में इन दिनों आइसीएससीई स्कूलों के बीच बॉक्सिग टूर्नामेंट चल रहा है. इस टूर्नामेंट में नरभेराम इंगलिश स्कूल के छात्र जसपाल डान ने भी हिस्सा लिया.

लेकिन चैंपियनशिप के लिए जब जसपाल डान रिंग में उतरे तो स्पोर्टस मैनेजमेंट ने उनकी दाढ़ी देख मैच खेलने से रोक दिया. और जसपाल को रिंग के बाहर भी कर दिया गया.

इसे भी पढ़ेंः#BJP के सहयोगी #BMS के ‘पारस’ रहे पारसनाथ ओझा को मुश्किल घड़ी में संगठन ने भगवान भरोसे छोड़ा

इतना देख जसपाल के अभिभावक समेत सभी भड़क गए और धर्म के नाम पर बच्चों को रोकने का आरोप लगाया. धर्म से जुड़े होने के कारण मामले ने तूल पकड़ लिया और हंगामा इतना बढ़ गया कि टूर्नामेंट ही रोकना पड़ गया.

वीडियो हो रहा वायरल

विरोध करते अभिभावक का वीडियो वायरल हो रहा है. जिसमें छात्र के परेंट्स स्पोर्टस कमिटी से बहस करते नजर आ रहे हैं. वीडियो में साफ है कि किस तरह पेरेंट्स कमिटी का विरोध कर रहे हैं. और कमिटी उनको समझाने के प्रयास में जुटी है.

अभिभावक बार-बार पूछ रहे है की कि आखिर स्कूल स्तर पर इस तरह के नियम की क्या जरुरत. खेलने देने की बजाये बच्चे की दाढ़ी के चलते उसके साथ नाइंसाफी की जा रही है.

इसे भी पढ़ेंःक्या है पत्थलगड़ी का गुजरात-राजस्थान के संगठन से कनेक्शन, समर्थक अभिवादन में ‘जोहार’ की जगह कहते हैं ‘पितु की जय’

इतना ही नहीं, जानकारी मिलते ही बीजेपी युवा विंग के कई कार्यकर्ता भी वहां पहुंच गए और जमकर नारेबाजी और बहस की.

हंगामा इतना बढ़ गया कि पुलिस को आना पड़ा. स्पोर्टस कमिटी से इसकी असल वजह पूछी गई तो कमिटी ने दलील दी की नियम के मुताबिक कोई भी खिलाड़ी दाढ़ी के साथ रिंग में नही उतर सकता. लिहाजा इसे धर्म से जोड़ कर देखना गलत है.

मौके पर नियम को समझाते हुए बिष्टुपुर पलिस ने फिर भी मुकाबला कराने का आदेश दिया. जब जाकर विरोध और हंगामा शांत हुआ. लेकिन मुकाबले में नियम का हवाला देते हुए उसे अमान्य करार दिया गया.

इसे भी पढ़ेंःनहीं मिले सरकार से 50 करोड़, झारखंड बिजली बोर्ड ने अटल ज्योति योजना व तिलका मांझी योजना की बंद

Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close