Crime NewsJharkhandSaraikela

दुष्कर्मियों के डर से भाग रही लड़की की नदी में डूबने से हुई थी मौत, 5 आरोपी गिरफ्तार

Saraikela:आदित्यपुर थाना क्षेत्र के रहने वाली नाबालिग लड़की का शव 20 जून को खरकई नदी से बरामद किया गया था. इस मामले को लेकर काफी विरोध हुआ था. सरायकेला एसपी मोहम्मद अर्शी के नेतृत्व में सरायकेला पुलिस ने मामले का खुलासा कर लिया है.

पुलिस की जांच में खुलासा हुआ कि नाबालिग लड़की दुष्कर्मियों के डर से भाग रही थी और इसी दौरान वो खरकई नदी में घुस गई. पानी का तेज बहाव होने के कारण लड़की की पानी में डूबने से मौत हो गई. पुलिस ने इस घटना में शामिल 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया. गिरफ्तार हुए आरोपियों में अजय प्रमाणिक, दुर्गा महतो,अभिजीत सिंह, रोहित लोहार और अर्जुन लोहार शामिल हैं.

नाबालिग लड़की के साथ तीन लोगों ने किया था दुष्कर्म

पुलिस के अनुसंधान के क्रम में खुलासा हुआ है कि नाबालिग लड़की पिछले कुछ दिनों से अपने नाना के घर जाया करती थी. इसी दौरान आरोपियों के द्वारा लड़की पर नजर रखा जाने लगा. बीते 17 जून को सभी आरोपी आदित्यपुर थाना क्षेत्र के सालडीह स्थित न्यू प्राथमिक विद्यालय में बैठे थे. इसी दौरान नाबालिक लड़की अपने नाना के घर जा रही थी और रास्ते में बारिश होने लगी. नाबालिग लड़की बारिश से बचने के लिए स्कूल में चली गई. पहले से वहां मौजूद आरोपियों के द्वारा लड़की के साथ तीन लोगों ने बारी-बारी से दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया.

नदी में डूबने से हुई लड़की की मौत

दुष्कर्मियों के डर से लड़की स्कूल के पीछे नदी की ओर भाग गई. इस दौरान दो युवकों ने लड़की का पीछा किया. दोनों लड़के से बचने के लिए लड़की नदी में घुस गई. पानी का तेज बहाव होने के कारण लड़की की नदी में डूब कर मौत हो गई. लड़की का शव 20 जून को नदी से बरामद किया. गिरफ्तार हुए सभी आरोपियों के द्वारा घटना के संबंध में पुलिस को विस्तृत रूप से जानकारी दी गई और सभी ने इस घटना में अपनी संलिप्तता स्वीकार कर लिया है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में लड़की की मौत दम घुटने की वजह से बताया गया.

शव मिलने के बाद स्थानीय लोगों ने किया था वाहनों में तोड़फोड़ और हंगामा

आदित्यपुर थाना क्षेत्र के रहने वाली नाबालिग लड़की का शव 20 जून को खरकई नदी से बरामद किया गया था. वह 17 जूनसे लापता थी. परिजनों ने 18 जून की सुबह आदित्यपुर थाना में उसके लापता होने की शिकायत दर्ज कराई थी. इधर, पुलिस द्वारा नदी से शव निकालने के बाद सीधे पोस्टमार्टम के लिए सरायकेला भेज दिया गया.

ये भी पढ़ें-  भारत-चीन बॉर्डर से बड़ी खबर: पूर्वी लद्दाख में झुका ड्रैगन, सैनिकों को हटाने पर हुआ सहमत

इस बात से गुस्साए परिजनों एवं बस्ती वासियों ने मांझी टोला के पास नेशनल इलेक्ट्रॉनिक के सामने टाटा-कांड्रा मुख्य मार्ग को जाम कर दिया था. आक्रोशितों ने सड़क पर टायर जला दिया था. लोगों ने वाहनों को क्षतिग्रस्त किया और शीशे भी तोड़े.इसके बाद पुलिस ने भीड़ को खदेड़कर सड़क जाम हटाया. इतना ही नहीं परिजनों ने पुलिस पर लड़की को तलाशने में लापरवाही बरतने का आरोप लगाया था.

ये भी पढ़ें- झारखंड पुलिस का ‘अभियान सम्मान’, सिपाही, हवलदार व चतुर्थवर्गीय पुलिसकर्मियों की समस्या का होगा समाधान

बता दें कि इस मामले में लड़की के शव बरामद होने के बाद लड़की परिजन पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगा रहे थे. परिजनों के द्वारा 18 जून को लड़की के लापता होने की शिकायत दर्ज करवाई गई थी, जबकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट से खुलासा हुआ लड़की की मौत 17 जून को ही हो चुकी थी. इसमें मामले में पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए घटना में शामिल सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में लड़की की मौत पानी में डूबने के वजह से बताया गया.

Advertisement

4 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: