न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लोकसभा चुनाव की तैयारी में जमशेदपुर पुलिस, नक्सलियों निपटने में लिए इंटर स्टेट मीटिंग

887

Jamshedpur: लोकसभा चुनाव को देखते हुए जमशेदपुर की पुलिस जोरशोर से तैयारी में जुट गई है. चुनाव को लेकर जिले के सभी थाना प्रभारी और डीएसपी को कई दिशा निर्देश दिए गए हैं. आचार संहिता का सख्ती से पालन किया जाए, इसके लिए भी कई निर्देश जारी किए गए हैं. वहीं नक्सलियों के खिलाफ जमशेदपुर की पुलिस लगातार अभियान चला रही है. नक्सलियों को लेकर जमशेदपुर पुलिस ने बंगाल और उड़ीसा की पुलिस के साथ इंटर स्टेट मीटिंग भी की.

इसे भी पढ़ेंःगोमियाः लापरवाही ने ली दो मासूमों की जान, लोगों में ईंट भट्टा संचालक के खिलाफ रोष

जमशेदपुर पुलिस की इंटर स्टेट मीटिंग

नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में शांतिपूर्ण चुनाव हो सके इसके लिए एसएसपी अनूप बिरथरे ने बताया कि सीमावर्ती दो राज्यों ओडिशा और पश्चिम बंगाल के पुरुलिया, झारग्राम और मयूरभंज जिले के पुलिस के साथ इंटर स्टेट मीटिंग की गई. एसएसपी ने बताया कि नक्सलियों के खिलाफ सीआरपीएफ की चार कंपनी लगातार अभियान चला रही है और इंटीरियर इलाके के रोड में जहां नक्सली आईडी लगा सकते हैं, उसकी भी लगातार जांच की जा रही है.

अधिकतर लाइसेंसी हथियार हो चुके हैं जमा

एसएसपी अनूप बिरथरे ने बताया कि जिले में लाइसेंसी हथियार आचार संहिता लगने से 20 दिन पहले से ही जमा कराना शुरू कर दिया गया है. अधिकतर लाइसेंसी हथियार जमा हो चुके हैं. अगर कोई व्यक्ति अपनी लाइसेंसी हथियार जमा नहीं करता है, तो उस पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी. साथ ही लाइसेंस भी निरस्त किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ेंःमसूद अजहर आज घोषित होगा वैश्विक आतंकवादी ? या फिर से चीन लगायेगा अड़ंगा

एक महीने पहले से शुरू चुनाव की तैयारी

जमशेदपुर एसएसपी अनूप बिरथरे ने बताया कि हम लोगों ने चुनाव को लेकर एक महीने पहले से ही तैयारी शुरू कर दी है. जिले में जितने बूथ हैं उनमें से कितने बूथ संवेदनशील है इसकी लिस्ट तैयार कर ली गयी है.

थाना प्रभारी और डीएसपी संवेदनशील और अतिसंवेदनशील बूथ की जांच की है. किस बूथ पर सीआरपीएफ की तैनाती होगी और कहां पर जैप के जवान तैनात रहेंगे, जरूरत के हिसाब से सभी बूथों पर सुरक्षा बलों की तैनाती की जाएगी. 80 फीसदी पुलिसकर्मियों को प्रशिक्षण दिया जा चुका है. इसके अलावा 18 फ्लाइंग स्क्वॉयड के साथ 18 निगरानी दल बनाया गया है.

इसे भी पढ़ेंःहाल पेयजल व स्वच्छता विभाग काः बगैर स्वीकृति के निकाला 10.52 करोड़ का टेंडर, फिर करना पड़ा कैंसल

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: