ChaibasaCrime NewsJamshedpurJharkhandKhas-KhabarNEWS

जमशेदपुर पुल‍िस का जवाब नहीं, वाहन चेक‍िंग करने में भूल जाती सीमा, सरायकेला-खरसावां पहुंच जाते पुल‍िस के जवान, देख‍िए Picture और VIEDO

Jamshedpur : यदि आप खरकाई पुल से होकर बिष्टुपुर से पड़ोसी जिले सरायकेला-खरसावां के आदित्पुर की ओर जा रहे हैं या आदित्यपुर से वाहन से बिष्टुपुर आ रहे हैं तो सावधान हो जाइए. पुल के किसी पार भी जमशेदपुर पुलिस की पीसीआर वैन नंबर-7 से सामना होते ही मुश्किल में पड़ना तय है. यह मायने नहीं रखता कि वक्त रात का है या दिन का. वैन के चालक समेत उस पर सवार पुलिसकर्मियों का चेकिंग के नाम पर आपको परेशान करना तय है. यह परेशानी तब और बढ़ जाएगी यदि आप जाने-अनजाने में बिष्टुपुर से ब्रिज पार कर आदित्यपुर तक पहुंच गये हों, क्योंकि वैन चालक और उस पर सवार पुलिसकर्मी आपका पीछा नहीं छोड़नेवाले हैं. भले ही आप आदित्यपुर तक क्यों न चल जाए. वाहन चेकिंग करना है तो करना है, चाहे बीच सड़क पर आपका एक्सीडेंट ही क्यों न हो जाए. मतलब साफ है क‍ि जिन चालकों का इस पीसीआर वैन के पुलिसकर्मियों से पाला पड़ चुका है वे अपराधियों से नहीं, बल्कि अब उन पुलिसवालों से डरने लगे हैं, जो वैन के आसपास खड़े या वाहन में बैठे रहते हैं. (नीचे भी पढ़ें)

 

 

 

Catalyst IAS
ram janam hospital

आदि‍त्‍यपुर में जयप्रकाश उद्यान के सामने खड़ा जमशेदपुर पुलिस का पीसीआर वाहन.

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

बात अपराध नियंत्रण की हो तो होता है टाल-मटोल
यह वही पुलिस है जो आपराधिक घटना होने पर जिले की सीमा की बात करते हुए जांच में टाल-मटोल करने लगती है. पूर्व में कई ऐसे मामले आ चुके हैं जिसमें नदी में किसी का शव मिला हो. उस तरह के मामले में जमशेदपुर पुलिस आदित्यपुर पुलिस का मामला बताते हुए पल्ला झाड़ने की कोशिश करती है. इसी तरह का मामला बीच पुल पर भी किसी तरह की घटना होने पर सामने आने लगता है, लेकिन जब बात वाहन चेकिंग के नाम पर आदित्यपुर तक दौड़ाकर चालक को पकड़ने की होती है तो पीसीआर वैन के पुलिसकर्मी सारा कुछ भुलकर अपने मिशन में जुट जाते हैं. (नीचे भी पढ़ें)
मंगलवार को गैस स‍िलेंडर लदा टेंपो चालक बना शिकार

आदित्यपुर में वाहनों को रोकता जमशेदपुर का पुलिसकर्मी.

मंगलवार को उस समय पुलिस की कारगुजारी की पोल खुल गयी जब एक गैस सि‍लेंडर लगा डाला टेंपो का पीछा करते हुए पीसीआर वैन तेज रफ्तार से पुल पाकर करते हुए आदित्यपुर जा पहुंची. उसके बाद पुलिसकर्मियों ने टेंपो चालक की जमकर क्लास ली. उसे नियम-कानून का हवाला देते हुए सरेआम डराया-धमकाया जाने लगा. पुलिस का यह रवैया राहगीरों के बीच देर तक चर्चा का विषय बना रहा.

आदित्यपुर में वाहन पकड़ने के पहले पुलिया के इस तरफ वसूली करता जवान.

पुराने ब्रिज के पास बना रहता है एक्सीडेंट का खतरा
सबसे अधिक खतरा खरकाई पुराना ब्रिज के पास बना रहता है क्योंकि पुल पार कर जमशेदपुर की ओर पहुंचते ही वाहन चालकों को खतरनाक मोड़ से गुजरना होता है. यह मोड़ खत्म होते ही सामने पीसीआर वैन लगा रहता है. वहां अचानक हेलमेट चेकिंग के नाम पर दोपहिया वाहनों को रोका भी जाता है. ऐसे में कई बार चार पहिया वाहन चालकों के समक्ष अजीबो-गरीब स्थिति उत्पन्न हो जाती है. क्योंकि आगे चल रहे वाहन के एकाएक रुकने से एक्सीडेंट का खतरा बन जाता है. खासकर तब जब वाहन की गति अचानक नियंत्रित करना पड़ जाए. यह पुल पार करनेवाले वाहन चालकों के लिए बड़ी परेशानी का सबब बना हुआ है.

खास परिस्‍थ‍ित‍ि में ही पीसीआर वाहन को वाहन जांच का ज‍िम्‍मा दिया जाता है. पर पीसीआर वाहन दूसरे ज‍िले में जाकर जांच करने के ल‍िए अध‍िकृत नहीं है. अगर दूसरे ज‍िले में जाकर जांच करने की बात सही पायी गई तो कार्रवाई होगी.
– के व‍िजय शंकर, स‍िटी एसपी जमशेदपुर

ये भी पढ़ें- पालोनजी म‍िस्‍त्री का न‍िधन, शापूरजी पालोनजी ग्रुप के चेयरमैन के पुत्र साइरस म‍िस्‍त्री रह चुके हैं टाटा ग्रुप के चेयरमैन

Related Articles

Back to top button