JamshedpurJharkhand

जमशेदपुर : चुनाव में सीएम से पूछेगी जनता! पड़ोस में है #MGM, फिर भी शहर का सबसे बड़ा अस्पताल बदहाल क्यों है

Abinash Mishra

Jamshedpur : घर-घर रघुवर का नारा तो भाजपा ने तय कर दिया. लेकिन कार्यकर्ता जब इस नारे के साथ घर-घर जाएंगे तो खुद सीएम के इलाके में ही जनता सीएम से MGM अस्पताल की दुर्दशा पर सवाल करेगी. सीएम रघुवर दास के एग्रीको आवास से महज ढाई किलोमीटर पर MGM अस्पताल है, लेकिन बीते चार सालों में शायद ही रघुवर दास का कार्केड MGM की तरफ मुडा हो. शायद यह मानने को तैयार न हों कि जिले का सबसे बड़ा अस्पताल उनका पड़ोसी है या फिर अस्पताल के अधिकारियों को इसका थोड़ा सा भी एहसास नहीं होगा कि राज्य के मुखिया उनकी बगल से ही हैं.

आम जनों के अनुसार इसीलिए आज तक न तो कोई बदलाव एमजीएम में दिखा और न ही कभी सीएम एमजीएम के दरवाजे पर रुके. लेकिन अब चुनाव दस्तक दे रहा है ऐसे में जिले के लोगो से ज्यादा उनके क्षेत्र की जनता ही यह सवाल कर रही है की पड़ोसी होने के बावजूद  एमजीएम के लिए क्यों कुछ नहीं किया गया.

Sanjeevani

इसे भी पढ़ें – #JPSC की कार्यशैली पर लगातार प्रतिक्रिया दे रहे हैं छात्र, पढ़ें-क्या कहा छात्रों ने…. (छात्रों की प्रतिक्रिया का अपडेट हर घंटे)

चार सितंबर को एमजीएम से बच्चा चोरी

मामला चार सितंबर का है. रात के समय शिशु वार्ड से एक अज्ञात महिला नवजात को लेकर फरार हो गई. सीसीटीवी फुटेज में महिला नवजात ले जाते हुए कैद भी हुई. आज तक उसे पुलिस तलाश ही रही है. नवजात का कुछ आता पता नही चल सका है. सवाल यह कि अस्पताल की सुरक्षा व्यवस्था कैसी है. वार्ड से वच्चा चोरी हो जाता है और किसी को भनक तक नही लगती.. कैसे अज्ञात महिला शिशु वार्ड तक पहुंच भी जाती है और घटना को अंजाम देने में सफल हो जाती है.

इसे भी पढ़ें – स्टेन स्वामी को नहीं मिली हाइकोर्ट से राहत, निचली अदालत से जारी वारंट को निरस्त करने की मांग की थी

तेज बारिश नें किस कदर कहर बरसाया

जमशेदपुर में 15 अगस्त को हुई तेज बारिश नें किस कदर कहर बरसाया था, याद ही होगा. गली मुहल्ले तो छोड़िए एमजीएम अस्पताल के इमरजेसी वार्ड समेत कई वार्डों में घुटने भर पानी भर गया था. यहां तक कि हाथ में पकड़ कर ऑक्सीजन मरीजों को दिया जा रहा था. फोटो भी खूब वायरल हुए थे.

आम जन का आरोप है कि सुरक्षाकर्मियों को सुरक्षा से ज्यादा अपनी जेब की पड़ी रहती है. आरोप है कि अस्पतालकर्मी मरीजो से हर काम के लिए पैसे वसूलने में लगे रहते हैं. 50 से 200 रुपए के बीच फिक्स है. डॉक्टरों से जल्दी समय दिलाने की बात हो या किसी तरह की जांच हो, पैसे वसूलने की बात सामने आती है. लोगों की मानें तो एमजीएम अस्पताल भ्रष्टाचार का मैदान बन गया है

चुनाव में विपक्ष के लिए MGM बडा मुद्दा

विधान सभा चुनाव में विपक्ष के हाथों एसजीएम जैसा बड़ा मुद्दा हाथ लग गया है. इसी मुद्दे पर सीएम को घेरने के लिए JMM ने उन्ही के क्षेत्र के एग्रीको मैदान से बदलाव रैली की शुरुआत करने का एलान भी किया है. दरअसल घर-घर रघुवर…नारे के जवाब में JMM सीएम से उन्ही के घर का सवाल उन्ही के घर में जाकर पूछने की ताक में है.

इसे भी पढ़ें – #Newtrafficrules: भाजपा के सांसद और विपक्ष के विधायक सभी कर रहे हैं नये ट्रैफिक नियमों लिए अतिरिक्त समय की मांग

Related Articles

Back to top button