न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जमशेदपुर: जिला कार्यालय खाली करने का विरोध नहीं झेल सकी जमशेदपुर भाजपा,  नई जगह हो रही है बैठकें

191

Jamshedpur :  रघुवर दास के चुनाव हारने के बाद जिला कार्यालय खाली करने को लेकर भाजपा से हटाये गये नेताओं के विरोध को भाजपा नहीं झेल सकी. जमशेदपुर भाजपा ने कार्यालय खाली करने का मन बना लिया है.

फिलहाल साकची में ही टाटा स्टील के एक क्वार्टर भजापा के बैठकों का दौर चल रहा है. साथ ही पार्टी का काम-काज भी वहीं से चलाया जा रहा है. पार्टी नई जगह की तलाश कर रही है. लेकिन अब तक तय नहीं हो पाया है कि कौन सी जगह कार्यालय के लिए उपयूक्त होगी.

Sport House

हालांकि इतना तय माना जा रहा है कि भाजपा का जिला कार्यालय साकची में ही होगा. ताकि कार्यकर्ताओं को आने-जाने में परेशानी न हो.

आपको बता दें की भाजपा का पुराना जिला कार्यलय भी साकची गोलचक्कर के पास था. माना ये भी जा रहा है कि जिस क्वार्टर से फिलहाल भाजपा काम कर रही है, समय पर नई जगह नही मिली तो बाद में इसे ही स्थायी कार्यालय बना लिया जाएगा.

इसे भी पढ़ेंः #NSC सर्टिफिकेट के जरिये बैंकों को करोड़ों रुपये का चूना लगाने वाले चार शातिर हुए गिरफ्तार

Mayfair 2-1-2020

किसके क्वार्टर से चल रहा है काम

कार्यालय को लेकर हुई बैठक में भाजपा कार्यकर्ता व नेता.

टाटा स्टील के साकची स्थित जिस क्वार्टर में फिलहाल भाजपा की बैठकें चल रही हैं वो दरअसल जिला अध्यक्ष दिनेश कुमार का है. टाटा स्टील ने ये क्वार्टर दिनेश कुमार को आवंटित किया है. जहां त्तत्काल भाजपा शिफ्ट हुई है.

जिला अध्यक्ष दिनेश कुमार का कहना है, ये क्वार्टर उनके नाम से अवटिंत हुआ है. जहां दफ्तर कुछ वक्त के लिए शिफ्ट किया गया है. पार्टी नई जगह की तलाश में है जो साकची में ही होगा. नई जगह के लिए टाटा स्टील से भी बातचीत चल रही है.

जिसमें वक्त लग सकता है. इसीलिए तत्काल इसी क्वार्टर से काम-काज के आलावा कार्यसमीति की बैठके हो रहीं हैं.

इसे भी पढ़ेंः कनहर बराज प्रोजेक्ट : मुख्य सचिव का राज्यों की सीमा पर स्थित जमीन की मालिकाना स्थिति 28 फरवरी तक स्पष्ट करने का निर्देश  

क्यों खाली करना पड़ा दफ्तर

चुनाव के बाद भाजपा ने कई नेताओं को पार्टी से निकालने की लिस्ट जारी की थी. जिससे नाराज नेताओं ने भाजपा को जिला कार्यालय खाली करने का कहा था. हटाये गये नेताओं में से एक रतन महतो का कहना था कि जिला कार्यालय के लिए उन लोगों ने मेहनत की है.

और जब वो ही पार्टी में नहीं है तो फिर दफ्तर पर भाजपा का हक कैसे. उसके बाद से रतन महतो और उनके समर्थक रोज जिला कार्यालय के बाहर बैठकर कार्यालय़ खाली करने का पार्टी पर दबाव बना रहे थे.

इसे भी पढ़ेंः अस्पतालों में मरीजों का इलाज संवेदनशील होकर करें डॉक्टर :  हेमंत सोरेन

SP Deoghar

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like