न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जमशेदपुर: सब्सिडियरी कंपनी स्टील स्ट्रिप्स पर टाटा मोटर्स के ब्लॉक क्लोजर का असर, 55 जूनियर ऑफिसर को इस्तीफा देने का आदेश

1,042

Jamshedpur: टाटा मोटर्स की सब्सिडियरी कंपनी स्टील स्ट्रिप्स व्हील्स ने अपने 55 ऑफिसरों को नौकरी से निकालने का मन बना लिया है. सभी को इस्तीफा सौंपने के आदेश दिया गया है.

सभी कर्मी कंपनी में जूनियर ऑफिसर के पद पर हैं और 31 अक्टूबर को उनका आखिरी वर्किंग डे होगा. स्टील स्ट्रिप्स के गोविंदपुर प्लांट से 25 कर्मी और सरायकेला जिले के कोलेबिरा प्लांट से 30 कर्मियों के नाम इस लिस्ट में शामिल हैं.

वाहन उद्योग में मंदी के चलते टाटा मोटर्स पर निर्भर सबसे बड़ी कंपनी में इस्तीफे के आदेश ने खलबली मचा दी है. सूत्रों की मानें तो कंपनी में अभी और छंटनी संभव है.

कर्मचारियों के बीच चर्चा है कि कंपनी के गोविंदपुर शाखा से 60 और कोलेबिरा शाखा से कम से कम 40 और कर्मियों पर मंदी की गाज गिर सकती है.

इसे भी पढ़ें- मांडू के बागी विधायक जेपी पटेल की पहचान इतनी कि वे टेकलाल महतो के बेटे हैं : फागू बेसरा

क्या बनाती है स्टील स्ट्रिप्स

स्टील स्ट्रिप्स के दोनों प्लांट को सभी ऑर्डर टाटा मोटर्स से मिलते हैं. टाटा मोटर्स को स्टील स्ट्रिप्स रिम, नट बोल्ट, रबर के सामान और कास्टिंग सप्लाई करती है.

मंदी के चलते जहां टाटा मोटर्स में वाहनों की संख्या कम होने से ब्लॉक क्लोजर का सिलसिला थम नहीं रहा है, तो वहीं स्टील स्ट्रिप्स को भी बीते तीन महीने से टाटा मोटर्स ने कोई ऑर्डर नहीं दिया है.

Sport House

लिहाजा स्टील स्ट्रिप्स में भी उत्पादन घट गया है. कंपनी ने साल भर पर पहले ऑटोमोबाइल और आइटीआइ सेक्टर से कई लोगों को बहाल भी किया था. लेकिन मंदी के असर से कंपनी ऐसे फैसले के लिए मजबूर हो गयी है.

ऑटोमोबाइल विशेषज्ञों की माने तो मंदी के बादल 2021 के शुरुआत से छंटने लगेंगे. लेकिन अभी हालात ये हैं कि कंपनियां जरूरत भर कर्मचारियों का भी बोझ सहने में असमर्थ दिख रही हैं.

इसे भी पढ़ें- #Article370 हटाने के फैसले पर भारत के साथ अमेरिका लेकिन कश्मीर के हालात पर जताई चिंता

कम बोनस से पहले ही थी निराशा

स्टील स्ट्रिप्स में छंटनी को लेकर बातें दुर्गा पूजा से पहले ही उठने लगी थीं. मंदी के कारण कंपनी बोनस के पक्ष में नहीं थी. लेकिन यूनियन के दबाव में कंपनी ने बोनस को मंजूरी तो दी लेकिन बीते साल से कम बोनस मिलने से कर्मियों को निराशा हुई.

बीते साल के 12 प्रतिशत बोनस के मुकाबले इस साल त्यौहार में कर्मियों को साढ़े 8 प्रतिशत से भी कम बोनस मिला. कम बोनस के चलते कर्मियों के बीच यह डर था कि पूजा के समय ही बोनस के साथ छंटनी के आदेश भी आयेंगे, लेकिन तब पूजा के माहौल को देखते हुए इस्तीफे के आदेश को रोक दिया गया था.

Mayfair 2-1-2020
SP Jamshedpur 24/01/2020-30/01/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like