JamshedpurJharkhand

Jamshedpur : सैर-सपाटा हुआ महंगा, बावजूद हिल स्टेशनों की सैर कर रहे शहरवासी

कोविड के बाद टूर एंड ट्रेवल बिजनेस में आई तेजी

Jamshedpur : कोविड के बाद जमशेदपुर के युवाओं में स्पोर्ट्स टूरिज्म का क्रेज तेजी से बढ़ा है. 20 से 25 साल के युवा हिल स्टेशनों में केवल घूमने और मस्ती करने की बजाय अब ट्रैकिंग पर जाना ज्यादा पसंद कर रहे हैं. पढ़ाई करने के साथ ही नौकरी और व्यवसाय करने वाले युवा भी हिल स्टेशनों में ट्रैकिंग पर जाना पसंद कर रहे हैं.

देश की कई एडवेंचर कंपनियां युवाओं को ट्रैकिंग करा रहा

शहर में अंजिनी ट्रेवल एंड टूर के ट्रेवल कंसलटेंट अंकित बजाज बताते है कि शहर के युवाओं में कोविड के बाद ट्रैकिंग पर जाने का क्रेज जबर्दस्त बढ़ा है. टाटा स्टील एडवेंचर फाउंडेशन के साथ ही देश की कई एडवेंचर कंपनियां हैं, जो युवाओं को ट्रैकिंग करा रही है. एडवेंचर स्पोर्ट्स के बढ़े क्रेज के चलते ट्रेवल कंपनियों को भी बिजनेस करना का नया मौका मिला है. ऐसे ट्रैकिंग पर जाने वाले युवा टूर पैकेज काफी ले रहे हैं. ऐसे ट्रैकिंग टूर ज्यादातर ग्रुप में हो रहे हैं.

प्री कोविड के मुकाबले बिजनेस 30 फीसदी तक बढ़ा

अंकित बताते है कि कोविड के दो साल के बाद पहली बार गर्मियों की छुटि्टयों में लोग बाहर निकल रहे हैं. दो साल से लोग घरों में कैद थे. ऐसे में स्कूल बंद होते ही टूर पैकेज का डिमांड काफी बढ़ गया है. घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय दोनों के लिए अभी मारामारी है. आलम यह है कि अच्छे होटल नहीं मिल रहे हैं. कोविड के पहले हमारा जो बिजनेस था, उसमें 20 से 30 फीसदी की बढ़ोतरी हो गई है. पर्यटकों की संख्या में अप्रत्याशित बढ़ोतरी के चलते हिल स्टेशनों में होटल की मांग भी काफी है. हमेशा की तरह कश्मीर, शिमला, मनाली, गंगटोक और दार्जीलिंग लोग ज्यादा जाना पसंद कर रहे हैं. विदेश में अभी भी थाइलैंड और सिंगापुर फेवरेट डेस्टिनेशंस हैं.

टूर पैकेज भी हो गये महंगे

अंकित बजाज ने बताया कि कोविड के बाद टूर पैकेज भी 30 से 40 फीसदी महंगे हो गये हैं. एयरलाइंस के भाड़े बढ़ने के साथ ही वाहनों के फेयर भी काफी बढ़ गये हैं, क्योंकि डीजल और पेट्रोल की कीमतें बढ़ी है. इसके चलते होटल भी महंगे हो गये हैं. खाने-पीने के सामान की कीमत भी बढ़ गई हैं. महंगाई के बावजूद इस साल लोग बाहर निकल रहे हैं. वे पैसे खर्च करने को तैयार हैं, क्योंकि दो साल से बाहर नहीं निकले हैं. कई लोग होते हैं जिनके सालाना बजट में सैर करना भी शामिल होता है.

ये भी पढ़ें- 34वें राष्ट्रीय खेल घोटाला: CBI को मिले निर्माण से जुड़े दस्तावेज

Advt

Related Articles

Back to top button