JamshedpurJharkhandJharkhand Vidhansabha Election

#Jamshedpur : पूर्वी जमशेदपुर पर सीएम को सीधी चुनौती देंगे डॉ अजय, शंभू चौधरी के लिए छोड़ी पश्चिमी सीट

Abinash Mishra

Ranchi : आम आदमी पार्टी और डॉ अजय दोनों झारखंड में अपनी जमीन तलाश रहे हैं. इसीलिए डॉ अजय सीएम रघुवर दास को उनके क्षेत्र से ही चुनौती देने के मूड में है.

डॉ अजय जानते हैं कि अगर वो रघुवर को पटखनी देने में सफल हो जाते हैं तो पार्टी से प्रभावशाली लोग तो जुड़ेंगे ही खुद वो भी राजनीतिक गलियारों में अपनी धाक जमाने में सफल होंगे.

Catalyst IAS
ram janam hospital

शायद इसीलिए डॉ अजय इसे अपने लिए बेहतरीन मौका समझ रहे हैं. कांग्रेस छोड़ने के बाद से ही डॉ अजय के पश्चिमी जमशेदपुर से लड़ने की अटकलें लगती रही थीं. लेकिन उनके आप में शामिल होने के बाद से ही इन अटकलों पर विराम लग गया.

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

आप नेताओं के बीच लगभग ये तय हो चुका है कि डॉ अजय में रघुवर को हराने का माद्दा है और सफलता मिलने से भविष्य के लिए ये अच्छा संकेत होगा.

पार्टी के नेताओं का मानना है कि हरियाणा और राजस्थान के चुनावी नतीजों ने ये साबित कर दिया है कि भाजपा या नरेंद्र मोदी के नाम पर अब चुनाव नहीं जीता जा सकता. लिहाजा इस चुनाव में भी सब कुछ संभव है.

पार्टी को यकीन है कि डॉ अजय का व्यक्तित्व और इमानदार छवि रघुवर पर भारी पड़ेंगे.

इसे भी पढ़ें : #JharkhandElection : पार्टी की जीत से ज्यादा अपने टिकट की लॉबिंग में जुटे हैं सीनियर कांग्रेसी!

क्यों छोड़ी पश्चिमी जमशेदपुर सीट

दऱअसल जमशेदपुर सीट पर आप महानगर अध्यक्ष शंभू चौधरी की नजर पहले से ही है. इस इलाके में शंभू चौधरी जाने-माने नेता हैं. वे लंबे समय से चुनाव की तैयारी में जुटे हुए हैं.

डॉ अजय के आप में शामिल होने के बाद शंभू चौधरी का टिकट कटने की भी खबर थी. लेकिन पार्टी के अंदर से ही खबर है कि डॉ अजय ने खुद पूर्वी से चुनाव लड़ने की पेशकश रखी है.

आप नेताओं ने मिलकर तय किया है कि चुनाव लड़ने के साथ-साथ पार्टी की साख भी राज्य में मजबूत करनी है जिसके लिए पार्टी बड़े रिस्क उठाने से भी पीछे नहीं हटेगी.

अजेय रहे हैं रघुवर

पिछले 20 साल से रघुवर इस क्षेत्र से लगभग अजेय हैं. चार बार के चुनाव में कोई नेता उनके पास भी फटक नहीं सके हैं. 2009 में आनंद बिहारी दुबे को और 2014 में जेवीएम के केंद्रीय महासचिव अभय सिंह को हराया है.

दोनो बार कॉम्पिटीशन दूसरे और तीसरे नंबर के लिए ही रहा. दोनों चुनावी नतीजों में कोई भी रघुवर के करीब भी नहीं पहुंच सका.

इसे भी पढ़ें : क्या चंदनकियारी सीट बन रही है गठबंधन में रोड़ा,  बीजेपी 110 परसेंट लड़ने को तैयार, आजसू छोड़ने को नहीं है तैयार

कांग्रेस से 11 दावेदार

हैरान करने वाली बात ये है कि रघुवर के अजेय होने के बावजूद दूसरे दलों से रघुवर दास के खिलाफ चुनाव लड़ने वालों की कोई कमी नहीं. कमी है तो केवल भाजपा में, जहां रघुवर मात्र एक विकल्प हैं.

खबर है कि जमशेदपुर कांग्रेस ने रघुवर के इलाके से 11 इच्छुक नेताओं की लिस्ट दिल्ली भेज दी है जिसमें अनंद बिहारी दुबे तो हैं ही, इटंक के राष्ट्रीय सचिव राकेश्वर पांडेय, मालिकाना हक के लिए आंदोलन करने वाले मुन्ना शर्मा, पूर्व जिला अध्यक्ष रवींद्र झा और जिला उपाध्यक्ष एलबी सिंह जैसे नेताओं के नाम शामिल हैं.

रघुवर दास की मजबूत दावेदारी के बावजूद कांग्रेस में रघुवर के खिलाफ लड़ने के लिए नेताओं की बाढ़ समझ से परे ही लगता है.

इसे भी पढ़ें : #JPSC – छठी सिविल सेवा परीक्षा का 6 साल में तीन बार निकाला रिजल्ट, नहीं सुलझा आरक्षण संबंधी विवाद

Related Articles

Back to top button