National

जम्मू कश्मीर: बीजेपी के तीन कार्यकर्ताओं की हत्या के बाद आतंकी संगठन TRF ने दी धमकी

Shri Nagar:  जम्मू कश्मीर के कुलगामा जिले में गुरुवार को आतंकवादियों ने भाजपा के तीन कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या कर दी. लश्कर-ए-तैयबा के मुखौटा संगठन माने जाने वाले ‘द रेजिस्टेंस फ्रंट’ (टीआरएफ) ने इन हत्याओं की जिम्मेदारी ली है. इस वारदात के बाद टीआरएफ ने सोशल मीडिया पर धमकी भरा पोस्ट भी किया है.

Jharkhand Rai

इसे भी पढ़ेंः पश्चिम बंगाल के राज्यपाल अमित शाह से मिले, तो तृणमूल ने भाजपा का लाउडस्पीकर करार दिया

बीजेपी के तीन कार्यकर्ताओं की हत्या

बता दें कि गुरुवार देर शाम कुलगाम जिले के वाई के पोरा इलाके में फिदा हुसैन, उमर हाजम एवं उमर राशीद बेग की आतंकवादियों ने गोली मारकर हत्या कर दी. पुलिस अधिकारी ने बताया कि पीड़ितों को काजीगुंड के एक स्थानीय अस्पताल ले जाया गया जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

लश्कर के ही संगठन टीआरएफ ने इस वारदात की जिम्मेवारी ली है. साथ ही अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर हिंदी और अंग्रेजी में धमकी भरा संदेश भी पोस्ट किया है. पोस्ट में कहा गया है कि ‘कब्रिस्तान भर जायेंगे.’

गौरतलब है कि लश्कर ए तैयबा के ही संगठन TRF को पिछले कुछ वक्त पहले ही बनाया गया है, जिसमें जम्मू-कश्मीर के स्थानीय आतंकियों को शामिल किया गया है. इस आतंकी संगठन की सोशल मीडिया में मौजूदगी है और वहां से ही ये अपनी ब्रैंडिंग करने में जुटा रहता है.

उल्लेखनीय है कि जम्मू-कश्मीर में जून से भाजपा कार्यकर्ताओं और नेताओं पर आतंकवादी हमले बढ़ गए हैं. अब तक ऐसे सात लोगों की हत्या की जा चुकी है. जुलाई में बांदीपुरा में ऐसे ही हमले में भाजपा नेता, उनके पिता और भाई की आतंकवादियों ने हत्या कर दी थी.
इसे भी पढ़ेंः विश्व बैंक को 2020 में भारत भेजी जाने वाली धनराशि में नौ फीसदी की गिरावट का अंदेशा

प्रधानमंत्री मोदी ने की निंदा

इधर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर में भाजपा के तीन कार्यकर्ताओं की हत्या की निंदा करते हुए कहा कि वे ऊर्जावान युवा वहां शानदार काम कर रहे थे.

पीएम मोदी ने ट्वीट किया, ‘मैं अपने तीन युवा कार्यकर्ताओं की हत्या की निंदा करता हूं. वे ऊर्जावान युवा जम्मू-कश्मीर में शानदार काम कर रहे थे. शोक की इस घड़ी में उनके परिवारों के प्रति मेरी संवेदनाएं. भगवान उनकी आत्मा को शांति दें.’

वहीं जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने भी राजनीतिक कार्यकर्ताओं की हत्या की निंदा की है. उन्होंने कहा कि हिंसा करने वाले मानवता के शत्रु हैं और ऐसे कायरतापूर्ण कृत्यों को जायज नहीं ठहराया जा सकता.

इसे भी पढ़ेंः कहीं आपकी जमीन पर तो नहीं पड़ रही ‘मास्टर प्लान 2037’ की आंच, चेक करें और 31 दिसंबर तक दर्ज करायें आपत्ति

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: