न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जम्मू-कश्मीर :  प्रेस काउंसिल ने मीडिया प्रतिबंध का समर्थन किया,  प्रेस एसोसिएशन ने नाराजगी जतायी

पीसीआई अध्यक्ष जस्टिस चंद्रमौली कुमार प्रसाद ने सुप्रीम कोर्ट में कश्मीर टाइम्स की कार्यकारी संपादक अनुराधा भसीन द्वारा दायर याचिका में हस्तक्षेप करने की मांग की है.

237

NewDelhi : मान्यता प्राप्त पत्रकारों का संगठन प्रेस एसोसिएशन  भारतीय प्रेस परिषद से नाराज है. खबरों के अनुसार भारत में मान्यता प्राप्त पत्रकारों के एकमात्र संगठन प्रेस एसोसिएशन ने भारतीय प्रेस परिषद  के उस कदम पर गहरी आपत्ति जताई है जिसमें पीसीआई अध्यक्ष जस्टिस चंद्रमौली कुमार प्रसाद ने सुप्रीम कोर्ट में कश्मीर टाइम्स की कार्यकारी संपादक अनुराधा भसीन द्वारा दायर याचिका में हस्तक्षेप करने की मांग की है.

जान लें कि शुक्रवार को पीसीआई अध्यक्ष ने परिषद को बताये बिना मामले में दखल देने के लिए सुप्रीम कोर्ट से अनुमति मांगी थी, जिससे पीसीआई के दो सदस्य नाराज हो गये. पीसीआई की ओर से यह अनुरोध शुक्रवार को वकील अंशुमन अशोक ने किया था. पीसीआई ने अपने आवेदन में  जम्मू-कश्मीर में संचार माध्यमों पर प्रतिबंध को न्यायोचित ठहराया है.  कहा  है कि सुरक्षा कारणों से मीडिया पर तर्कसंगत रोक लगाई गयी है.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इसे भी पढ़ें- विपक्षी दलों ने श्रीनगर DM पर गलत तरीके से रोकने का आरोप लगाया

यह राष्ट्रीय एकता और संप्रभुता का मामला है

पीसीआई ने कहा कि भसीन की याचिका में एक तरफ पत्रकारो, मीडियाकर्मियों के निष्पक्ष एवं स्वतंत्र रिपोर्टिंग के अधिकार पर चिंता जताई गयी है,  दूसरी तरफ राष्ट्रीय एकता और संप्रभुता का मामला है, इसलिए परिषद् का मानना है कि इसे अपना विचार सुप्रीम कोर्ट के समक्ष पेश करना चाहिए और प्रेस की स्वतंत्रता के साथ ही राष्ट्र हित में उनकी याचिका पर निर्णय करने में सहयोग करना चाहिए.

10 अगस्त को अनुराधा भसीन ने सुप्रीम कोर्ट में  याचिका दाखिल कर जम्मू कश्मीर में मीडिया पर लगाये गये प्रतिबंधों को चुनौती दी थी. याचिका में राज्य में मोबाइल, इंटरनेट और लैंडलाइन सेवाओं पर लगाये गये सभी प्रतिबंधों में तत्काल ढील देने की मांग की थी ताकि पत्रकार अपना काम कर सकें.

इसे भी पढ़ें- अरुण जेटली का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार, पार्थिव शरीर पंचतत्व में विलीन
Related Posts

#Delhi_ Violence : जांच के लिए दो एसआइटी का गठन,  आप पार्षद ताहिर हुसैन पर एफआइआर दर्ज, फैक्ट्री सील

दिल्ली हिंसा की जांच के लिए विशेष जांच टीम (एसआईटी) का गठन किया गया है.  दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच के तहत दो एसआईटी का गठन किया गया है.

परिषद को विश्वास में नहीं लिया गया

प्रेस एसोसिएशन के दो सदस्यों जयशंकर गुप्ता और सीके नायक ने आश्चर्य जताते हुए कहा कि ऐसे गंभीर मामले में परिषद को विश्वास में नहीं लिया गया. बता दें कि, परिषद के अध्यक्ष गुप्ता और परिषद के महासचिव नायक दोनों पीसीआई के भी मौजूदा सदस्य हैं.उन्होंने एक बयान जारी करते हुए कहा कि 22 अगस्त को पूरे दिन काउंसिल की मीटिंग चली थी और उस दौरान इस याचिका का कोई जिक्र नहीं हुआ था, जिसे मीटिंग के दौरान ही सुप्रीम कोर्ट में दाखिल किया गया था.

बयान में कहा गया कि बैठक में जम्मू-कश्मीर में मीडिया की स्थिति पर चिंता जाहिर करते हुए सदस्यों ने प्रस्ताव भी पेश किया था. उन्होंने दावा किया कि इस मामले पर न तो विचार किया गया और न ही इस पर सदस्यों के विचार मांगे गये. कहा कि जम्मू-कश्मीर में मीडिया की स्थिति को देखते हुए परिषद ने एक कमेटी का गठन भी किया था लेकिन अध्यक्ष ने कभी भी किसी लिखित याचिका की चर्चा नहीं की.

इस क्रम में बयान में  कहा गया है कि पीसीआई के दो मुख्य उद्देश्य प्रेस की स्वतंत्रता बनाये रखना और पत्रकारिता की गुणवत्ता में लगातार वृद्धि करना है. लेकिन पांच अगस्त के बाद से जम्मू-कश्मीर में ना ही कोई अखबार प्रकाशित हो पाया है और ना ही कोई न्यूज एजेंसी अपना काम कर पायी है. मीडिया पर लगे प्रतिबंधो का समर्थन करने पर आउटलुक मैगजीन के पूर्व संपादक और पीसीआई के पूर्व सदस्य कृष्णा प्रसाद ने पीसीआई के कदम की आलोचना की और कहा कि यह जिम्मेदारियों को त्यागने की शर्मनाक हरकत है.

द वायर के अनुसार उन्होने कहा कि लोगों के नाम पर संसद के प्रावधान के तहत गठित प्रेस काउंसिल अगर एक स्वतंत्र मीडिया को देश की स्वायत्तता के खतरे के रूप में देखती है और अगर उसे लगता है कि विशेष परिस्थिति में पाठकों और दर्शकों को अंधेरे में रखा जा सकता है तो यह भारतीय लोकतंत्र के लिए दुखद दिन है.

इसे भी पढ़ें- टॉप सात कंपनियों  को बाजार पूंजीकरण में 86,880 करोड़ का नुकसान

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like