न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जम्मू-कश्मीर : राज्य सचिवालय भवन से जम्मू-कश्मीर का झंडा हटा,  सिर्फ तिरंगा लहराया

जम्मू कश्मीर में अब तक अलग निशान (झंडे) और अलग विधान की परंपरा चली आ रही थी.

223

Srinagar : रविवार को श्रीनगर स्थित राज्य सचिवालय की बिल्डिंग से जम्मू-कश्मीर का झंडा हटा दिया गया.  बता दें कि आर्टिकल  370 हटने के बाद भी  दोनों झंडे लगे हुए थे. जान लें कि जम्मू कश्मीर में अब तक अलग निशान (झंडे) और अलग विधान की परंपरा चली आ रही थी.  आर्टिकल 370 खत्म करने के साथ अलग विधान को सरकार पहले ही खत्म कर चुकी है, अब वहां अलग निशान भी देखने को नहीं मिलेगा.

अधिकारियों के अनुसार अब राज्य सरकार से जुड़ी सभी इमारतों पर सिर्फ तिरंगा ही फहराया जायेगा.  आर्टिकल  370 के प्रावधान हटने के बाद भारतीय दंड संहिता और भारत का पूरा संविधान जम्मू-कश्मीर पर भी लागू हो गया.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इसे भी पढ़ें- विपक्षी दलों ने श्रीनगर DM पर गलत तरीके से रोकने का आरोप लगाया

Related Posts

#Delhi_ Violence : जांच के लिए दो एसआइटी का गठन,  आप पार्षद ताहिर हुसैन पर एफआइआर दर्ज, फैक्ट्री सील

दिल्ली हिंसा की जांच के लिए विशेष जांच टीम (एसआईटी) का गठन किया गया है.  दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच के तहत दो एसआईटी का गठन किया गया है.

आर्टिकल 370 हटने से पहले तक सचिवालय पर दोनों झंडे लगते थे

आर्टिकल 370 हटने से पहले तक सचिवालय पर दोनों झंडे लगते थे.  राज्य के सचिवालय की ताजा तस्वीर में सिर्फ तिरंगा लहराता दिख रहा है.  वहीं जम्मू कश्मीर का झंडा अब हटा दिया गया है. पांच अगस्त को आर्टिकल 370 हटाने से पहले ही केंद्र सरकार पूरी तरह तैयार थी.  पूरे जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गयी थी.  ज्यादातर इलाकों में अभी भी धारा 144 लागू है, जिसमें धीरे-धीरे ढील दी जा रही है.

राज्य के कई प्रमुख नेता अभी नजरबंद हैं. सूत्रों के अनुसार कहा जा रहा है कि जल्द ही इन नेताओं से बातचीत करके और उन्हें विश्वास में लेकर पूरे राज्य से पाबंदियां हटाई जा सकती हैं. आर्टिकल 370 हटाने के साथ ही जम्मू-कश्मीर को दो हिस्सों में बांट दिया गया है.  जम्मू-कश्मीर और लद्दाख.  दोनों केंद्र शासित प्रदेश बना दिये गये  हैं. जान लें कि  जम्मू-कश्मीर में विधानसभा होगी और वहां चुनाव  कराये जायेंगे. लद्दाख चंडीगढ़ की तरह बिना विधानसभा वाला केंद्र शासित प्रदेश रहेगा.

इसे भी पढ़ें- टॉप सात कंपनियों  को बाजार पूंजीकरण में 86,880 करोड़ का नुकसान

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like