Fashion/Film/T.VTOP SLIDER

नहीं रहा बड़े पर्दे पर राज करनेवाला ‘जेम्स बॉन्ड’

  • सात फिल्मों में मशहूर जासूस जेम्स बॉन्ड का रोल प्ले करनेवाले एक्टर सर शॉन कॉनरी का 90 साल की उम्र में निधन
  • रात में नींद में ही हो गयी मौत, कुछ समय से थे बीमार

Ranchi : अगर आप जासूसी फिल्मों के शौकीन हैं, तो आपके लिए एक दुखद खबर है. मशहूर जासूस जेम्स बॉन्ड का किरदार निभानेवाले सर शॉन कॉनरी का 90 साल की उम्र में निधन हो गया. उनके बेटे जेसन कॉनरी ने उनके निधन की जानकारी देते हुए मीडिया को बताया कि उनके पिता पिछले कुछ समय से बीमार थे. वह बहामास में रह रहे थे. रात में नींद में ही उनकी मौत हो गयी. अगस्त में ही उन्होंने अपना 90वां बर्थडे सेलिब्रेट किया था.

सबसे पहले बॉन्ड सीरीज की सात फिल्मों में किया था काम

शॉन पहले एक्टर थे, जिन्होंने जेम्स बॉन्ड की भूमिका को बड़े परदे पर उतारा. वह जेम्स बॉन्ड 007 सीरीज की सात फिल्मों में नजर आये थे. इनमें ‘डॉक्टर नो’, ‘फ्रॉम रशिया विद लव’, ‘गोल्डफिंगर’, ‘थंडरबॉल’,’यू ओनली लिव ट्वाइस’, ‘डायमंड्स आर फॉरएवर’, ‘नेवर से अगेन’ शामिल हैं. उन्हें सबसे ज्यादा लोकप्रियता बॉन्ड सीरीज की फिल्मों से ही मिली.

इसे भी पढ़ें- हिरोइन फातिमा सना शेख का सनसनीखेज खुलासा, 3 साल की उम्र में हुआ था शोषण

सबसे फेमस बॉन्ड

इस किरदार को लेकर सबसे पहली फिल्म ‘डॉक्टर नो’ साल 1962 में बनी. फिल्म इआन फ्लेमिंग के इसी नाम के उपन्यास पर आधारित थी. डायमंड्स आर फॉरएवर बॉन्ड सीरीज की सातवीं फिल्म थी और इसमें शॉन कॉनरी आखिरी बार बॉन्ड के रूप में नजर आये. बॉन्ड सीरीज की कुल 24 फिल्में बनी हैं. शॉन कॉनरी के बाद भी अन्य अभिनेताओं जैसे रोजर मूर ने भी सात बार और डेनियल क्रेग,  टिमोथी डॉल्टन व पियर्स ब्रॉसनन आदि ने जेम्स बॉन्ड का किरदार निभाया था, लेकिन शॉन सबसे लोकप्रिय बॉन्ड साबित हुए.

40 साल तक फिल्मों में रहे एक्टिव

40 साल तक फिल्मों में सक्रिय रहनेवाले कॉनरी ने मरीन (1964), मर्डर ऑन द ओरिएंट एक्सप्रेस (1974), द मैन हु वुड बी किंग (1975), द नेम ऑफ द रोज (1986), हाईलैंडर (1986), इंडियाना जोन्स एंड द लास्ट क्रुसेड (1989), द हंट फॉर रेड अक्टूबर (1990), ड्रेगन हार्ट (1996), द रॉक (1996), एंड फाइंडिंग फोरेस्टर (2000) जैसी फिल्मों में भी काम किया.

द अनटचेबल्स में एक्टिंग कर जीता ऑस्कर

1988 में ‘द अनटचेबल्स’ में अपने किरदार के लिए कॉनरी को बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर के अकादमी अवॉर्ड्स से नवाजा गया था. इन्होंने अपने करियर में दो बाफ्टा और तीन गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड भी जीते थे. 1999 में उन्हें पीपल मैगजीन ने इन्हें स्मार्टेस्ट मैन ऑफ सेंचुरी भी चुना था. इसी मैगजीन ने 1989 में उन्हें सेक्सिएस्ट मैन अलाइव का खिताब भी दिया था.

कैसे बना जेम्स बॉन्ड

जेम्स बॉन्ड एक काल्पनिक ब्रिटिश सीक्रेट सर्विस एजेंट है. ब्रिटिश पत्रकार और लेखक इआन फ्लेमिंग 1952 में जेम्स बॉन्ड का किरदार रचकर नॉवेल लिखा था. 1964 में फ्लेमिंग की मौत के बाद अन्य लेखकों ने जेम्स बॉन्ड के किरदार के कारनामों पर आधारित अन्य उपन्यास लिखे, जिन पर अब तक 24 फिल्में बन चुकी हैं. जेम्स बॉन्ड एक लंबा, चुस्त, खूबसूरत और चतुर सीक्रेट एजेंट है. उसकी कुछ बुरी आदतें भी हैं, जैसे- शराब पीना, स्मोकिंग, जुआ खेलना. महिलाओं में खास रुचि है. जेम्स बॉन्ड नयी तकनीक का भरपूर उपयोग करता है और एडवांस्ड तकनीक से लैस कारों का शौकीन है. जेम्स बॉन्ड शार्प शूटर और गजब का निशानेबाज है. बिना हथियार के भी वह दुश्मन पर भारी पड़ता है और गजब की फाइटिंग करता है. स्कींग, स्वीमिंग और गोल्फ उसके अन्य शौक हैं.

इसे भी पढ़ें- Corona Effect : फ्रांस में दूसरा लॉकडाउन, 700 किलोमीटर लंबा ट्रैफिक जाम लगा

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: