न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नहीं रहे जैन मुनि तरुण सागर, 51 साल की उम्र में हुआ निधन

पिछले कई दिनों से पीलिया से थे ग्रस्ति

530

New Delhi: जैन मुनि तरुण सागर का शनिवार अहले सुबह निधन हो गया. वो 51 साल के थे. उन्होंने दिल्ली के शाहदरा के कृष्णानगर इलाके में स्थित राधापुरी जैन मंदिर में शनिवार सुबह 3:18 बजे अंतिम सांस ली. शनिवार को ही गाजियाबाद के मुरादनगर स्थित तरुणसागरम में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

इसे भी पढ़ेंःपुरुषों के लिए भी शादी की कानूनी उम्र 18 वर्ष की जाए: विधि आयोग

दरअसल, जैन मुनि काफी दिनों से पीलिया से पीड़ित थे, जिसके बाद उन्हें दिल्ली के ही एक निजी अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था. इलाज के बावजूद स्वास्थ्य में सुधार न होने पर उन्होंने अपना इलाज बंद करा लिया था.

hosp3

इसे भी पढ़ेंःसड़क हादसे में दो की मौत-दो जख्मी, दुर्घटना पर लोगों का हंगामा

जैन मुनि द्वारा इलाज कराने से इनकार कर देने के बाद उन्हें कृष्णानगर स्थित राधापुरी जैन मंदिर चातुर्मास स्थल पर जाने का निर्णय लिया. जैन मुनि तरुण सागर का अंतिम संस्कार दोपहर 3 बजे दिल्ली मेरठ हाइवे स्थित तरुणसागरम तीर्थ पर होगा. जैन मुनि तरुण सागर की अंतिम यात्रा दिल्ली के राधेपुर से शुरू होकर 28 किमी दूर तरुणसागरम तक जायेगी.

पीएम ने जताया शोक

जैन मुनि के निधन पर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से दुख व्यक्त किया है. पीएम ने ट्वीट किया, ‘मुनि तरुण सागर जी महाराज के असमय निधन से गहरा दुख हुआ है. उनके ऊंचे आदर्शों और समाज के प्रति योगदान के लिए हम उन्हें हमेशा याद रखेंगे. उनके विचार लोगों को प्रेरणा देते रहेंगे. जैन समुदाय और उनके असंख्य अनुयायियों के प्रति मेरी संवेदना है.’

इसे भी पढ़ेंःराज्य प्रशासनिक सेवा के 35 अधिकारियों की ट्रांसफर-पोस्टिंग, दीपमाला धनबाद की कार्यपालक दंडाधिकारी बनीं

कौन थे तरुण सागर

मध्य प्रदेश में 1967 में जन्मे तरुण सागर महाराज का वास्तविक नाम पवन कुमार जैन था. उनकी मां का नाम शांतिबाई और पिता का नाम प्रताप चंद्र था. तरुण सागर ने जैन संत बनने के लिए आठ मार्च, 1981 को घर छोड़ दिया था. इसके बाद उन्होंने छत्तीसगढ़ में दीक्षा ली. उन्हें हरियाणा विधानसभा में भी प्रवचन के लिए बुलाया गया था.

बयानों को लेकर रहते थे चर्चा में

जैन मुनि तरुण सागर कई बार अपने बयानों को लेकर चर्चा में रहे. उन्होंने देश की कई विधानसभाओं में प्रवचन दिया. हरियाणा विधानसभा में उनके प्रवचन पर काफी विवाद हुआ था, जिसके बाद संगीतकार विशाल डडलानी के एक ट्वीट ने काफी बवाल खड़ा कर दिया था. हालांकि, मामला बढ़ता देख विशाल को माफी भी मांगनी पड़ गई थी.

इसे भी पढ़ें- झारखंड के चार आईपीएस अफसरों का तबादला, चार को अतिरिक्त प्रभार

वहीं बीते 10 अगस्त को उन्होंने तीन तलाक के मसले पर भी बयान दिया था. उन्होंने कहा था कि जो लोग मुस्लिम महिलाओं के कल्याण का दावा कर रहे हैं, वो महज दिखावा है, हकीकत में ऐसे नेताओं या दलों को महिलाओं के हक से कोई लेना-देना नहीं है, वो बस अपनी राजनीति कर रहे हैं. वहीं एक टीवी इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि देश में हर तीसरा आदमी भ्रष्टाचारी है. तरुण सागर ने कहा था कि देश के 10 फीसदी लोग ही पूरी तरह से ईमानदार हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: