Lead NewsNational

डॉन को भगाने के लिए तोड़ा जेल तो फरार हो गये 400 से ज्यादा कैदी,गोलीबारी में 25 की मौत

New Delhi : ये शायद पहली बार है कि किसी जेल से दो बार बड़ी संख्या में कैदी फरार हो गये हों. एक जेल से 400 से ज्यादा कैदी फरार हो गए हैं. इस दौरान हुई गोलीबारी की घटना में जेल निदेशक समेत 25 लोगों की मौत हो गई. हैती में यह घटना गुरुवार को राजधानी पोर्ट ओ प्रिंस के उत्तर पूर्व में स्थित क्रूआ दि बूके सिविल जेल में हुई. घटना के वक्त जेल में 1542 कैदी थे.
इस जेल का निर्माण 2012 में कनाडा ने कराया था. वर्ष 2014 में इसी जेल से 300 से अधिक कैदी फरार हुए थे. मारे जाने वाले लोगों में एक शक्तिशाली गैंग का सरदार और जेल निदेशक भी शामिल हैं. यह घटना राजधानी पोर्ट-ओ-प्रिंस के बाहरी इलाके में गुरुवार को क्रॉक्स-डेस-बुकेट्स जेल में घटित हुई.

इसे भी पढ़ें :साइबर अपराधियों ने महिला डॉक्टर के खाते से उड़ाये 33 हजार

गैंग लीडर है अर्नेल जोसेफ

माना जा रहा है कि गैंग लीडर अर्नेल जोसेफ को जेल से भगाने के लिए इस घटना को अंजाम दिया गया. जोसेफ हैती में 2019 में गिरफ्तारी से पहले तक दुष्कर्म, अपहरण और हत्या के आरोपों में वांछित भगोड़ा था. जेल से फरार होने के बाद उसके पैरों में जेल की चेन थी और वह मोटरसाइकिल पर बैठकर भाग रहा था.

जोसेफ के भागने के एक दिन बाद उसे एक चेकप्वांइट पर देखा गया. पुलिस प्रवक्ता गैरी डेसोर्स ने कहा कि देखे जाने पर जोसेफ ने पुलिसवालों पर गोलियां चलानी शुरू कर दी. पुलिस की जवाबी कार्रवाई में उसकी मौत हो गई. गैंग लीडर राजधानी पोर्ट ओ प्रिंस में स्थित गांग डी एडियो और अन्य समुदायों पर शासन करता था.

60 कैदियों को दोबारा पकड़ लिया गया

अधिकारियों ने अभी तक जेल तोड़े जाने को लेकर ज्यादा जानकारी नहीं दी है, सिवाय इसके कि 60 कैदियों को दोबारा पकड़ लिया गया है और मामले की जांच जारी है. राज्य सचिव, फ्रांट्ज़ एक्जेंटस ने कहा कि अधिकारियों ने जेल तोड़े जाने की घटना की जांच के लिए कई आयोग बनाए हैं. मारे जाने वालों में जेल निदेशक भी शामिल हैं जिनकी पहचान पॉल जोसेफ हेक्टर के तौर पर हुई है.

इसे भी पढ़ें :अपराध पर अंकुश लगाना पहली प्राथमिकता: एसडीपीओ

स्थानीय लोगों ने बताया कि उन्होंने कैदियों के फरार होने से पहले बड़ी संख्या में हथियारबंद लोगों को जेल के सुरक्षाकर्मियों पर गोलियां चलाते देखा था. गोलीबारी शुरू होने के काफी देर बाद तक जेल के अंदर गोलियों की आवाजें सुनाई देती रहीं. हैती के राष्ट्रपति जोवेलेन मोइस ने शुक्रवार को ट्वीट कर कैदियों के भागने और गोलीबारी की घटना की निंदा की और लोगों से धैर्य बनाए रखने को कहा.

वहीं कुछ लोगों का मानना है कि घटना को एक प्रमुख व्यवसायी के बेटे क्लिफोर्ड ब्रांड्ट को मुक्त करने के लिए अंजाम दिया गया था, जिसे 2012 से प्रतिद्वंद्वी व्यवसायी के वयस्क बच्चों का अपहरण करने के आरोप में जेल में बंद किया गया है. डोमिनिकन रिपब्लिक सीमा के पास ब्रांड्ट को दो दिन बाद पकड़ लिया गया.

इसे भी पढ़ें :ग्रीन एनर्जी सेस बिल प्रस्ताव विधानसभा में होगा, बिजली उत्पादक कंपनियों से लिया जायेगा 15 पैसे प्रति यूनिट

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: