Education & CareerJharkhandLead NewsRanchi

JAC : मैट्रिक-इंटर में वैसे स्टूडेंट्स सबसे ज्यादा हुए फेल जिन्होंने फिर से कराया था रजिस्ट्रेशन, अब होगा स्पेशल एग्जामिनेशन

Ranchi : झारखंड एकेडमिक काउंसिल ने कहा है कि इस वर्ष की मैट्रिक और इंटर की परीक्षा में वैसे स्टूडेंट्स सबसे ज्यादा फेल हुए हैं जिन्होंने फिर से रजिस्ट्रेशन कराया और परीक्षा में शामिल हुए. जैक ने स्पष्ट कहा है कि मैट्रिक और इंटर की परीक्षा में तीन कैटेगरी के स्टूडेंट्स शामिल होते हैं. ये रेगुलर, पूर्ववर्ती और पुनर्पंजिकृत कहलाते हैं. पुनर्पंजिकृत वे स्टूडेंट्स होते हैं जो पूर्व ली गयी परीक्षा में शामिल हुए हों और उनका तीन साल का रजिस्ट्रेशन की अवधि समाप्त हो गयी हो.

जैक ने कहा है कि इस साल रेगुलर कैटेगरी के स्टूडेंट्स काफी कम फेल हुए हैं. वहीं पूर्ववर्ती छात्रों का रिजल्ट 80 फीसदी रहा है.

इसे भी पढ़ें :BIG NEWS : बीजेपी नेता और उनकी पत्नी को आतंकवादियों ने गोलियों से उड़ाया

सबसे ज्यादा फेल होने वाले स्टूडेंट्स पुनर्पंजिकृत ही हैं. जैक ने कहा है कि ये छात्र तीन वर्षों में भी परीक्षा पास नहीं किये और फिर से रजिस्ट्रेशन करा कर परीक्षा में शामिल हुए.

ऐसे छात्रों का विगत सभी परीक्षा में सम्मिलित होने का विषयवार अंक निकाला गया और जो बेस्ट अंक था, उन्हें दिया गया. ऐसे छात्र पूर्व के किसी भी परीक्षा में उत्तीर्ण ही नहीं हुए थे तो इस परीक्षा में किस आधार पर उत्तीर्ण होते.

इसे भी पढे़ं:मोदी का मास्टरस्ट्रोक, लोकसभा में पेश हुआ आरक्षण विधेयक, सभी का मिल रहा है साथ

अब होगा स्पेशल एग्जामिनेशन

झारखंड एकेडमिक काउंसिल इस साल स्पेशल एग्जामिनेशन लेगा. इस परीक्षा में फेल होने वाले स्टूडेंट्स के अलावा वैसे स्टूडेंट्स भी शामिल हो सकेंगे जो इस परिणाम से संतुष्ट नहीं हैं. इन छात्रों से किसी तरह का परीक्षा शुल्क भी नहीं लिया जाएगा. इसके अतिरिक्त वैसे छात्र, जो वार्षिक परीक्षा के लिए परीक्षा आवेदन प्रपत्र जमा नहीं कर सके थे.

उन्हें भी परीक्षा में सम्मिलित होने का अवसर दिया जा रहा है. जो छात्र थ्योरी परीक्षा में उत्तीर्ण हैं, और प्रायोगिक परीक्षा में अनुत्तीर्ण या अनुपस्थित हैं वे केवल प्रैक्टिकल परीक्षा में शामिल होंगे.

परीक्षा के बाद रिजल्ट जल्द ही रिजल्ट जारी किया जायेगा. इस परीक्षा के रिजल्ट के बाद दिए जाने वाले प्रमाण पत्रों में पूरक या संपूरक नहीं लिखा होगा.

इसका प्रमाण पत्र भी वार्षिक परीक्षा की तरह ही मिलेगा. सभी के मार्कशीट में डिविजन भी लिखा होगा. यह निर्णय केवल इसी साल के लिए लिया गया है.

इसे भी पढ़ें :नियोजन नीति पर रघुवर की आलोचना से नहीं डरने वाली हेमंत सरकार, आदिवासी मूलवासियों को ही मिलेगी नौकरीः झामुमो

Related Articles

Back to top button