JharkhandRanchi

अपने संसाधनों से मजदूरों को लाने में लगेगा छह माह का समय, केंद्र करे सहयोग : हेमंत सोरेन

  • गृह मंत्रालय के आदेश के बाद सीएम की प्रतिक्रिया, कई शर्तों के साथ मिली है अनुमति, रणनीति पर काम करेगी सरकार
  • अभिभावक अपने बच्चों को वापस लाएं, इसपर सरकार कर रही है विचार

Ranchi  :  लॉकडाउन के कारण राज्य के बाहर फंसे प्रवासी मजदूरों और छात्रों को वापस लाने के गृह मंत्रालय के नये निर्देश को लेकर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने पीएम नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया है.

उन्होंने कहा कि गृह मंत्रालय का यह निर्देश कई शर्तों के तहत दी गयी है. इसपर राज्य सरकार कुछ नियम बनाकर आगे की रणनीति पर काम करेगी.

ram janam hospital
Catalyst IAS

सीएम ने कहा कि केंद्र से भी राज्य को सहयोग की जरूरत पड़ेगी. ऐसा इसलिए क्योंकि पूरे देश के कई क्षेत्रों में कई मजदूर और छात्र फंसे है. इन्हें राज्य सरकार अपने बल पर लाने को सक्षम नहीं है.

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

अगर अपने सीमित संसाधनों के द्वारा कोई व्यवस्था करते भी हैं, तो मजदूरों को लाने में ही छह माह बीत जाएंगे. सीएम सोरेन ने यह बात प्रोजेक्ट भवन में संताल परगना के विधायकों और सांसदों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के बाद मीडिया से की है.

इसे भी पढ़ें – उद्धव को एमएलसी बनाने पर राज्यपाल नहीं ले रहे फैसला, ठाकरे ने पीएम मोदी से की बात

कई शर्तों के साथ दिया गया है निर्देश

बता दें कि देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे प्रवासी मजदूरों, पर्यटकों, छात्रों और अन्य लोगों को वापस घऱ लाने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय से बुधवार शाम को राज्यों को अनुमति दे दी है. इसे बाहर फंसे और मजदूरों के लिए को काफी राहत मिली है.

केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने एक आदेश में कहा है कि ऐसे फंसे हुए लोगों के समूह को ले जाने के लिए बसों का इस्तेमाल किया जायेगा और इन वाहनों को सैनिटाइज किया जाएगा. साथ ही सीटों पर बैठते समय सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करना होगा.

इसे भी पढ़ें – #Corona : 29 अप्रैल को कुल 2 कोरोना पॉजिटिव, राज्य का आंकड़ा हुआ 107

नोडल अधिकारियों को वर्क प्लान बनाकर काम करने का दिया गया निर्देश

सीएम ने कहा कि गृह मंत्रालय के आये निर्देश के बाद संबंधित राज्यों के प्रवासी मजदूरों को बनाए नोडल अधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि वे इसपर त्वरित गति से वर्क प्लान बनाकर काम करें.

साथ ही अधिकारी उन्हें पूरी रणनीति पर जानकारी भी दें. उन्होंने कहा कि बाहर फंसे सभी मजदूरों के डाटा राज्य सरकार के पास है. केंद्र से सहयोग मिलने के बाद मजदूरों को लाया जायेगा.

फंसे छात्रों को उनके अभिभावक लाएं, इसपर विचार कर रही सरकार

एक सवाल के जवाब में सीएम हेमंत सोरेन ने कहा कि बाहर फंसे छात्रों को वापस लाने के लिए सरकार उनके अभिभावकों से भी सहयोग लेगी. कई अभिभावकों ने पहले ही सरकार से यह मांग की थी कि उन्हें अपने बच्चों को स्वयं लाने का आदेश दें.

सीएम ने कहा कि फंसे छात्रों के अभिभावकों को ऐसी निर्देश देने की प्रकिया पर विचार कर रही है.

इसे भी पढ़ें – #Lockdown : केंद्र ने प्रवासी मजदूरों- छात्रों को घर वापसी की छूट दी, राज्यों को पालन करना होगा प्रोटोकॉल

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button