Corona_Updates

कोरोना जांच की रिपोर्ट आने में लग रहे 15 दिन, इतने दिनों में लोग ठीक हो जाते हैं, पर जाना पड़ रहा अस्पताल

Ranchi : राज्य में कोरोना का संक्रमण बहुत तेजी से फैल रहा है. अब तो 900 के करीब कोरोना संक्रमित प्रतिदिन मिलने लगे हैं. बुधवार को गोड्डा से अकेले 341 लोगों के संक्रमण की पुष्टि हुई है. इन सभी की रिपोर्ट लगभग पंद्रह दिनों के बाद आयी है. सिर्फ गोड्डा ही एकमात्र जिला नहीं हैं, जहां ऐसा हो रहा है.

गिरिडीह, हजारीबाग, रांची सहित कई ऐसे जिले हैं जहां एक सा हाल है. जितने दिनों में कोरोना संक्रमण ठीक हो जा रहा है, उतने दिनों के बाद रिपोर्ट आ रही है. रिपोर्ट पॉजिटिव आने के कारण लोगों को अस्पतालों में एडमिट होना पड़ रहा है. रांची के सदर अस्पताल में भी ट्रूनेट से दो मीडियाकर्मी ने 14 दिन पहले सैंपल जांच के लिये दिये थे. पर रिपोर्ट अभी तक नहीं आयी है. गिरिडीह जिला में भी लोग पंद्रह-पंद्रह दिनों से अपनी जांच रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – Corona Update : गुरुवार को झारखंड में 106 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले, कुल आंकड़ा पहुंचा 15236

advt

राज्य में 13 हजार सैंपल हैं पेंडिंग

झारखंड में वर्तमान में 13 हजार सैंपल पेंडिंग हैं. इसके अलावा 2 हजार सैंपल प्रतिदिन पेंडिंग हो जा रहे हैं. अगर यही हाल रहा तो पेंडिंग मामलों को क्लीयर कर पाना बहुत ही मुश्किल हो जायेगा. राज्य में जहां प्रतिदिन 7 हजार सैंपल का कलेक्शन हो रहा है. वहीं जांच का एवरेज 5 हजार के करीब ही है. अब पहले की तुलना में संक्रमित मरीज मिलने का प्रतिशत 10 से 15 प्रतिशत हो चुका है. जबकि आइसीएमआर गाइडलाइन के अनुसार अगर 20 प्रतिशत संक्रमण के मामले आते हैं, तो उसे कम्यूनिटी ट्रांसफर माना जायेगा. हालांकि यह आंकड़ा कुल आबादी का होना चाहिए. पर सवाल यह है कि कुल आबादी की जांच करना अत्यंत ही मुश्किल है.

इसे भी पढ़ें – राहुल का आरोप-मोदी का एक और झूठ उजागर हुआ, रक्षा मंत्रालय ने माना- चीन ने किया घुसपैठ, फिर बेवसाइट से हटायी जानकारी

adv

एडमिट होने के लिए भी मरीजों को करना पड़ रहा इंतजार

जिन संक्रमित मरीजों की रिपोर्ट सही समय पर आ जा रही है, उन्हें भी एडमिट होने के लिए काफी लंबा इंतजार करना पड़ रहा है. रांची के एक केस में एक सीनियर सिटीजन की रिर्पोट पॉजिटिव आयी है. उन्हें देर रात कॉल कर बताया गया कि आप पॉजिटिव हैं. कल मेडिकल टीम आपके घर जाकर मरीज को ले आयेगी. पर 24 घंटे से से ज्यादा हो जाने के बाद भी मरीजों को लेने स्वास्थ्य विभाग की टीम नहीं पहुंच पायी है. इससे पहले कोकर के एक परिवार को दो दिनों तक एडमिट होने के लिए इंतजार करना पड़ा था. ये दो महज उदाहरण हैं. पूरे राज्य में सैंकड़ों ऐसे केस हैं जिन्हें एडमिट होने के लिए इंतजार करना पड़ रहा है.

इसे भी पढ़ें –  Palamu: कोरोना संक्रमण के 51 नए मामले, नावाबाजार थाना प्रभारी की रिपोर्ट भी पॉजिटिव

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: