न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

इजरायल : प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू  की वापसी तय, मोदी ने दी बधाई

प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के नेतृत्व वाली लिकुड पार्टी को 37 प्रतिशत वोट मिले हैं, जबकि ब्लू एंड वाइट पार्टी को 36 प्रतिशत लोगों ने वोट किया. दोनों पार्टियां दक्षिणपंथी हैं.  

42

Tel Aviv : इजरायल में  हुए चुनाव में प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू  की वापसी तय हो गयी है. खबरों के अनुसार 97 प्रतिशत वोटों की गिनती पुरी चुकी है. प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के नेतृत्व वाली लिकुड पार्टी को 37 प्रतिशत वोट मिले हैं, जबकि ब्लू एंड वाइट पार्टी को 36 प्रतिशत लोगों ने वोट किया.  बता दें कि दोनों पार्टियां दक्षिणपंथी हैं.  भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें ट्वीट करके बधाई दी है. बता दें कि नौ अप्रैल को इजरायल में वोटिंग की प्रक्रिया पूरी हुई थी. इस बार यहां 96 प्रतिशत वोटिंग हुई है. हालंकि 120 सदस्यों वाले नेसेट (इजरायली संसद) में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिला है. ऐसे में नेतन्याहू के गठबंधन सरकार बनाने की संभावना काफी ज्यादा है. वे दूसरे दक्षिणपंथी दलों के साथ मिलकर ऐसा करने की मजबूत स्थिति में हैं. नेतन्याहू अगर ऐसा करने में सफल होते हैं तो वह लगातार पाचंवीं बार इजरायल के प्रधानमंत्री बनेंगे. बता दें कि कथित भ्रष्टाचार के आरोपों के चलते कहा जा रहा था कि अब बेंजामिन नेतन्याहू का प्रधानमंत्री बनना मुश्किल है, लेकिन जोड़तोड़ के गणित से अगर नेतन्याहू सरकार बनाने की सफल होते हैं तो ये उनकी बड़ी कामयाबी होगी.

इसे भी पढ़ेंः मोदी सरकार देश की जरूरत,  पंडित जसराज, उस्ताद गुलाम मुस्तफा खान, शंकर महादेवन सहित 900 शख्सियतों ने यह कहा

पीएम मोदी ने इजरायली भाषा हिब्रू  में किया था स्वागत

पिछले साल भारत दौरे पर आये इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कई अहम बैठकों में हिस्सा लिया था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और इजरायली पीएम बेंजामिन के बीच हैदराबाद हाउस में द्विपक्षीय वार्ता हुई थी. दोनों देशों के बीच 9 बड़े समझौते हुए थे. इस दौरान राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, एस. जयशंकर, रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण भी मौजूद थे. दोनों देशों के बीच फिल्म निर्माण, साइबर सुरक्षा, तेल और ऊर्जा, कृषि, अंतरिक्ष के क्षेत्र में समझौते हुए थे. इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा था कि इजरायल के पीएम का उनके पहले भारत दौरे पर बहुत स्वागत है. इस दौरान मोदी ने इजरायली भाषा हिब्रू में भी बेंजामिन का स्वागत किया था.

इसे भी पढ़ेंःअमेठी में नामांकन के बाद राहुल का मोदी पर वार, कहा- सुप्रीम कोर्ट ने भी माना राफेल डील में घोटाला…

Related Posts

दिवालिया हुई ट्रैवल कंपनी #ThomasCook, छह लाख पर्यटक फंसे, जानें भारत पर क्या होगा असर

गोवा-कश्मीर के पर्यटन उद्योग में चिंता, पिछले साल ब्रिटेन से 30 हजार सैलानी आये थे गोवा

नेतन्याहू पर भ्रष्टाचार के आरोप लगते रहे हैं

नेतन्याहू पर भ्रष्टाचार के अलग-अलग आरोप लगते रहे हैं. नेतन्याहू पर जर्मनी से खरीदे गए युद्धपोतों में गड़बड़ी को लेकर जांच शुरू हुई थी. वहीं, ऐसी भी खबरें सामने आई थीं कि एक फ्रांसीसी दलाल ने 2009 के चुनावी कैंपेन में नेतन्याहू को लाखों यूरो दिए थे ताकि वो चुनाव जीत सकें. इसके अलावा नेतन्याहू और उनकी पत्नी सारा पर एक सरकारी कॉन्ट्रैक्टर से निजी काम कराने का आरोप भी लगा था.

इसे भी पढ़ेंः सियासत में तय नहीं की जा सकती सेवानिवृत्ति की उम्र सीमा: सुमित्रा महाजन

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्लर्क नियुक्ति के लिए फॉर्म की फीस 1000 रुपये, कितना जायज ? हमें लिखें..
झारखंड में नौकरी देने वाली हर प्रतियोगिता परीक्षा विवादों में घिरी होती है.
अब JSSC की ओर से क्लर्क की नियुक्ति के लिये विज्ञापन निकाला है.
जिसके फॉर्म की फीस 1000 रुपये है. यह फीस UPSC के जरिये IAS बनने वाली परीक्षा से
10 गुणा ज्यादा है. झारखंड में साहेब बनानेवाली JPSC  परीक्षा की फीस से 400 रुपये अधिक. 
क्या आपको लगता है कि JSSC  द्वारा तय फीस की रकम जायज है.
इस बारे में आप क्या सोंचते हैं. हमें लिखें या वीडियो मैसेज वाट्सएप करें.
हम उसे newswing.com पर  प्रकाशित करेंगे. ताकि आपकी बात सरकार तक पहुंचे. 
अपने विचार लिखने व वीडियो भेजने के लिये यहां क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: