न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Islamabad: : मौलाना फजलुर रहमान के नेतृत्व में इस्लामाबाद पहुंचे  प्रदर्शनकारी, इमरान से इस्तीफा मांगा 

दक्षिणपंथी जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम फजल (जेयूआई-एफ) के प्रमुख मौलाना फजलुर रहमान ने 27 अक्टूबर को अन्य विपक्षी दलों के नेताओं के साथ दक्षिणी सिंध प्रांत से आजादी मार्च की शुरुआत की है

61

Islamabad : पाकिस्तान में प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे एक प्रभावशाली धर्मगुरु यहां एक विशाल रैली के लिए शुक्रवार को यहां पहुंचे. प्रदर्शनकारी इमरान के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं.

दक्षिणपंथी जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम फजल (जेयूआई-एफ) के प्रमुख मौलाना फजलुर रहमान ने 27 अक्टूबर को अन्य विपक्षी दलों के नेताओं के साथ दक्षिणी सिंध प्रांत से आजादी मार्च की शुरुआत की है. ये लोग खान पर 2018 के आम चुनावों में गड़बड़ी करने का आरोप लगाते हुए उनसे इस्तीफे की मांग कर रहे हैं.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

उन्होंने प्रधानमंत्री पर अर्थव्यवस्था के कुप्रबंधन,अक्षमता और कुप्रशासन का आरोप भी लगाया जिससे आम आदमी की मुश्किलें बढ़ गयी. जमियत नेताओं ने कहा कि रहमान का 31 अक्टूबर को इस्लामाबाद पहुंचने का कार्यक्रम था, लेकिन काफिले में सैकड़ों की संख्या में वाहनों के होने की वजह से रफ्तार धीमी हो गई इससे देर हुई. मौलाना ने सुक्कूर, मुल्तान, लाहौर और गुजरांवाला के रास्ते अपना सफर तय किया और शुक्रवार को तड़के इस्लामाबाद पहुंचे.

इसे भी पढे़ें : #IslamicState ने अबु बक्र अल-बगदादी के मारे जाने की बात मानी, #AbuIbrahim को नया चीफ  बनाया

प्रधानमंत्री इस्तीफा नहीं देते हैं तो देश में अव्यवस्था फैलेगी

उन्होंने रास्ते में अपने समर्थकों को बताया, “वह (प्रधानमंत्री खान) चुनावों में धांधली कर सत्ता में आये हैं. उन्हें स्पष्ट संकेत देखने चाहिए और इस्तीफा देना चाहिए वर्ना हम उन्हें बाहर कर देंगे. आज टीवी को दिये एक साक्षात्कार में रहमान ने कहा कि अगर प्रधानमंत्री इस्तीफा नहीं देते हैं तो देश में अव्यवस्था फैलेगी.

सुरक्षा संस्थाओं के मुताबिक आजादी मार्च में हजारों लोग हिस्सा ले रहे हैं. इस्लामाबाद में यह आंकड़ा और बढ़ गया क्योंकि पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) समेत विपक्षी दलों के समर्थक भी सरकार विरोधी इस प्रदर्शन में शामिल हो गये.

इसे भी पढे़ें : #Whatsapp के जरिए लोकसभा चुनाव के दौरान पत्रकारों, ह्यमूनराइटस एक्टिविस्ट्स की हुई जासूसी

Related Posts

#Delhi_Violence : ट्रंप के बयान पर बर्नी सैंडर्स सहित कई american सांसद बरसे, कहा,  यह मानवाधिकार पर नेतृत्व की विफलता

बुधवार को अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता पर अमेरिकी आयोग ने भारत सरकार ने अनुरोध किया था कि भारत अपने नागरिकों की सुरक्षा के लिए तेजी से कार्रवाई करे.

प्रदर्शनकारी पेशावर मोड के निकट एक विशाल मैदान में रुके हुए हैं 

प्रदर्शनकारी पेशावर मोड के निकट एक विशाल मैदान में रुके हुए हैं जहां विभिन्न राजनीतिक दलों ने अपने कार्यकर्ताओं को ठहराने के लिए तंबू लगा रखे हैं. यहां प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए पीपीपी प्रमुख बिलावल भुट्टो जरदारी ने कहा कि इमरान खान एक कठपुतली हैं और राष्ट्र अपना सिर एक चयनित प्रधानमंत्री और उसका चयन करने वालों के सामने झुकाने के लिये तैयार नहीं हैं. रहमान ने एक ट्वीट में सभी प्रदर्शनकारियों और विपक्षी नेताओं को उनके समर्थन के लिए शुक्रिया अदा किया.

अर्धसैनिक बलों की तैनाती की गयी है

उन्होंने कहा कि यह रैली अब शुक्रवार की प्रार्थना के बाद शुरू होगी और सभी वरिष्ठ विपक्षी नेता इसमें मौजूद होंगे. इस बीच पाकिस्तानी अधिकारियों ने प्रदर्शनकारियों की भीड़ को देखते हुए सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किये हैं. मुख्य मार्गों को पूरी तरह या आंशिक तौर पर बंद कर दिया गया है.

प्रमुख सरकारी इमारतों और राजनयिक क्षेत्र समेत रेड जोन की तरफ प्रदर्शनकारियों को जाने से रोकने के लिए कंटीले तार लगाये गये हैं. अतिरिक्त पुलिस और अर्धसैनिक बलों की तैनाती की गयी है. संवेदनशील जगहों पर सैनिकों को भी तैनात किया गया है.

इसे भी पढे़ें : #Twitter ने राजनीतिक विज्ञापनों पर रोक लगायी, #CEO ने कहा, राजनीतिक विज्ञापनों से वोट प्रभावित होते हैं 

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like