Crime NewsDhanbadJharkhandTOP SLIDER

धनबाद के जज की मौत हत्या है? सीसीटीवी फुटेज से लगता है कि उन्हें ऑटो ने जानबूझकर मारी थी टक्कर ! देखें वीडियो

Dhanbad: धनबाद के जिला एवं सत्र न्यायाधीश अष्टम उत्तम आनंद की मृत्यु क्या इरादतन हत्या है? यह सवाल घटना से जुड़ा सीसीटीवी फुटेज सामने आने के बाद हर जुबान पर चर्चा में है. बता दें कि जज उत्तम आनंद की मृत्यु बुधवार सुबह सड़क हादसे में होने की खबर आयी थी, लेकिन घटना का सीसीटीवी फुटेज देखने के बाद हर कोई यही कह रहा है कि उन्हें एक ऑटो ने जानबूझकर टक्कर मारी.

सीधी दिशा में जा रहे ऑटो ने बदल लिया लेन

जज रोज की तरह मार्निंग वॉक करने अपने आवास से गल्फ ग्रांउड जा रहे थे. रणधीर वर्मा चौक से आगे वह खाली सड़क पर बिल्कुल बायीं तरफ जॉगिंग कर रहे थे, तब पीछे से एक ऑटो ने उन्हें धक्का मार दिया. जज साहब सड़क के किनारे गिर पड़े और ऑटो चालक उसी रफ्तार में आगे बढ़ गया.

रणधीर वर्मा चौक के आगे सड़क के बिल्कुल लेफ्ट साइड जाॅगिंग करते जज उत्तम आनंद

सीसीटीवी फुटेज में साफ दिखता है ऑटो पहले बिल्कुल सीधी दिशा में जा रहा रहा था, लेकिन उसने अचानक हैरतअंगेज तरीके से लेन बदलकर सड़क के बिल्कुल बायीं ओर व्हाइट लाइन के किनारे जॉगिंग कर रहे जज साहब को अपनी चपेट में ले लिया.

इसी सड़क पर पीछे से आ रहा ऑटो

बॉडीगार्ड कहां था? धक्का मारने के बाद ऑटो की दिशा फिर सीधी कैसे हो गयी?

सबसे हैरत की बात यह कि उस वक्त जज साहब सड़क पर बिल्कुल अकेले थे और उन्हें धक्का मारने के बाद ऑटो फिर से सीधी लेन में आगे बढ़ गया. सीसीटीवी फुटेज से यह साफ लगता है कि अगर ऑटो चालक ने नियंत्रण खोया होता तो वह धक्का मारने के बाद सड़क किनारे पोल से टकराता, लेकिन आश्चर्यजनक तरीके से धक्का मारने के बाद उसकी दिशा सीधी हो गयी.

ऑटो ने अचानक एक्सट्रीम लेफ्ट साइड लेकर जज साहब को अपनी चपेट में ले लिया

सीसीटीवी फुटेज में यह दिखता है कि जज साहब जमीन पर गिर पड़े तो ऑटो बगैर रुके या धीमा हुए आगे बढ़ गया. फुटेज में घटना के दो सेकेंड के भीतर उधर से एक बाइक सवार गुजरा, लेकिन उसने सड़क पर गिरे व्यक्ति की ओर कोई ध्यान नहीं दिया. सवाल यह भी उठ रहा है कि जज साहब मॉर्निंग वॉक पर क्या अकेले गये थे? उनका बॉडीगार्ड आखिर कहां था?

इसे भी पढ़ें :SIMDEGA: पीएलएफआइ के दो नक्सली गिरफ्तार

घरवालों ने पुलिस को इत्तला दी तो ऐसे हुई पहचान

घटना के बाद जज उत्तम आनंद को एसएनएमसीएच ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. हालांकि शुरूआत में उनकी की पहचान नहीं हो पाई थी. इधर मॉर्निंग वॉक कर 7:00 बजे सुबह तक जज साहब जब घर नहीं लौटे, तो उनके परिजन भी खोजबीन में जुट गए थे. परिजनों की शिकायत के बाद पुलिस महकमा सक्रिय हुआ.

जज साहब जमीन पर गिर पड़े और ऑटो इसके बाद सीधी दिशा में बढ़ गया

सभी जज साहब की खोज में जुट गए. इसी बीच धनबाद थाना को सूचना मिली कि एसएनएमसीएच में जिस अज्ञात व्यक्ति का शव पड़ा हुआ है वही उत्तम आनंद हैं. दरअसल जज साहब के बॉडीगार्ड ने ही उनकी पहचान की.

मामले के तार रंजय सिंह हत्याकांड से तो नहीं जुड़ रहे?

बता दें कि उत्तम आनंद ने छह माह पूर्व ही धनबाद में ज्वाइन किया‌ था. इससे पहले वे बोकारो के जिला एवं सत्र न्यायाधीश थे. वे धनबाद के एक चर्चित रंजय सिंह हत्याकांड की सुनवाई कर रहे थे. बहरहाल, यह पुलिस तहकीकात का विषय जरूर है कि जज साहब की मृत्यु की घटना के तार कहीं इस हत्याकांड से तो नहीं जुड़ रहे?

इसे भी पढ़ें :केंद्रीय चुनाव आयोग को झारखंड हाइकोर्ट का नोटिस: किस नियम के तहत जेवीएम का सिम्बल खत्म हुआ?

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: