न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

इरगुटोली मामला : पुलिस पर एकतरफा कार्रवाई का आरोप लगा थाना में धरने पर बैठे मंत्री सीपी सिंह

eidbanner
218

Ranchi : नगर विकास मंत्री सीपी सिंह बुधवार को कोतवाली थाना परिसर में धरने पर बैठ गये. वह कोतवाली थाना द्वारा दो महिलाओं को गिरफ्तार कर लाये जाने की एकतरफा कार्रवाई का विरोध कर रहे थे. वह अपने कार्यकर्ताओं सहित कोतवाली थाना परिसर में ही धरने पर बैठ गये. भाजपा कार्यकर्ता पुलिस पर एकतरफा कार्रवाई करने का आरोप लगा रहे थे, साथ ही पुलिस के विरोध में नारेबाजी भी कर रहे थे.

इसे भी पढ़ें- पवित्र स्‍थान को अपवित्र करने के बाद गरमाया माहौल, हुआ हंगामा

इरगुटोली में तीन दिनों से है तनाव का माहौल

गौरतलब है कि बीते दिनों इरगुटोली में हुए दो गुटों के बीच मारपीट के मामले पर कार्रवाई करते हुए कोतवाली पुलिस ने एक गुट की दो महिलाओं सहित सात लोगों एवं दूसरे गुट के पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया था. लेकिन, भाजपा कार्यकर्ताओं का कहना है पुलिस एकतरफा कार्रवाई कर रही है, यह बर्दाश्त नहीं किया जायेगा.  इधर, इरगुटोली में तीन दिनों से तनाव का माहौल है. मंगलवार को कुछ बुद्धिजीवियों द्वारा समझाये जाने के बाद मामला शांत हुआ था, लेकिन बुधवार सुबह से ही स्थिति पुन: मंलगवार जैसी ही हो गयी. एक पक्ष लगातार दोषियों पर कार्रवाई करने की मांग कर रहा था. तनाव बढ़ता देख कोतवाली पुलिस दोनों पक्षों के लोगों को गिरफ्तार कर थाना ले आयी, जिसके बाद मामले ने और तूल पकड़ लिया.

Related Posts

लातेहारः SDO सह LRDC जयप्रकाश झा समेत पांच रेवेन्यू अफसरों पर धोखाधड़ी का केस दर्ज, जमीन का फर्जी दस्तावेज तैयार कर हड़प ली दिव्यांग की राशि

भुसाड़ ग्राम निवासी जंगाली भगत ने टोरी-महुआमिलान नई वीजी रेलवे लाईन निर्माण में स्वीकृत भूमि अधिग्रहण की राशि में हेराफेरी करने का लगाया आरोप

इसे भी पढ़ें- रेंगती रही रांची,आराम फरमाती रही ट्रैफिक पुलिस

क्या है मामला

सोमवार की रात सुखदेव नगर थाना क्षेत्र के चूना भट्ठा संग्राम चौक के पास एक समुदाय के तीन युवकों द्वारा एक समुदाय के पवित्र स्थल पर गदंगी फैला दी गयी थी. स्थानीय कुछ महिलाओं ने तीनों युवकों को पवित्र स्थल पर पेशाब करते हुए देख लिया था, जिसके बाद तीनों युवकों ने महिलाओं को कथित धमकी देते हुए कहा कि अगर किसी को बताओगी, तो उसका बुरा अंजाम होगा. उसके बाद मौके से तीनों युवक फरार हो गये. इसके बाद महिलाओं ने घटना की जानकारी आस-पास के लोगों को दी, जिसके बाद लोग उग्र होकर विरोध प्रदर्शन करने लगे. माहौल को बिगड़ता देख पुलिस और दोनों समुदायों के कुछ बुद्धिजीवियों द्वारा लोगों को समझा-बुझाकर मामला को शांत कराया गया है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: