न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

IRCTC टेंडर घोटालाः राबड़ी देवी और तेजस्वी को पटियाला हाउस कोर्ट से बेल

लालू यादव के खिलाफ पेशी वारंट जारी

298

New Delhi: भ्रष्टाचार के आरोप का सामना कर रहे लालू परिवार को शुक्रवार को थोड़ी राहत मिली है. दिल्ली की एक अदालत ने राष्ट्रीय जनता दल प्रमुख लालू प्रसाद की पत्नी राबड़ी देवी और उनके बेटे तेजस्वी यादव को आईआरसीटीसी घोटाला मामले में जमानत दे दी. वही विशेष न्यायाधीश अरूण भारद्वाज ने पूर्व मुख्यमंत्री प्रसाद के खिलाफ इस मामले में पेशी वारंट जारी किया है.

इसे भी पढ़ेंःनिशिकांत के गेम प्लान के सामने पीएन बच्चा है जी !

Aqua Spa Salon 5/02/2020

एक लाख के निजी मुचलके पर मिली बेल

अदालत ने राबड़ी और तेजस्वी यादव को एक लाख रुपये के निजी मुचलके और इतनी ही राशि के मुचलके पर जमानत दी है. इस मामले की अगली सुनवाई के लिए छह अक्तूबर की तारीख तय की गई है.

इससे पहले अदालत ने आईआरसीटीसी के दो होटलों के संचालन का ठेका एक निजी फर्म को देने में हुई कथित अनियमितताओं के मामले में लालू के परिवार और अन्य को तलब करते हुए अपने समक्ष पेश होने को कहा था. लालू शुक्रवार को इस मामले में अदालत के समक्ष पेश नहीं हो पाये क्योंकि चारा घोटाला मामले में दोषी पाये जाने के बाद वह फिलहाल रांची के होटवार जेल में बंद हैं.

इसे भी पढ़ेंःअब आतंकियों के निशाने पर पुलिसकर्मियों के परिजन ! पांच लोगों को किया अगवा

क्या है मामला

सीबीआई ने 16 अगस्त को इस मामले में आरोपपत्र दायर करते हुए कहा था कि लालू, राबड़ी, तेजस्वी और अन्य के खिलाफ उसके पास पर्याप्त सबूत हैं. सीबीआई ने इससे पहले अदालत को बताया था कि आईआरसीटीसी के तत्कालीन समूह महाप्रबंधक और रेलवे बोर्ड के मौजूदा अतिरिक्त सदस्य बी के अग्रवाल के खिलाफ कार्रवाई के लिए एजेंसी ने समक्ष प्राधिकार से अनुमति ले ली है.

इसे भी पढ़ें- बोकारो डीसी ने नियम विरुद्ध जाकर दी बियाडा की जमीन, उद्योग निदेशक ने खारिज किया आदेश, कहा –…

Sport House

लालू प्रसाद और उनके परिवार के अलावा आरोप पत्र में पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रेम चंद गुप्ता और उनकी पत्नी सरला गुप्ता, बी के अग्रवाल, आईआरसीटीसी के तत्कालीन प्रबंध निदेशक पी के गोयल और आईआरसीटीसी के तत्कालीन निदेशक राकेश सक्सेना का नाम है. इन लोगों के साथ ही आरोप पत्र में आईआरसीटीसी के तत्कालीन समूह महाप्रबंधक वी. के. अस्थाना, आर. के. गोयल और सुजाता होटल के निदेशकों और चाणक्य होटल के मालिकों विजय कोचर और विनय कोचर के नाम भी शामिल हैं.

इसे भी पढ़ेंःस्वास्थ्य जागरुकता अभियान का बंटाधार, सड़ रही लाखों की प्रचार-प्रसार सामग्री

ज्ञात हो कि सीबीआई ने पिछले साल जुलाई में मामला दर्ज करते हुए पटना, रांची, भुवनेश्वर और गुड़गांव के 12 स्थानों पर इस संबंध में छापेमारी की थी. केंद्रीय जांच एजेंसी ने बताया था कि इन लोगों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की संबंधित धाराओं में मामला दर्ज किया गया है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like