न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

ईरान ने इराक में अमेरिकी एयरबेस पर किया हमला, दागी एक दर्जन से अधिक बैलिस्टिक मिसाइल

788

Washington: ईरान ने इराक स्थित ऐसे कम से कम दो सैन्य अड्डों पर एक दर्जन से अधिक बैलिस्टिक मिसाइल दागी जहां अमेरिकी सेना और उसके सहयोगी बल ठहरे हुए हैं. 

बगदाद में अमेरिकी हवाई हमले में ईरान के सैन्य कमांडर कासिम सुलेमानी के मारे जाने के बाद यह कार्रवाई की गयी थी. सुलेमानी पर हमले का आदेश शुक्रवार को अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दिया था.

इसे भी पढ़ें- #JNU पहुंचीं दीपिका पादुकोण, स्टूडेंट्स के प्रदर्शन का किया समर्थन

एक दर्जन से अधिक बैलिस्टिक मिसाइल दागी

अमेरिका और ईरान में जंग की आशंका के बीच इराक में अमेरिकी सेना के ठिकानों पर हमला हुआ. ईरान ने बैलिस्टिक मिसाइल से हमला बोला है. जानकारी के मुताबिक एक दर्जन से अधिक मिसाइलें दागी गयी है.

अधिकारियों ने बताया कि राष्ट्रपति ट्रंप को इस संबंध में जानकारी दे दी गयी है और वह स्थिति पर नजर बनाये हुए हैं. पेंटागन के प्रवक्ता जोनाथन हॉफमैन ने ईरान के मिसाइल हमले की पुष्टि करते हुए कहा कि हम युद्ध में हुए शुरुआती नुकसान का आकलन कर रहे हैं.

हॉफमैन ने बताया कि सात जनवरी को शाम साढ़े पांच बजे ईरान ने इराक में अमेरिकी सेना और उसके सहयोगी बलों पर एक दर्जन से अधिक बैलिस्टिक मिसाइल दागी.

उन्होंने कहा कि यह स्पष्ट है कि ये मिसाइलें ईरान ने दागी और इराक में अल-असद और एरबिल स्थित कम से कम दो इराकी सैन्य अड्डों को निशाना बनाया जहां अमेरिकी सेना और उसके सहयोगी बल ठहरे हुए हैं.

इसे भी पढ़ें- #NirbhayaCase: दोषियों को मौत की सजा पर निर्भया के दादा ने कहा- देर ही सही, न्याय तो मिला

स्थिति पर करीब से नजर बनाये हुए हैं ट्रंप

इराक में अमेरिकी केन्द्रों पर हमले की खबर राष्ट्रपति ट्रंप को दे दी गयी है. वह लगातार इसपर नजर बनाये हुए हैं.

व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव स्टेफनी ग्रिशम ने बताया कि राष्ट्रपति ट्रंप को मौजूदा स्थिति की जानकारी दे दी गयी है. ग्रिशम ने कहा कि हम इराक में अमेरिकी केन्द्रों पर हमले की खबरों से वाकिफ हैं.

राष्ट्रपति को इसकी जानकारी दे दी गयी है और वह स्थिति पर करीब से नजर बनाए हुए हैं. साथ ही वह राष्ट्रीय सुरक्षा दल से परामर्श कर रहे हैं. 

गौरतलब है कि ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड के अगुवा हुसैन सलामी ने अमेरिका के समर्थन वाले स्थानों को “आग के हवाले” करने की मंगलवार को धमकी दी थी. सलामी ने कर्मन के एक चौराहे पर जमा हुए हजारों लोगों के सामने यह प्रतिज्ञा ली थी. कर्मन मृतक जनरल कासिम सुलेमानी का गृह प्रदेश है. सुलेमानी की मौत के बाद पूरे पश्चिम एशिया में हालात तनावपूर्ण हैं. 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like