न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

20 हजार रुपये निवेश करें, सालाना 1 लाख 30 हजार का मुनाफा कमायें: सीएम

608
  • मुख्यमंत्री रघुवर दास ने मीठी क्रांति योजना की शुरूआत की
  • मीठी क्रांति के तहत मिली है 100 करोड़ की स्वीकृति
  • प्रथम चरण में 10 करोड़ की राशि की गई है निर्गत
  • 1207 किसान प्रथम चरण में हुये लाभान्वित
  • किसानों की आय अब दोगुनी नहीं चार गुनी करेंगे

Ranchi: सीएम रघुवर दास ने कहा कि राज्य में मीठी क्रांति के लिए 100 करोड़ की योजना को स्वीकृति प्रदान गई है. ताकि राज्य में नीली क्रांति के बाद मीठी क्रांति का आगाज हो सके. प्रथम चरण में राज्य सरकार द्वारा 1207 किसानों को प्रशिक्षण देने के बाद, उन्हें मधुमक्खी पालन के लिये एक लाख लागत की इकाई प्रदान की जा रही है. जिसमें 80 हजार की अनुदान राशि सरकार दे रही है. 20 हजार की राशि का भुगतान लाभुक करेंगे. इस तरह एक किसान 20 हजार की पूंजी निवेश कर सालाना 1 लाख 30 हजार की आमदनी कर सकते हैं.

सीएम गुरुवार को प्रोजेक्ट भवन में आयोजित मीठी क्रांति योजना के शुभारंभ के अवसर पर बोल रहे थे. उन्होंने कहा कि हरित क्रांति, श्वेत क्रांति, नीली क्रांति के बाद मीठी क्रांति के वाहक बन राज्य के किसानों की आय को 2022 तक दोगुनी नहीं, बल्कि 4 गुनी करने की दिशा में कार्य करेंगे.

24 फरवरी को प्रधानमंत्री कृषि सम्मान योजना का होगा शुभारंभ

प्रधानमंत्री 24 फरवरी 2019 को उत्तर प्रदेश से और राज्य सरकार रांची के ओरमांझी से प्रधानमंत्री कृषि सम्मान योजना का शुभारंभ करेगी. इसके बाद 27 फरवरी 2019 से राज्य के सभी जिलों में योजना का शुभारंभ होगा. इसके तहत प्रथम चरण में 2 हजार रुपये डीबीटी के माध्यम से किसानों के खाते में जायेंगे. वहीं दूसरी ओर राज्य सरकार की मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना के तहत अप्रैल माह से 5 हजार रुपये राज्य के 22 लाख 76 हजार किसानों को उनके बैंक खाते में दिये जायेगा. ताकि बरसात से पूर्व किसान खेती से संबंधित जरूरी संसाधन जुटा सकें. इस तरह केंद्र और राज्य सरकार की योजना से एक किसान को न्यूनतम 11 और अधिकत्तम 31 हजार रुपये डबल इंजन की सरकार से प्राप्त होगा.

खूंटी का कटहल सिंगापुर जा रहा है

मुख्यमंत्री ने कहा कि अब खूंटी का कटहल सिंगापुर जा रहा है. किसान भाई शहद का उत्पादन करें, बाजार सरकार उपलब्ध कराएगी. किसान सिर्फ एक फसल का उत्पादन कर अपने आय को नहीं बढ़ा सकते. पशुपालन, बागवानी और जैविक खेती पर भी ध्यान देना होगा. सरकार आपके साथ है. गव्य पालन हेतु 90 % अनुदान पर महिलाओं को दो गाय दी जा रही है. राज्य के युवा भी 50 % अनुदान पर दी जा रही गव्य योजना का लाभ लें. आपके उत्पाद को मिल्क फेडरेशन खरीद लेगी.

Related Posts

झारखंड में भाजपा ने फिर से लहराया परचम, आजसू ने भी खाता खोला

अपनी सीट नहीं बचा पाये प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ

आधुनिक खेती की जानकारी के लिये भेजा इजरायल

राज्य के किसानों को बदलते समय के अनुसार आधुनिक खेती की जानकारी उपलब्ध कराने के लिए 100 किसानों को इजरायल भेजा गया. आज वे किसान खुश हैं और आधुनिक खेती की दिशा में कार्य कर रहें हैं. अब हर वर्ष सरकार 100 किसानों को इजराइल भेजने का कार्य करेगी. यही वजह रही कि राज्य में एग्रीकल्चर एंड फूड समिट का आयोजन हुआ. ताकि राज्य के किसान आधुनिक कृषि से अवगत हो सकें. सरकार इस बात से भी उत्साहित है कि 2014 में जो कृषि विकास दर -4.5% थी. उसे राज्य के मेहनती किसानों ने 4 साल में +14% कर दिया.

500 मिलियन डॉलर का बाजार

यूरोप, चीन में भारतीय हनी की मांग अधिक है. पूरे विश्व में 500 मिलियन डॉलर का हनी का बाजार है. इस योजना के लिए सरकार द्वारा 100 करोड़ की स्वीकृत मिली है. योजना तहत एक इकाई में 1 लाख का खर्च आ रहा है जिसमें 80 हजार रुपये राज्य सरकार व 20 हजार रूपये लाभुक वहन करेगा. सरकार योजना के तहत 80 % अनुदान प्रदान कर रही है. इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने सांकेतिक तौर पर जलेश कोंगड़ी, खूंटी के लक्ष्मण महतो, गुमला की सरिता देवी व अमरुद्दीन अंसारी को मधुमक्खी पालन हेतु 1 इकाई सौंपी. इस इकाई में 20 मधुमक्खी की कॉलोनी है.

इसे भी पढ़ेंः जवानों की सुरक्षा को लेकर मोदी सरकार का फैसलाः श्रीनगर आने-जाने के लिए मिलेगी प्लेन की सुविधा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: