न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट गृह मंत्रालय को,  रोहिंग्या पहुंच रहे हैं लद्दाख

भारत की ओर से रोहिंग्या को जहां एक तरफ वापस म्यांमार भेजने का सिलसिला जारी है वहीं खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट के अनुसार अवैध घुसपैठ करने वाले रोहिंग्या वापिस अपने देश जाने की बजाय लद्दाख पहुंच रहे हैं.

33

NewDelhi :  भारत की ओर से रोहिंग्या को जहां एक तरफ वापस म्यांमार भेजने का सिलसिला जारी है वहीं खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट के अनुसार अवैध घुसपैठ करने वाले रोहिंग्या वापिस अपने देश जाने की बजाय लद्दाख पहुंच रहे हैं.  खुफिया एजेंसियों ने गृह मंत्रालय को एक रिपोर्ट सौंपी है जिसमें इस बात का खुलासा हुआ है कि रोहिंग्या सुरक्षित जगह की तलाश में लद्दाख की ओर कूच कर रहे हैं.  रिपोर्ट के अनुसार अब तक लगभग  55   रोहिंग्या लद्दाख पहुंच चुके हैं.  वहीं इस खबर से खूफिया एंजेसियां सतर्क हो गयी हैं कि कैसे रोहिंग्या लद्दाख पहुंचने में कामयाब हो गये. हाल ही में खुफिया एजेंसियों ने 14 ट्रेनों को चिन्हित किया था जिसके जरिये पूर्वोत्तर राज्यों से रोहिंग्या केरल में जाकर बस रहे थे. गृह मंत्रालय सूत्रों ने जानकारी दी है की इन रोहिंग्या को लद्दाख में बसाने के लिए कुछ स्थानीय लोग सपोर्ट देने में जुटे हुए हैं.

इसे भी पढ़ें  :  पत्रकारों के लिए असुरक्षित देश की सूची में भारत का 14वां नंबर

रोहिंग्या जो अलग-अलग राज्यों में रह रहे हैं उनके मूवमेंट पर नजर रखी जाये

इस खबर के आने के बाद गृह मंत्रालय ने संज्ञान लेते हुए सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को अलर्ट करते हुए कहा था कि रोहिंग्या जो अलग-अलग राज्यों में रह रहे हैं उनके मूवमेंट पर नजर रखी जाये.  रिपोर्ट के बाद गृह मंत्रालय ने रोहिंग्या के देश के दूसरे राज्यों में आने-जाने पर नजर रखने के लिए सुरक्षा एजेंसियों को कहा था. इससे पहले कई रोहिंग्याओं के परिवार समेत केरल पहुंचने की खबर आयी थी. रोहिंग्याओं को भारत से वापस म्यांमार भेजने का सिलसिला जारी है. भारत सरकार ने पिछले महीने अवैध रूप से घुसपैठ करने वाले सात रोहिंग्याओं को वापस म्यांमार भेजा था. यह पहली बार था, जब भारत ने अवैध रोहिंग्या घुसपैठियों को उनके देश म्यांमार वापस भेजा. केंद्र अब असम सरकार के साथ मिलकर 23 अवैध रोहिंग्या घुसपैठियों को वापस म्यांमार भेजने की तैयारियों में जुटी है.

इस बीच बांग्लादेश और म्यांमार इस महीने से रोहिंग्या शरणार्थियों की स्वदेश वापसी को लेकर राजी हो गये हैं. पिछले महीने संयुक्त राष्ट्र जांचकर्ताओं ने मुस्लिम अल्पसंख्यक समुदाय रोहिंग्या के खिलाफ नरसंहार जारी रहने की बात कही थी. म्यांमार सेना की ओर से पिछले साल अगस्त में चलाये गये नरसंहार के बाद सात लाख से ज्यादा रोहिंग्याओं ने बांग्लादेश में शरण ली थी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: