Khas-KhabarRanchi

रांची SDO का निर्देश : छूट मिली दुकानों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर खोलें, आवेदन की नहीं है जरूरत

Ranchi : केंद्र सरकार द्वारा देशभर में लॉकडाउन.4 को 31 मई तक बढ़ाने के बाद हेमंत सरकार ने कई क्षेत्रों में कुछ छूट दी है. लेकिन छूट को लेकर राजधानीवासियों के बीच कुछ असमंजस की स्थिति भी है. इसे दूर करने के लिए मंगलवार को रांची एसडीओ लोकेश मिश्रा ने एक प्रेस कांफ्रेस किया.

उन्होंने बताया कि राजधानी के वैसे दुकान जिसे सरकार ने खोलने की अनुमति दी है. वे दुकानदार खुद ही दुकानों को खोल सकते हैं. उसके लिए किसी तरह का कोई आवेदन नहीं करना पड़ेगा.

एसडीओ ने कहा कि हालांकि ऐसे दुकानों को हर तरह के सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य होगा. ऐसा नहीं करने पर उनपर कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

ram janam hospital
Catalyst IAS

हॉटस्पॉट बन चुके हिंदपीढ़ी इलाके के कुछ क्षेत्र को ईद के पहले कंटेनमेंट जोन से बाहर निकालने के सवाल पर, एसडीओ ने कहा कि राज्य सरकार को इस बाबत प्रस्ताव भेजा गया है.

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

इसपर स्टेट लेबल का टास्क फोर्स की ओर से ही कोई निर्णय लिया जायेगा. उसके बाद ही इसपर कुछ कहा जा सकता है. प्रेस कांफ्रेस में एसडीओ ने कहा है कि लॉकडाउन.4 में यह छूट केवल आर्थिक गतिविधियों में हो रहे नुकसान को देखते हुए दी गयी है. लेकिन शहरवासियों से यह अपील है कि लोग बेवजह घऱ से बाहर नहीं निकलें.

इसे भी पढ़ें – #JPSC नियुक्ति घोटाला के अभियुक्तों की अग्रिम जमानत याचिकाओं की एक साथ होगी सुनवाई

जानिए, लॉकडाउन.4 के दौरान रांची शहर में क्या-क्या रहेगी छूट

लॉकडाउन 4.0 में केंद्र सरकार द्वारा जारी किये गये गाइडलाइंस के आलोक में राज्य सरकार द्वारा दिशा निर्देश दिये गये हैं. रांची जिला में भी लॉकडाउन 4.0 के दौरान छूट दी गयी है. कुछ प्रमुख बिंदु निम्न हैं :-

• कंस्ट्रक्शन संबंधित वस्तुओं में सेनिटरीवेयर, बिजली, हार्डवेयर, ग्लास, प्लाईवुड, टाईल्स, टिम्बर की दुकानें खुलेंगी.

• शहर में संचालित दुकान अपनी वस्तुओं की आपूर्ति के लिए मालवाहक का प्रयोग कर सकते हैं.

• वेयरहाउस जो खुले रहेंगे, वे अपने माल ट्रांसपोर्ट में भी भेज सकते हैं तथा माल की डिलीवरी भी कर सकते हैं.

• शहर में सभी प्रकार के प्राइवेट कार्यालय 33 फीसदी कर्मचारियों के साथ खोलने की अपील की जाती है.

• दुकान में किसी भी समय पांच ग्राहकों से अधिक लोग नहीं हों, यह सुनिश्चित करना अनिवार्य है.

• छूट के दायरे में आने वाले दुकान-प्रतिष्ठान स्वतः खोले जा सकेंगे, इसके लिए ज़िला प्रसाशन से अनुमति लेने की आवश्यकता नहीं.

• प्रतिष्ठान/दुकान को खोलने की अनुमति दी गयी है, वह प्रोटोकॉल का पालन करेंगे. चूक होने पर जिला प्रशासन द्वारा कार्रवाई की जाएगी.

• शाम 7:00 बजे से सुबह 7:00 बजे तक केवल आवश्यक वस्तुओं की दुकानें ही खुलेंगे.

• सार्वजनिक स्थानों पर फेस मास्क का इस्तेमाल अनिवार्य होगा.

• कंटेनमेंट जोन में किसी प्रकार की गतिविधि की अनुमति नहीं है, कंटेनमेंट जोन के बाहर ही गतिविधि की अनुमति है.

• जिला और अंतर जिला में टैक्सी को भाड़े पर चलाने की अनुमति होगी.

• व्यवसायिक वाहन की श्रेणी में रजिस्ट्रेशन प्रमाण पत्र ही रूट पास माना जाएगा. इसके लिए अलग से पास लेने की जरूरत नहीं होगी.

• व्यवसायिक वाहन की बुकिंग प्रारंभ स्थान से गंतव्य स्थान के लिए ही होगा. बीच में रोककर सवारी लेने पर प्रतिबंध है.

• व्यवसायिक वाहन चालक को मास्क फेस कवर और ग्लव्स लगाना अनिवार्य होगा.

• टैक्सी में स्प्रे सैनिटाइजर रखना होगा एवं प्रत्येक बार नये यात्रियों के बैठने के पूर्व सीटों को सैनिटाइज करना होगा.

• 5 सीटर टैक्सी में ड्राइवर के अतिरिक्त 2 यात्री तथा 6-7 सीटर टैक्सी में ड्राइवर के अलावा 3 यात्री ही यात्रा कर सकेंगे.

• बैठने के समय यात्रियों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए सीट के दोनों किनारे पर बैठना होगा.

• यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए मास्क पहनना अनिवार्य होगा.

• यात्रा के दौरान यात्रियों, चालक द्वारा धूम्रपान, पान, गुटखा, खैनी खाना प्रतिबंधित रहेगा.

• यात्रा के दौरान अपने सामान डिक्की में रखना अनिवार्य होगा.

• चालक को यात्रा कर रहे यात्री की सूचना यात्री पंजी में दर्ज करानी होगी एवं उसे सुरक्षित रखना होगा. साथ ही कांटेक्ट ट्रेसिंग के लिए प्रशासन द्वारा मांगे जाने पर उपलब्ध कराना होगा.

• यात्री पंजी में चालक को क्रम संख्या, दिनांक, यात्री का नाम, पूरा पता, कहां से कहां यात्रा करना है एवं मोबाइल नंबर का उल्लेख करना होगा.

• यात्रा करने वाले यात्री टैक्सी का रजिस्ट्रेशन संख्या, चालक का नाम, मोबाइल नंबर तथा यात्रा करने वाले अन्य लोगों के नाम एवं मोबाइल नंबर निश्चित रूप से अपने पास सेव रखेंगे. जिसे कांटेक्ट ट्रेसिंग के लिए प्रशासन द्वारा मांगे जाने पर उपलब्ध कराना होगा.

• यात्री एवं चालक स्मार्टफोन रहने पर आरोग्य सेतु एप इंस्टॉल करेंगे एवं मोबाइल ऑन रखेंगे.

• इन शर्तों के साथ कैब एग्रीगेटर्स तथा ओला, उबर तथा अन्य भी अपने वाहन चला सकते हैं.

इसे भी पढ़ें – डीजी साथ प्रोजेक्ट में बेहतर प्रदर्शन करने वाले तीन शिक्षकों को JEPC ने किया सम्मानित

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button