न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नगर निगम का निर्देश, चिन्हित मूर्ति विसर्जन पॉइन्ट पर ही करें मूर्ति विसर्जन

मूर्ति विसर्जन बाद पानी की गुणवत्ता होती है प्रभावित, इसे देख बॉम्बे हाईकोर्ट के निर्देश का निगम ने दिया हवाला

96

Ranchi : मूर्ति विसर्जन से नदी/तालाब/झील में होने वाले प्रदूषण को देख रांची नगर निगम ने विभिन्न पूजा समितियों को अपने चिन्हित विसर्जन स्थलों पर ही मूर्ति विसर्जन करने का निर्देश दिया है. इसके लिए निगम उक्त सभी जलस्त्रोतों के चिन्हित स्थलों पर बांस एवं लाल फिता से घेराबंदी कर मूर्ति विसर्जन पॉइन्ट बनाएगा. इस संदर्भ में सहायक लोक स्वास्थ्य पदाधिकारी ने एक आदेश जारी किया है. दूसरी और दूर्गा पूजा को देखते हुए आगामी 15 से 20 अक्टूबर तक विभिन्न पंडालों में टैंकर से पानी उपलब्ध कराने एवं बॉयो मोबाईल टॉयलेट लगवाने के कार्य के लिए वार्ड 20 स्थित नागाबाबा खटालों में विभिन्न चालकों की प्रतिनियुक्ति की गयी है.

इसे भी पढ़ेंः रिम्स में दलालों के खिलाफ आवाज उठाने वाली लालपरी देवी नहीं बचा सकी अपने पति को

बॉम्बे हाईकोर्ट ने दिया था निर्देश

मालूम हो कि पूजा बाद मूर्ति विसर्जन से नदी/तालाब/झील में होने वाले प्रदूषण को देखते हुए बॉम्बे हाईकोर्ट ने एक निर्देश दिया था. उसी निर्देश के आलोक में नगर निगम ने कहा कि हाल के महिनों में कई त्यौहार सामने हैं. जिसमें मूर्तियों का विसर्जन नदी/तालाब/झील में किया जाता है. इससे इन जलस्त्रोतों के पानी की गुणवत्ता प्रभावित होती है. इसे देख जरूरी है कि इन जलस्त्रोतों की गुणवत्ता प्रभावित न हो.

इसे भी पढ़ेंः 45 प्रमोटी IAS मेन स्ट्रीम से बाहर, सिर्फ दो को ही मिली है जिले की कमान, गैर सेवा से आईएएस बने दो अफसर हैं डीसी

कई चालकों की हुई प्रतिनियुक्ति

palamu_12

दुर्गापूजा के बाद शहर में फैलने वाली गंदगी निगम के लिए एक बड़ी चुनौती है, ताकि स्वच्छ भारत मिशन की उपलब्धियों को बनाया रखा जाए. इसके लिए निगम ने अपने अधीन कार्यरत चालक, स्वीपर एवं कुली को प्रतिदिन सुबह 6 बजे से अपने-अपने पालियों में विभिन्न पूजा पंडालों में प्रतिनियुक्त करने का निर्देश दिया है. इसके साथ वाटर टैंक और बॉयो मोबाइल टॉयलेट वैन के साथ कई चालाकों को वार्ड 20 के नागा बाबा खटाल में भी प्रतिनियुक्त किया गया है.

इसे भी पढ़ेंःगैर सेवा IAS संवर्ग में प्रमोशन के लिए 10 नाम तय, UPSC को भेजी गई अनुशंसा

बढ़ते प्रदूषण को देख दिए निम्न निर्देश

• निगम द्वारा चिन्हित कर बनाए मूर्ति विसर्जन पॉइंट पर ही विभिन्न पूजा समितियां विसर्जन करें. इस पॉइंट की घेराबंदी बांस एवं लाल फिता से की जाएगी.
• मूर्ति में इस्तेमाल होने वाले कृत्रिम आभूषण, वस्त्र, फूल-माला आदि सभी को इन विसर्जन पॉइंट पर प्रतिनियुक्त सुपरवाइजर एवं कर्मियों को पूजा समितियां उपलब्ध कराएं.
• विसर्जन की प्रक्रिया पूरी होने के 48 घंटे के अंदर विसर्जित मूर्तियों के अवशेष को निगम के कर्मचारी पानी से निकालें.
• निगम के संबंधित मल्टीपरपस सुपरवाइजर सभी आवश्यक संसाधनों के साथ विसर्जन स्थल पर मौजूद रहें. इस दौरान वे पूजा समितियों से समन्वय स्थापित कर मूर्तियों में उपयोग किये गये बॉयोडीग्रेबल एवं नन-बॉयोडीग्रेबल को अलग-अलग प्राप्त करें.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: