JharkhandRanchi

गांवों की प्यास बुझाने की पहल, अंतिम चरण में पहुंची हर पंचायत में 5-5 चापाकल लगाने की योजना, मंत्री मिथिलेश ठाकुर करेंगे समीक्षा

Ranchi : राज्य की सभी पंचायतों में 5-5 चापाकल लगाने की तैयारी लगातार जारी है. यह काम अब अंतिम अवस्था की ओर है. इसकी वर्तमान स्थिति की समीक्षा पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री मिथिलेश कुमार ठाकुर गुरूवार को करेंगे. नलकूप निर्माण का टेंडर, जारी कार्यादेश, एकरारनामा, कार्यारंभ और भौतिक उपलब्धि की स्थिति चेक की जायेगी.

इसे भी पढ़ें :‘कभी खुशी कभी गम’ से ‘बाबा का ढाबा’ जाने के लिए भी बन जाता है ई-पास, ऐसे बन रहा मजाक

इसके लिये वित्तीय वर्ष 2020-21 में ही स्वीकृति दी गयी थी. चापाकलों की दैनिक मरम्मति, चापाकलों के सड़े राईजर पाईप बदलने के कार्य की भी समीक्षा होनी है. इसके साथ ही अलग अलग जिलों में संचालित ग्रामीण जलापूर्ति योजनाओं और उसके भौतिक उपलब्धियों की भी ऑनलाइन समीक्षा की जायेगी.

Catalyst IAS
ram janam hospital

दुमका जोन से होगी शुरूआत

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

मिथिलेश ठाकुर गुरुवार को दुमका प्रक्षेत्र के विभिन्न जलापूर्ति योजनाओं की वर्तमान स्थिति की जानकारी विभागीय अधिकारियों से लेंगे. इसके प्रक्षेत्र के अंतर्गत दुमका, देवघर, गोडडा, जामताड़ा, पाकुड, साहेबगंज, गिरिडी, धनबाद और बोकारो जिले शामिल हैं. इसके अगले दिन (शुक्रवार) रांची प्रक्षेत्र में शामिल जिलों की खबर ली जायेगा.

इसमें रांची, सिमडेगा, कोडरमा, हजारीबाग, रामगढ़, चतरा, पूर्वी सिंहभूम, पश्चिम सिंहभूम, सरायकेला-खरसावां, खूंटी, गुमला, लोहरदगा, लातेहार, पलामू एवं गढ़वा जिले हैं. आनॅलाईन समीक्षा बैठक के दौरान राज्य के विभिन्न जिलों में चल रही ग्रामीण जलापूर्ति योजनाओं, राज्यान्तर्गत जलापूर्ति योजना में अबतक की कुल भौतिक उपलब्धि,

इसे भी पढ़ें : जानिये, क्या हुआ जब हवलदार ने रांची के एसएसपी को ई-पास के लिये रोक दिया

कार्यादेश निर्गत योजनाओं का एकरारनामा, कार्यारंभ की स्थिति, भौतिक प्रगति, स्वीकृत योजनाओं की लंबित निविदा की स्थिति, डीपीआर के तकनीकी स्वीकृति की स्थिति, एसभीएस (एकल ग्रामीण जलापूर्ति योजना) एवं रेट्रफिटिंग की स्वीकृत योजनाओं की कुल संख्या, निविदा प्रकाशन, निविदा निस्तार, कार्यादेश, एकरारनामा, अद्यतन भौतिक प्रगति की समीक्षा की जानी है.

कौन-कौन रहेंगे शामिल

ऑनलाईन समीक्षा बैठक के दौरान मंत्री के अलावा विभागी सचिव, अभियंता प्रमुख, मुख्य अभियंता (पीएमयू), मुख्य अभियंता (सीडीओ), दुमका तथा रांची प्रक्षेत्र के सभी अधीक्षण औऱ कार्यपालक अभियंता को भी उपस्थित रहने को कहा गया है.

Related Articles

Back to top button