JharkhandPalamu

घोर नक्सल प्रभावित क्षेत्र के ग्रामीणों को दी गयी कानून की जानकारी

Palamu : नालसा व झालसा के निर्देशानुसार व जिला विधिक् सेवा प्राधिकरण के तत्वावधान में 10 दिनों तक चलने वाले डोर टू डोर विधिक जागरूकता अभियान की शुरुआत हो गयी है. प्राधिकरण के सचिव प्रफुल्ल कुमार ने टीम के सदस्यों को व्यवहार न्यायालय परिसर से रवाना किया.

इसे भी पढ़ेंःरांची, लातेहार और पलामू से चोरी की गयी 19 मोटरसाइकिलें बरामद, सरगना सहित तीन गिरफ्तार

लोगों से शिकायत व सुझाव मांगा गया

ram janam hospital
Catalyst IAS

डोर टू डोर विधिक जागरूकता के लिए पैनल अधिवक्ता संतोष कुमार पांडेय को टीम लीडर बनाया गया है. उनके साथ 8 पारा लीगल भोलेंटियर को भी लगाया गया है. उक्त टीम सबसे पहले विश्रामपुर थाना के अमवादमर में पहुंची, जहां डोर टू डोर कंपेनिंग कर लोगों से शिकायत व सुझाव मांगा गया. लोगों को जिला विधिक् सेवा प्राधिकरण द्वारा प्रदत्त सुविधाओं के बारे में भी जानकारी दी गयी.विदित हो कि उक्त टीम के माध्यम से जिले में अति पिछड़े गावों में जागरूकता अभियान 18 नवंबर तक चलेगा. लीगल डे के मौके पर नालसा के निर्देशानुसार दस दिनों तक डोर टू डोर कैंपन आरंभ किया गया है.

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

इसे भी पढ़ेंःमोमेंटम झारखंड का हवाला देकर प्राइवेट यूनिवर्सिटी नहीं बना रही अपना कैंपस

पीड़ित प्रतिकर अधिनियम के बारे में  दी गयी जानकारी

मौके पर टीम लीडर व अधिवक्ता संतोष कुमार पांडेय ने कहा कि अब न्याय के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाना नहीं पड़ेगा. न्याय आपके दरवाजे पर मिलेगी. नालसा के द्वारा एक अनूठी पहल की गयी है. उन्होंने कहा कि कानून की जानकारी सबसे बड़ी ताकत है. उन्होंने झारखंड पीड़ित प्रतिकर अधिनियम के बारे में भी जानकारी दी. मौके पर ग्रामीणों ने जॉब कार्ड, वृद्धापेंशन और राशन कार्ड वितरण में अनियमितता  से सम्बंधित शिकायत की. टीम के लोगों द्वारा शनिवार को विश्रामपुर को ही राजखाड़ गांव में कार्यक्रम किया गया. मौके पर देवराज शर्मा, गजेन्द् प्रसाद, सुमंत मेहता, श्रीकांत तिवारी, सुचिता एक्का, भोला नाथ शर्मा आदि लोग उपस्थित थे.

Related Articles

Back to top button