न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लंबी-लंबी तारीख देकर RTI कार्यकर्ताओं को परेशान कर रहा सूचना आयोग : इंदू देवी

रांची में मनायी गयी आरटीआई एक्ट-2005 की 13वीं वर्षगांठ, भारतीय सूचना अधिकार परिषद की केंद्रीय कमिटी का हुआ गठन

184

Ranchi : भारतीय सूचना अधिकार परिषद द्वारा रांची में आरटीआई एक्ट-2005 की 13वीं वर्षगांठ मनायी गयी. इस अवसर पर आयोजित सम्मेलन में भारतीय सूचना अधिकार परिषद की केंद्रीय कमिटी का गठन किया गया और आरटीआई एक्ट में बेहतर कार्य करनेवालों को सम्मानित किया गया. सम्मेलन में आरटीआई कार्यकर्ताओं को सूचना मांगने में हो रही परेशानियों पर चर्चा की गयी. सम्मेलन को संबोधित करते हुए इंदू देवी ने कहा सूचना आयोग में आरटीआई एक्टिविस्ट को लंबी-लंबी तारीख देकर कार्यकर्ताओं को परेशान किया जा रहा है. महासचिव शमशेर आलम ने कहा कि आरटीआई कार्यकर्ता को प्रताड़ित करने के लिए उनके ऊपर झूठे मुकदमे दायर किये जा रहे हैं और देश में लगातार आरटीआई एक्टिविस्ट की हत्या हो रही है. सरकार को आरटीआई एक्टिविस्ट को सुरक्षा मुहैया कराना चाहिए. कोषाध्यक्ष जागेश्वर मुंडा ने कहा कि आरटीआई एक्टिविस्ट सरकार के कार्य में पारदर्शिता लाने का काम कर रहे हैं, ऐसे में उन्हें परेशान करना अलोकतांत्रिक है.

इसे भी पढ़ें- सस्पेंड किये गये दहेज उत्पीड़न के आरोपी प्रोफेसर जेबी पांडेय

दो नवंबर को राज्य के सभी प्रखंडों में जागरूकता अभियान चलायेगी परिषद

hosp3

संयोजक इनामुल हक ने कहा कि आरटीआई एक्टिविस्ट लगातार भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद करते रहे हैं, जिसके कारण भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कार्रवाई भी हो रही है. वहीं, सम्मेलन में तय किया गया कि भारतीय सूचना अधिकार परिषद दो नवंबर 2018 से सूचना का अधिकार अधिनियम (आरटीआई एक्ट) के तहत राज्य के सभी प्रखंडों में जागरूकता अभियान चलायेगी और लोगों को आरटीआई एक्ट-2005 के प्रति महिला में जागरूकता लाने का काम करेगी. सम्मेलन में मुख्य अतिथि के तौर पर जस्टिस दिलीप कुमार सिंह, पूर्व सूचना आयुक्त, झारखंड और विशिष्ट अतिथि के रूप में पूनम सिन्हा, आरती राणा, देवकी बड़ाईक, चंद्रशेखर झा, अनूप कुमार सिन्हा और राजीव कुमार थे.

इसे भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट ने योगेंद्र साव और निर्मला देवी को दी राहत, झारखंड हाईकोर्ट में प्राथमिकता के आधार पर…

केंद्रीय कमिटी में ये किये गये शामिल

सम्मेलन में झारखंड के आरटीआई कार्यकर्ताओं को उनके उत्कृष्ट कार्य एवं उनके संघर्ष के लिए सम्मानित किया गया. साथ ही केंद्रीय कमिटी का भी गठन किया गया, जिसमें सर्वसम्मति से इंदू देवी को अध्यक्ष, शमशेर आलम को महासचिव, जागेश्वर मुंडा को कोषाध्यक्ष, शीला सिन्हा को महिला प्रकोष्ठ अध्यक्ष, उपाध्यक्ष के रूप में आशीष कुमार शर्मा, शशि रंजन, राजा चंदन कुणाल, कोडरमा के अरुण कुमार, लातेहार के लाल मोहन सिंह, पूर्वी सिंहभूम से कलन महतो, धनबाद से सुरेश कुमार, लोहरदगा के शकील अख्तर, बोकारो के रवि वर्मा बनाये  गये. वहीं, सचिव के पद पर धनबाद के महेश कुमार, सिल्ली के लकी चरण मुंडा, रामगढ़ से प्रमोद चौहान, देवघर के कुंदन कुमार, सरायकेला-खरसावां से प्रकाश महतो को बनाया गया. मीडिया प्रभारी सुमित कुमार बनाये गये. वहीं, विधि सलाहकार विशाल कुमार सिंह को बनाया गया. केंद्रीय सदस्य के रूप में महालाल हेंब्रम, सज्जन कुमार, अशोक कुमार, विकी साहू, सुरेंद्र पांडे, सुनील राम, विजय प्रकाश, राजेश पोद्दार, समूल अंसारी, सरफराज अंसारी, भोला साव, रियाज अंसारी, नवीन कुमार महतो को बनाया गया.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: