National

सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने जारी किया सीबीएफसी का नया लोगो

Mumbai: सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन (सीबीएफसी) को नया लोगो और सर्टिफिकेट डिजाइन मिल गया है. 31 अगस्त को मुंबई में एक कार्यक्रम में इसका अनावरण सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने किया. कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर सूचना और प्रसारण सचिव अमित खरे भी उपस्थित थे.

नए लोगो और प्रमाण पत्र की पहचान सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन के अध्यक्ष द्वारा दी गयी. नये लोगो और सर्टिफिकेट को लेकर सेंसर बोर्ड के चीफ प्रसून जोशी उत्साहित हैं. प्रसून का कहना है कि नये लोगो का डिजाइन भविष्य को सोच कर किया गया है. यह आज की डिजिटल दुनिया के लिए एकदम सटीक बैठता है. इस डिजाइन को नेशनल सेक्योरिटीज़ डिपोसिट्री लिमिटेड की टेक्निकल सपोर्ट टीम के साथ मिल कर डिजाइनर रोहित देवगन ने तैयार किया है.

इसे भी पढ़ें – झारखंड के सरकारी कर्मियों की रिटारमेंट 62 नहीं 60 साल में ही, कार्मिक की फर्जी चिट्ठी सोशल मीडिया पर वायरल

advt

क्या है सीबीएफसी

केन्द्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड या भारतीय सेंसर बोर्ड भारत में फिल्मों, टीवी धारावाहिकों, टीवी विज्ञापनों और विभिन्न दृश्य सामग्री की समीक्षा करने संबंधी विनियामक निकाय है. यह भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के अधीन है. इसमें यह तय किया जाता है कि फिल्म का कंटेट कैसा है और उसे किस प्रकार के सर्टिफिकेट के साथ जारी करने का प्रमाण पत्र दिया जाये. साथ ही वह आपत्तजनक सामग्री को निकालने का निर्देश भी देता है. केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड की स्थापना सिनेमोटोग्राफ एक्ट 1952 के तहत की गई है. पूर्व में सेंसर बोर्ड के नाम से प्रसिद्ध यह संगठन भारत में प्रदर्शित होने वाली विभिन्न श्रेणी की फिल्मों के लिए प्रमाण पत्र जारी करता है. बोर्ड की अनुमति के बिना भारत में कोई भी देशी अथवा विदेशी फिल्मों का सार्वजनिक प्रदर्शन नहीं किया जा सकता.

इसे भी पढ़ें – जीडीपी में ऐतिहासिक गिरावटः नाकामयाबियों को भी सफलता की कहानी बताने का नतीजा तो नहीं !

केन्द्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड की फिल्मों के लिए 4 श्रेणियां हैं

यू- इन फिल्मों को सभी आयु वर्ग के व्यक्ति देख सकते हैं.

यू/ए- इस श्रेणी की फिल्मों के कुछ दृश्यों में हिंसा, अश्लील भाषा या यौन संबंधित सामग्री हो सकती है. इस श्रेणी की फिल्में केवल 12 साल से बड़े व्यक्ति किसी अभिभावक की उपस्थिति में ही देख सकते हैं.

adv

ए- यह वह श्रेणी है जिसके लिए सिर्फ वयस्क यानि 18 साल या उससे अधिक उम्र वाले व्यक्ति ही पात्र हैं.

एस- यह विशेष श्रेणी है. यह उन फिल्मों को दी जाती है जो विशिष्ट दर्शकों जैसे कि इंजीनियर या डॉक्टर आदि के लिए बनायी जाती हैं.

इसे भी पढ़ें – कोलकाता में आयुष्मान भारत के कार्ड से नहीं हुआ इलाज, वृद्ध ने तालाब में कूद कर दे दी जान

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button