न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आदिवासी स्टूडेंट्स को दी पांचवीं अनुसूची के फायदे और नुकसान की जानकारी

293

Ranchi : बरियातू स्थित आरोग्य भवन सभागार में शनिवार को छोटानागपुर महाराजा मदरा मुंडा की स्मृति पर पांचवीं अनुसूची जैसे मुद्दों पर व्याख्यानमाला का आयोजन किया गया. पांचवीं अनुसूची के बारे में आदिवासी छात्र-छात्राओं को जानकारी दी गयी. पांचवीं अनुसूची क्या है, इससे क्या फायदा है, क्या नुकसान है, इन सब मुद्दों पर विस्तृत जानकारी दी गयी.

इसे भी पढ़ें- मासूम बच्चों के पोषाहार पर भी ग्रहण, चार माह से नहीं मिल रहा पोषाहार, कैसे तंदरूस्त होंगे बच्चे

आदिवासी जनता को बरगलाने का काम कर रहे हैं कुछ नेता : प्रदीप मुंडा

इस मौके पर आदिवासी ट्राइबल निदेशक प्रदीप मुंडा ने कहा कि आदिवासी जनजातियों की शासन व्यवस्था प्रारंभ से ही चलती आ रही है. लेकिन, कुछ नेता विवादों को छेड़कर भोली-भाली आदिवासी जनता को बरगलाने का काम कर रहे हैं. पांचवीं अनुसूची को तोड़-मरोड़कर जनता के सामने पेश किया जा रहा है. इन सब बातों को छात्र-छात्राओं के बीच रखा जायेगा, उन्हें समझने का मौका मिलेगा.

इसे भी पढ़ें- अंडरग्राउंड केबलिंग का काम हो गया अंडरग्राउंड, फ्यूज हो गया 24 घंटे बिजली सप्लाई का दावा

पांचवीं अनुसूची जैसे मुद्दों को ज्यादा हवा नहीं देनी चाहिए :  शिवशंकर

गुमला विधायक शिवशंकर उरांव ने कहा कि पांचवीं अनुसूची जैसे मुद्दों को ज्यादा हवा नहीं देनी चाहिए. इस तरह की व्याख्यानमाला छात्र-छात्रों के बीच अत्यंत ही जरूरी है, ताकि आदिवासी छात्र-छात्राओं में व्यापक रूप से पांचवीं अनुसूची की जानकारी हो सके और वे अपने गांव-समाज में भी जानकारी दे सकें. इन सब मुद्दों पर कुछ नेता राजनीति करके अपने अस्तित्व को बचाने में लगे हैं, लेकिन आज की जनता जागरूक है, वह विकास, रोजगार के साथ ही रहेगी. वहीं, अशोक भगत ने कहा कि पांचवीं अनुसूची को लेकर जनता को जागरूक करना आवश्यक है. सरकार भी इसपर पहल करे, ताकि जनता इन सब मुद्दों को ज्यादा अहमियत न दे. इन सब मुद्दों पर कुछ नेता राजनीति करके अपने अस्तित्व को बचाने में लगे हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: