JharkhandRanchi

पूर्ण बहुमतवाली सरकार में उद्योग धंधे हो रहे चौपट, सरकार श्वेत पत्र जारी कर जनता को हिसाब दे : मरांडी

विज्ञापन

Ranchi : झारखंड में बंद हो रहे उद्योग और कारखानों से बेरोजगार हो रहे कामगारों के सवाल पर पूर्व मुख्यमंत्री व झाविमो अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी ने भाजपा सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा-खुद को पूर्ण बहुमत और डबल इंजन वाली सरकार कह कर प्रचारित करने वाली भाजपा सरकार की नीतियों के कारण राज्य के उद्योग धंधे बंद हो रहे हैं . पांच साल में राज्य में निवेशकों को लाने के लिए जनता की गाढ़ी कमाई को बर्बाद करने का काम किया गया है.

राज्य सरकार ने निवेशकों को लुभाने के लिए विभिन्न आयोजनों, रोड शो से लेकर मोमेंटम झारखंड कर राज्य की गरीब जनता के 900 करोड़ बर्बाद करने का काम किया है. जबकि हाथी उड़ने के नाम पर खर्च हुई राशि के एवज में  राज्य में कुछ भी निवेश नहीं हुआ. भाजपा सरकार ने अपने पांच साल के कार्यकाल में  3500 हजार करोड़ निवेश के लिए 600 कंपनियो के साथ एमओयू किया.

लेकिन जिन कपंनियों से एमओयू किये गये, उन कंपनियों ने राज्य में निवेश नहीं किया. भाजपा की अर्जन मुंडा की सरकार ने भी कंपनियों के साथ एमओयू किया था. उसका भी भाजपा को राज्य की जनता को हिसाब देना चाहिए.

advt

इसे भी पढ़ें – आइआइटी धनबाद के टॉप ब्रांच के छात्रों को भी नौकरी मिलने में हो रही दिक्कत, 2018-19 में 24 फीसदी छात्रों का नहीं हुआ प्लेसमेंट

राज्य में छोड़े और मंझले उद्योग बंद हो रहे और बड़े पर भी संकट के बादल

झाविमो अध्यक्ष  ने कहा मोमेंटम का आयोजन कर राज्य सरकार ने हाथी उड़ाने का काम किया . बहुमत और डबल इंजन वाली सरकार की नीतियों के कारण रांची, जमशेदपुर, बोकारो, रामगढ़ जिले में सैकड़ों छोटे-बड़े उद्योग बंदी के कगार पर है. कई उद्योग बंद भी हो गये. वहीं गिरिडीह में स्पंज आयरन इंडस्ट्री पर भी सुस्ती का माहौल है .राज्य में पहली बार व्यापारिक संगठनों ने मुख्यमंत्री आवास के पास होर्डिंग लगाकर सरकार की नीतियों का विरोध किया है. कहा कि सरकार के कामकाज पर भी सवाल खड़े किया गये हैं.

 सरकार श्वेत पत्र जारी करे :  बाबूलाल मरांडी

राज्य में उद्योग धंधों की स्थिति बदतर होती जा रही है. रोजगार सृजन करने वाले क्षेत्र मंदी की चपेट में आ गये हैं. ऐसे में राज्य सरकार श्वेत पत्र जारी कर जनता को हिसाब दे . बहुमत और डबल इंजन वाली सरकार में पिछले पांच साल में राज्य के खजाने से कितनी राशि निवेश लाने के लिए खर्च की. पांच साल में कितने उद्योग बंद हुए और कितने नये उद्योग लगे, इसका हिसाब राज्य की जनता को देना चाहिए.

इसे भी पढ़ें – रातू रोड के बड़े बिल्डर और भाजपा नेता की हत्या करने की थी साजिश, सुजीत सिन्हा गिरोह के दो अपराधी गिरफ्तार

adv
advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button