Education & CareerJharkhandRanchi

बीआइटी के नये कुलपति बने इंद्रनील मन्ना, पदभार ग्रहण किया

  • अब तक आइआइटी खड़गपुर में दे रहे थे सेवा

Ranchi : बिरला प्रोद्यौगिकी संस्थान (बीआइटी) के नये कुलपति डॉ इंद्रनील मन्ना बनाये गये हैं. उन्होंने अपना पदभार भी ग्रहण कर लिया है.

डॉ मन्ना आइआइटी खड़गपुर के मेटालर्जिकल एंड मैटेरियल्स इंजीनियरिंग विभाग के प्रोफेसर के पद पर कार्यरत थे. उन्होंने इंजीनियरिंग में पीएचडी एवं मेटालर्जिकल फिजिक्स में एमटेक आइआइटी, खड़गपुर से किया है.  साथ ही कलकत्ता विश्वविद्यालय से मेटालर्जिकल में बीई किया है.

डॉ मन्ना को कोलकाता विश्वविद्यालय से  प्रेमचंद रायचंद छात्रवृत्ति (पीआरएस) भी मिली है. उन्होंने आइआइटी खड़गपुर में 1985 में व्याख्याता के रूप में ज्वाइन किया. 2010 के मार्च में निदेशक के रूप में सीएसआइआर-सीजीसीआरआई में शामिल होने तक वह इस पद पर बने रहे.

Sanjeevani

इसे भी पढ़ें – 3 अगस्त को 602 नये कोरोना पॉजिटिव केस, 3 मौतें, झारखंड में हुए 13484 मामले

आइआइटी कानपुर के निदेशक रहे

इसके बाद, उन्होंने 2012-2017 तक आइआइटी, कानपुर के निदेशक के रूप में सेवा दी है. उन्होंने  नेशनल कोऑर्डिनेटर ऑफ इम्पैक्टिंग रिसर्च इनोवेशन एंड टेक्नोलॉजी, एमआरएचडी  मुहिम, जीओआइ की एक पहल के रूप में  एआरसीआई, गेल, आरआइएनएल और भेल के अनुसंधान सलाहकार बोर्डों के सदस्य जैसे कई अन्य पद संभाले हैं.

प्रशासनिक दायित्व संभालने से पहले, डॉ मन्ना ने आइआइटी खड़गपुर में 25 साल तक विभिन्न विषयों को पढ़ाया है.  उन्होंने दुनिया भर के 100 से अधिक संस्थानों में व्याख्यान दिया है. डॉ मन्ना ने 250 से अधिक जर्नल प्रकाशनों में योगदान दिया है, 6000 से अधिक उद्धरण एकत्र किये हैं, 25 पीएचडी शोधों का पर्यवेक्षण किया और आईआइटी-खड़गपुर में कई उच्च मूल्य प्रायोजित परियोजनाओं का संचालन किया है.

डॉ मन्ना भारतीय धातु संस्थान के पूर्व अध्यक्ष एवं आइएनएई के उपाध्यक्ष भी रह चुके हैं.

इसे भी पढ़ें –झारखंड में कोरोना जांच दर : हर दस लाख लोगों में से 8837 की हो रही जांच

5 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button