JharkhandLead NewsNEWSRanchiTOP SLIDER

उदासीनता: झारखंड के 13 जिलों के डीडीसी ने एक बार भी मनरेगा योजना का नहीं किया निरीक्षण, निदेशक भी काट रहे कन्नी

Ranchi: झारखंड के 13 जिलों के उपविकास आयुक्तों ने मनरेगा योजनाओं का नवंबर माह में एक बार भी निरीक्षण नहीं किया है. ग्रामीण विकास विभाग ने एरिया ऑफिसर मॉनिटरिंग एप  में निरीक्षण के सारे बिंदुओं को अपलोड करने को कहा था लेकिन माह नवंबर में बोकारो,चतरा, धनबाद, दुमका,गुमला, कोडरमा,लोहरदगा,पाकुड़,पलामू, रामगढ़, सरायकेला,सिमडेगा एवं पश्चिम सिंहभूम जिले के डीडीसी ने शून्य निरीक्षण किया है.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड के अनुसूचित क्षेत्रों के प्रशासन की रिपोर्ट देने को गंभीरता से नहीं ले रहे अफसर, राष्ट्रपति को सौंपा जाना है प्रतिवेदन

advt

बता दें कि डीडीसी मनरेगा योजना के जिला कार्यक्रम समन्वयक भी होते हैं. ग्रामीण विकास विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अधिकांश जिलों के डीआरडीए निदेशक के द्वारा योजनाओं का निरीक्षण नहीं किया गया है. मनरेगा आयुक्त राजेश्चरी बी ने इसे गंभीरता से लिया है और सभी जिलों के अधिकारियों को कड़ी हिदायत भी दी है. बता दें कि ग्रामीण विकास मंत्रालय भारत सरकार ने एरिया ऑफिसर मॉनिटरिंग एप डेवलप किया है, इसके जरिये मनरेगा योजना की ऑनस्पॉट निरीक्षण व इसे अपलोड करने को कहा है, ताकि योजनाओं की रियल टाइम निगरानी हो सके. जरूरत पड़ने पर योजनाओं में सुधार या कहीं अनियमितता मिली तो कार्रवाई भी सुनिश्चित किया जाना है.

इसे भी पढ़ेंःओमिक्रॉन के खतरे के बीच देश में 24 घंटे में कोरोना से 621 की मौत, 8 हजार नये मामले मिले

ग्रामीण विकास विभाग ने पूरे राज्य में जिला स्तर के अधिकारियों को 1920 योजनाओं व वहीं प्रखंड स्तर में 52600 कुल 54520 योजना का निरीक्षण माह नवंबर में करने का टारगेट दिया है. लेकिन हालात यह कि जिला स्तर पर मिलाकर 90 बार ही अभी तक विजिट किया जा सका है,वहीं प्रखंड स्तर पर 443 बार ही विजिट हुआ है. वहीं, सभी जिलों को मिलाकर 1812 योजनाओं का ही निरीक्षण किया जा सका है जो कि लगभग 3.3 फीसदी है.

Nayika

advt

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: