न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भारत की अर्थव्यवस्था पर पड़ा है नोटबंदी का गहरा नकारात्मक प्रभाव

नोटबंदी के दूसरी सालगिरह पर मोदी सरकार की प्रतिक्रिया से यह जाहिर होता है. मोदी सरकार नोटबंदी के मकसद पर लगातार अपने दावे से पलट जा रही है.

100

Faisal Anurag

तमाम दावों के बावजूद भारतीय जनता पार्टी और मोदी सरकार नोटबंदी के सवाल पर बैकफुट पर है. नोटबंदी के दूसरी सालगिरह पर मोदी सरकार की प्रतिक्रिया से यह जाहिर होता है. मोदी सरकार नोटबंदी के मकसद पर लगातार अपने दावे से पलट जा रही है. वित मंत्री जेटली ने अब नया दावा किया है कि नोटबंदी से 18 लाख ऐसे लोगों का पता चला है, जिनके पास घोषित आय से ज्यादा का धन था. लेकिन सरकार यह बताने में कामयाब नहीं है कि इन लोगों के पर क्या कार्रवाई हुयी है और  ये कौन लोग हैं.

नोटबंदी की कामयाबी को लेकर किए गए दावे में सरकार के बदलते रूख से राजनीतिक तौर पर सरकार की साख लगातार प्रभावित हुई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी का एलान करते हुए जिन दावों को किया था, अब केंद्र सरकार उन्हें ही दोहराने से बचती है. रिजर्व बैंक भी परोक्ष रूप से कह चुका है कि नोटबंदी विफल रही है. भारत की अर्थव्यवस्था पर इसका गहरा नकारात्मक प्रभाव पड़ा  है. इस तथ्य को सरकार की ही कई एजेंसियां स्वीकार रही है. यह भी माना जा रहा है कि दुनिया के जिन देशों ने भी नोटबंदी का प्रयोग किया है, उनकी राजनीति और अर्थव्यवस्था दोनों ही प्रभावित हुई है.

इसे भी पढ़ें – RBI की मिनट्स ऑफ मीटिंग से खुलासाः बैंक ने नोटबंदी पर सरकारी दावे को ठुकराया था

भारत में 2016 20016 की नोटबंदी को लेकर भारत के विभिन्न मेहनतकश तबकों में छाया भ्रम भी अब दूर हो गया है. खासकर बैंक घोटाले और उसके बाद की फरारी ने यह बता दिया है कि क्रोनी पूंजीपतियों के काले धंधे इससे प्रभावित नहीं हुए हैं. भारत के बैंक अभूतपूर्व संकट से गुजर रहे हैं. केंद्र सरकार और रिजर्व बैंक के बीच का तनाव भी बताता है कि भारतीय अर्थव्यवस्था के घोषित  आंकड़े और हकीकत जमीनी हकीकत में भारी फर्क है. यह फर्क तब और गहरा हो जाता है, जब विभिन्न सेक्टर के आंकड़े जीडीपी और इज ऑफ डुइंग बिजनेस के आंकड़ों से मेल नहीं खाते हैं.

यही कारण है कि केंद्र सरकार अब राजनीतिक तौर पर नोटबंदी से पैदा हुए संकट को समझते हुए इसे चुनावी मुद्दा बनाने से बच रही है. इस समय देश के पांच राज्यों में चुनाव अभियान चल रहा है. लेकिन भाजपा की कोशिश यही है कि इसमें नोटबंदी का सवाल कोई मुद्दा बनकर नहीं उभरे. भारतीय जनता पार्टी को लगता है कि अब इस सवाल पर मतदाताओं को यह नहीं समझाया जा सकता है कि इस प्रक्रिया ने काले धन को समाप्त किया है. इसका एक कारण तो यह है कि नोटबंदी के पहले जितनी मुद्रा प्रचलन में थी, उससे कहीं ज्यादा मुद्र इस समय प्रचलन में है. नकली नोट का धंधा भी खत्म नहीं हुआ है और आतंकवाद को खत्म करने में यह कामयाब हुआ है. यहां तक कि नक्सलवाद भी समाप्त नहीं हो सका है. नोटबंदी का एलान करते हुए प्रधानमंत्री ने इन्हें ही इस प्रक्रिया का मकसद बताया था. केंद्र सरकार पिछले दो सालों में लगातार अपने दावे से पलटते हुए नए-नए दावे करती जा रही है. भारत के आमलोगों में इस वजह से संशय बढ़ा है.

इसे भी पढ़ें – अगर तेलंगाना में बीजेपी की सरकार बनी तो बदला जायेगा हैदराबाद का नाम: राजा सिंह

विपक्षी दलों ने नोटबंदी की विफलता को मुद्दा बनाते हुए इससे हुए आर्थिक और राजनीतिक नुकसान के सवाल को उठाया है. देश और दुनिया के ज्यादातर अर्थशास्त्रियों ने भी नोटबंदी के नतीजों को घातक बताया है. ऐसे हालात में राजनीतिक तौर पर भाजपा इस सवाल को उठाने से बचने लगी है. कांग्रेस लगातार इसे प्रधानमंत्री का अकेले लिया गया निर्णय बताती रही है. कांग्रेस ने अब इस सवाल को और ज्यादा तेजी से उठाते हुए आर्थिक मामलों के जानकारों की सरकार द्वारा की गयी उपेक्षा को देश की अर्थव्यवस्था के संकट का कारण बताया है. गैर राजनीतिक क्षेत्र के जानकार भी इसी से मिलीजुली बातें कर रहे हैं. पिछले दो सालों में नोटबंदी को लेकर अनेक जमीन अध्ययन हुए हैं, इसमें यह बताया गया है कि मझोले और छोटे उद्योगों पर इसका सबसे बुरा प्रभाव पड़ा है और दो सालों के बाद भी ये उद्योग पहले की तरह नतीजे नहीं दे पा रहे हैं. इनफॉर्मल सेक्टर के कामगारों के जीवन स्तर को लेकर किए गए कई अध्ययनों में यह स्पष्ट हुआ है कि नोटबंदी ने उसकी अर्थ प्रक्रिया को झकझोर दिया है और इनफॉर्मल सेक्टर को दोबारा खड़ा होने के लिये अनेक कठिनाइयों के दौर से गुजरना पड़ रहा है.

इसे भी पढ़ें – दिल्ली में झारखंड की बेटियों को बेचनेवाला रोहित मुनि बिहार से गिरफ्तार

(लेखक न्यूज विंग के वरिष्ठ संपादक हैं)

 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: