न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#indian_hockey_team :  भारतीय टीम को तोक्यो ओलंपिक में मौकों को भुनाने के लिए बेहतर करना होगा

1,510

Bhubaneswar :  भारतीय पुरुष हाकी टीम के कोच ग्राहम रीड ने कहा कि तोक्यो ओलंपिक में पदक का सपना पूरा करने के लिए स्ट्राइकरों के पास मौकों को भुनाने के कौशल के साथ रक्षापंक्ति मजबूत होनी चाहिये.

आस्ट्रेलिया के रीड 1992 बार्सीलोना ओलंपिक में रजत पदक जीतने वाली टीम के खिलाड़ी रहे हैं. उनके कोच रहते हुए हालांकि आस्ट्रेलियाई टीम 2016 रियो ओलंपिक में क्वार्टर फाइनल से आगे नहीं बढ़ पायी थी. रीड भारतीय टीम के साथ बतौर कोच ओलंपिक पदक जीतने का सपना पूरा करना चाहते है.

इसे भी पढ़ेंः #BSNL कर्मचारियों को अक्टूबर का वेतन नहीं मिला, सोमवार से  80,000 कर्मचारी कर सकेंगे #VRS का आवेदन

उन्होंने शनिवार को मैच के बाद कहा, ‘‘ जाहिर है, मेरा सपना पूरा नहीं हुआ है. आप हमेशा ओलंपिक में शीर्ष में रहने का सपना देखते है. मैं भाग्यशाली था कि खिलाड़ी के तौर पर एक पदक जीत सका. यह ऐसी यादें है जो हमेशा आपके साथ रहेंगी.’’

hotlips top

तोक्यो में अगले साल होगा ओलंपिक

ओलंपिक में आठ बार के चैंपियन भारत ने दो चरण वाले एफआईएच पुरुष क्वालीफायर्स के दूसरे मैच में शनिवार को यहां रूस को 7-1 (दो मैचों का कुल योग 11-3) से हराकर अगले साल तोक्यो में होने वाले खेलों के लिए क्वालीफाई किया.

भारतीय कोच ने कहा, ‘‘ हमें इस टीम से ऐसी ही प्रदर्शन की उम्मीद है और इससे ओलंपिक अभियान में काफी मदद मिलेगा.’’

30 may to 1 june

इसे भी पढ़ेंः यूजीसी का निर्देश: परीक्षा केंद्रों पर जैमर लगाने का सख्ती से पालन करें विश्वविद्यालय

कोच (55) ने कहा, ‘‘ मैंने खिलाड़ियों को अभी कहा है कि आपके पास नौ महीने (ओलंपिक से पहले) का समय है. हमें अपने खेल में लगातार सुधार करना होगा, यही हमारी योजना है. हमारा ध्यान प्रक्रिया पर है, परिणाम खुद ही आयेगा.’’

रीड ने कहा कि खिलाड़ी आने वाले महीनों में अपने खेल में और सुधार करेंगे. उन्होंने कहा, ‘‘ हमें मौकों को गोल में बदलने के मामले में और सुधार करना होगा. हम काफी मौके बनाते हैं, जो अच्छी बात है. लेकिन उन मौकों को गोल में बदलना होगा.’’

रीड ने कहा, ‘‘ टीम की रक्षापंक्ति को भी मजबूत बनाने की जरूरत है क्योंकि हम विरोधी टीमों को जरुरत से ज्यादा मौके दे रहे हैं.’’

इसे भी पढ़ेंः पिछले पांच साल में 26 #PublicSectorBanks की 3,427 बैंक शाखाओं का #Existence प्रभावित : आरटीआई

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like