Lead NewsNationalSports

भारतीय हॉकी टीम के गोलकीपर पीआर श्रीजेश ने रचा इतिहास, जीता ‘वर्ल्ड गेम्स एथलीट ऑफ द ईयर’ अवॉर्ड

यह पुरस्कार हासिल करने वाले सिर्फ दूसरे भारतीय खिलाड़ी बने श्रीजेश

New Delhi : भारतीय हॉकी टीम के अनुभवी हॉकी गोलकीपर पीआर श्रीजेश ने 2021 में शानदार प्रदर्शन के लिए सोमवार को प्रतिष्ठित विश्व खेल साल का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी पुरस्कार जीता.

वह यह पुरस्कार हासिल करने वाले सिर्फ दूसरे भारतीय खिलाड़ी हैं. इससे पहले 2020 में भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल 2019 में शानदार प्रदर्शन के लिए यह पुरस्कार जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बनी थी.

पुरस्कार पाने के बाद क्या कहा श्रीजेश ने

Catalyst IAS
ram janam hospital

श्रीजेश ने स्पेन के स्पोर्ट क्लाइंबर अल्बर्टो गिनेस लोपेज और इटली के वुशु खिलाड़ी माइकल गियोर्डानो को पछाड़कर यह पुरस्कार जीता. श्रीजेश ने बयान में कहा, ‘मैं यह पुरस्कार जीतकर काफी सम्मानित महसूस कर रहा हूं. सबसे पहले इस पुरस्कार के लिए मुझे नामित करने पर एफआईएच को धन्यवाद. दूसरा, दुनिया भर में भारतीय हॉकी प्रशंसकों को भी धन्यवाद जिन्होंने मुझे वोट दिया.’

The Royal’s
Sanjeevani

एक लाख 27 हजार 647 वोट मिले

भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान श्रीजेश टोक्यो ओलंपिक में एतिहासिक कांस्य पदक जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा भी थे. उन्हें एक लाख 27 हजार 647 वोट मिले. लोपेज और गियोर्डानो को क्रमश: 67 हजार 428 और 52 हजार 46 वोट मिले. श्रीजेश इस पुरस्कार के लिए नामित होने वाले एकमात्र भारतीय थे. उनके नाम की सिफारिश अंतरराष्ट्रीय हॉकी महासंघ (एफआईएच) ने की थी.

अक्टूबर में एफआईएच स्टार्स पुरस्कार में श्रीजेश को 2021 के लिए साल का सर्वश्रेष्ठ गोलकीपर चुना गया था. श्रीजेश ने कहा, ‘नामित होकर मैंने अपना काम कर दिया लेकिन बाकी काम प्रशंसकों और हॉकी प्रेमियों ने किया. इसलिए यह पुरस्कार उन्हें जाता है और मुझे लगता है कि मेरे से अधिक वे इस पुरस्कार के हकदार हैं.’

इसे भी पढ़ें :फिल्मी स्टाइल में बालू ठेकेदार के घर डकैती, IT अफसर बनकर आए थे लुटेरे

पर्दे के पीछे से काम करने वाली सहयोगी प्रणाली को समर्पित किया पुरस्कार

उन्होंने कहा, ‘यह भारतीय हॉकी के लिए भी बड़ा लम्हा है क्योंकि हॉकी समुदाय से जुड़े लोगों, दुनिया भर के सभी हॉकी महासंघों ने मेरे लिए वोट किया इसलिए हॉकी परिवार का समर्थन पाकर काफी अच्छा लगा.’ श्रीजेश ने इस सम्मान को टीम के अपने साथियों और टीम को टोक्यो ओलंपिक में पदक तक पहुंचाने वाली पर्दे के पीछे से काम करने वाली सहयोगी प्रणाली को समर्पित किया. उन्होंने कहा, ‘मैं ऐसा व्यक्ति हूं जो व्यक्तिगत पुरस्कारों पर विश्वास नहीं करता, विशेषकर जब आप टीम का हिस्सा हो. यह सिर्फ 33 खिलाड़ियों की टीम नहीं है बल्कि पर्दे के पीछे से भी काफी लोग जुड़े हुए हैं, कोचिंग स्टाफ है, सहयोगी स्टाफ है, हॉकी इंडिया जैसा शानदार संघ है जो काफी सहायता करता है.’

इसे भी पढ़ें :BUDGET 2022 : भाजपा का दावा-आत्मनिर्भर भारत बनाने की मुहिम होगी तेज

2006 में कोलंबो में सीनियर टीम का हिस्सा बने

श्रीजेश ने 2006 में कोलंबो में दक्षिण एशियाई खेलों में सीनियर टीम की ओर से पदार्पण किया. वह 2011 में पाकिस्तान के खिलाफ चीन के ओर्डोस शहर में एशियाई चैंपियन्स ट्रॉफी के फाइनल में दो पेनल्टी स्ट्रोक बचाने के बाद से टीम के नियमित सदस्य हैं.

श्रीजेश ने 2012 लंदन ओलंपिक और 2014 विश्व कप में भारत का प्रतिनिधित्व किया. वह दक्षिण कोरिया में 2014 इंचियोन एशियाई खेलों में भारत की खिताबी जीत के हीरो रहे जहां फाइनल में उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ दो पेनल्टी स्ट्रोक बचाए. वह लंदन में 2016 पुरुष हॉकी चैंपियन्स ट्रॉफी में रजत पदक जीतने वाली टीम के कप्तान थे.

244 अंतरराष्ट्रीय मैचों में सीनियर टीम का प्रतिनिधित्व किया

श्रीजेश की अगुआई में भारतीय हॉकी टीम ने 2016 रियो ओलंपिक के क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई थी. वह 244 अंतरराष्ट्रीय मैचों में भारत की सीनियर टीम का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं. हॉकी इंडिया के अध्यक्ष ज्ञानेंद्रो निंगोमबम ने उन्हें बधाई देते हुए कहा, ‘हॉकी इंडिया की ओर मैं प्रतिष्ठित विश्व खेल साल का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी पुरस्कार 2021 जीतने के लिए श्रीजेश को बधाई देता हूं. यह भारत के लिए काफी गौरवपूर्ण और विशेष लम्हा है क्योंकि वह यह सम्मान पाने वाले सिर्फ दूसरे भारतीय खिलाड़ी हैं.’

इसे भी पढ़ें :Budget 2022: मोदी सरकार का खजाना भरा, GST कलेक्शन लगातार चौथी बार 1.30 लाख करोड़ से पार

 

Related Articles

Back to top button