न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भारतीय सेना ने नाथू ला में हुए भारी हिमपात में फंसे 2500 पर्यटकों को बचाया

भारतीय सेना ने शनिवार को सिक्किम के नाथू ला में हुए भारी हिमपात में फंसे 2500 पर्यटकों को बचाया. पर्यटक इस इलाके में 400 से ज्यादा वाहनों में फंसे हुए थे. खबरों के अनुसार इन सभी को सेना ने भेाजन शेल्टर और मेडिकल सुविधा मुहैया कराई है.

1,151

NewDelhi :    भारतीय सेना ने शनिवार को सिक्किम के नाथू ला में हुए भारी हिमपात में फंसे 2500 पर्यटकों को बचाया. पर्यटक इस इलाके में 400 से ज्यादा वाहनों में फंसे हुए थे. खबरों के अनुसार इन सभी को सेना ने भेाजन शेल्टर और मेडिकल सुविधा मुहैया कराई है. बता दें कि शुक्रवार को सिक्किम हुई बर्फबारी में कई पर्यटक फंस गये थे. इस संबंध में सेना ने ट्विटर पर जानकारी देते हुए लिखा, भारतीय सेना ने सिक्किम के नाथू ला में 400 से ज्यादा वाहनों में फंसे पर्यटकों को सुरक्षित निकाल लिया है. इन सभी को मेडिकल, खाना और शेल्टर (आवास) उपलब्ध कराया गया है. रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार नाथू ला इलाके से लौटने के बाद 300-400 वाहन 17 किलोमीटर इलाके के नजदीक फंस गये थे. जिसके बाद सेना ने तुरंत बचाव अभियान शुरू किया. जानकारी के अनुसार 1500 लोगों को 17 किलोमीटर के आश्रय स्थल पर रखा गया है.  बाकी के लोगों को 13 किलोमीटर के स्थल पर भेजा गया है.

बचाव अभियान फिलहाल जारी

सेना के एक अधिकारी के अनुसार बचाव अभियान फिलहाल जारी है. बर्फ हटाने के लिए सेना ने दो जेसीबी और बुलडोजर को काम पर लगाया है.  सेना का कहना है कि जब तक सभी पर्यटक गंगटोक नहीं पहुंचते यह बचाव अभियान जारी रहेगा.  सिक्किम में शुक्रवार को इस मौसम की पहली बर्फबारी हुई.मौसम विभाग के अनुसार, राज्य के ऊंचे इलाकों में बर्फ की मोटी चादर बिछ गयी है. कुछ जगहों पर हल्की बारिश भी हुई. उत्तर में लाचेन और लाचुंग, दक्षिण में राव रावला और पूर्वी सिक्किम में हनुमान टोंक क्षेत्र में ऊपरी इलाकों में बर्फबारी हुई. बर्फबारी का आनंद लेने के लिए पर्यटक अपने होटलों और वाहनों से सड़कों पर निकलते देखे गये. राज्य के विभिन्न हिस्सों में दोपहर के समय हल्की, बारिश और ओलावृष्टि से मौसम बदल गया.

बता दें नाथू ला पूर्वी सिक्किम का पहाड़ी दर्रा है. यह  समुद्र तल से 4310 मीटर (14140 फुट) की ऊंचाई पर स्थित है. बता दें कि केवल भारतीय नागरिक ही यहां पर्यटन के लिए जा सकते हैं, इसके लिए गंगटोक से अनुमति लेनी होती है.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: