न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

इंडियन अमेरिकन मुस्लिम काउंसिल ने असम के एनआरसी को खारिज करने की मांग की

असम के नेशनल सिटीजन रजिस्टर (एनआरसी) खारिज करने की मांग अमेरिका से आयी है.

439

 WaShington : असम के नेशनल सिटीजन रजिस्टर (एनआरसी) खारिज करने की मांग अमेरिका से आयी है.  बता दें कि भारतीय मूल के अमेरिकी मुस्लिमों के ग्रुप इंडियन अमेरिकन मुस्लिम काउंसिल ने असम के एनआरसी को तत्काल रद़द करने की मांग की है. समूह का कहना है कि जब तक लिस्ट में बरती गयी अनियमितताएं दूर नहीं की जाती है तब तक के  लिए उसे खारिज कर दिया जाये. मुस्लिम काउंसिल का कहना है कि अनियमितताओं के कारण ही रजिस्टर में चालीस लाख लोगों को शामिल नहीं किया जा सका.

mi banner add

इंडियन अमेरिकन मुस्लिम काउंसिल (आईएएमसी) का आरोप है कि असम में वोटिंग से वंचित रहने वालों में सबसे ज्यादा वहां बांग्ला भाषी मुस्लिम समुदाय प्रभावित हुआ है, जिनपर घुसपैठिया होने का आरोप लगाया जाता है जबकि वे लोग भारतीय नागरिक हैं.

 इसे भी पढ़ें-  अमित शाह को पश्चिम बंगाल में 22 लोकसभा सीटें चाहिए, 11 को भरेंगे हुंकार, एनआरसी होगा मुद्दा!

 पूर्व राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद के रिश्तेदारों के नाम शामिल नहीं

संगठन ने कहा कि नागरिकता खोने के खतरे का सामना करने वालों में भारत के पूर्व राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद के रिश्तेदार भी शामिल हैं.  बता दें कि आईएएमसी के अध्यक्ष  अहसान खान ने आरोप लगाया कि यह लोकतंत्र को नष्ट करने की कवायद है और साफतौर से यह पक्षपात और भेदभावपूर्ण एजेंडा है, जिसके कारण भारत के पूर्व राष्ट्रपति के रिश्तेदारों को रजिस्टर से अलग रखा गया है.   एनआरसी में  असम के सभी असली नागरिकों का रिकॉर्ड है. इसका सबसे ताज़ा आंकड़ा 30 जुलाई 2018 को प्रकाशित किया गया.

इसे भी पढ़ें- ‘सरकार की कारगुजारियां उजागार करने वाले को देशद्रोही का तमगा देना बंद करें रघुवर सरकार’

Related Posts

भारत में बाढ़ के कारण 20 साल में  547 लाख करोड़ रुपए का नुकसान  : संयुक्त राष्ट्र

देश में हर साल की तरह इस बार भी बाढ़ अपना विकराल रूप दिखा रही है. जान लें कि वर्तमान में  एक दर्जन राज्यों से ज्यादा राज्य बाढ़ की चपेट में है,

एनआरसी राज्य के हर नागरिक तक पहुंचा

2015 में 3.29 करोड़ लोगों ने 6.63 करोड़ दस्तावेजों के साथ एनआरसी में  नाम शामिल करवाने के लिए आवेदन किया था. इनमें से 2.89 करोड़ को नागरिकता दी गयी. लगभग 40 लोग इससे बाहर कर दिये गये. बता दें कि एनआरसी राज्य के हर नागरिक तक पहुंचा है. एनआरसी से जानकारी मिली है कि कौन भारत का नागरिक है और कौन अवैध तरीके से भारत में रह रहा है. सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में इस प्रक्रिया की मॉनिटरिंग हो रही है.

इसे भी पढ़ें- रांची में महामारी से अब तक तीन लोगों की मौत, जांच में मिले चिकनगुनिया के 27 व डेंगू के 2 मरीज

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: