JharkhandRanchi

सचिव डॉ मनीष रंजन से भारतीय प्रशासनिक सेवा के प्रशिक्षु अधिकारियों ने मुलाकात की

जन समस्याओं के निदान के लिए योजनाबद्ध तरीके से काम करने का दिया निर्देश

Ranchi : ग्रामीण विकास विभाग के सचिव डॉ मनीष रंजन से मंगलवार को भारतीय प्रशासनिक सेवा के प्रशिक्षु अधिकारियों ने मुलाकात की. यह उनकी डॉ मनीष रंजन से शिष्टाचार भेंट थी. ग्रामीण विकास विभाग सचिव ने प्रशिक्षु अधिकारियों को बधाई के साथ-साथ उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएं दीं. सचिव डॉ मनीष रंजन ने भारतीय प्रशासनिक सेवा के प्रशिक्षु अधिकारियों से कहा कि आप सभी अधिकारी जनसमस्याओं के निदान के लिए योजनाबद्ध तरीके से कार्य करें. समाज के पिछड़े, जरूरतमंद एवं गरीब लोगों के सामाजिक-आर्थिक उत्थान के लिए प्रतिबद्धता के साथ कार्य करें तथा ईमानदारी पूर्वक अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करें. मौके पर सचिव डॉ मनीष रंजन ने सभी भारतीय प्रशासनिक सेवा के प्रशिक्षु पदाधिकारियों को अपने अनुभवों से अवगत कराया.

सचिव डॉ मनीष रंजन ने प्रशिक्षु पदाधिकारियों से कहा कि प्रशासनिक अधिकारी के रूप में संवेदनशीलता के साथ किसी भी समस्या को समझ कर उसके निराकरण के लिए सही निर्णय लेना जरूरी होता है, इसके लिए अनुभवी एवं वरिष्ठ अधिकारियों के साथ-साथ कनिष्क अधिकारियों का अनुभव भी सहयोगी एवं महत्वपूर्ण होता है.

इसे भी पढ़ें:हाइकोर्ट ने जेपीएससी और राज्य सरकार से पूछा- आरक्षित श्रेणी के लोगों का कैसे करते हैं कैडर बंटवारा

ram janam hospital
Catalyst IAS

आप सभी को प्रशासनिक अधिकारी के रूप में कार्य करते हुए अपने भावनाओं और वाणी पर नियंत्रण रखते हुए समस्याओं का निराकरण का प्रयास करना चाहिए. किसी भी समस्या का हल नियम संगत एवं कानूनी प्रक्रिया के तहत निकालें.

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

आम जनता के कल्याणार्थ सरकार द्वारा संचालित विकास कार्यों का प्रभावी क्रियान्वयन ही कुशल प्रशासनिक अधिकारी की पहचान होती है. मौके पर मनरेगा आयुक्त राजेश्वरी बी और सीईओ जेएसएलपीएस सूरज कुमार, विभागीय अपर सचिव राम कुमार सिन्हा उपस्थित थे.

मुलाकात करने वालों में 2020 बैच के भारतीय प्रशासनिक सेवा के प्रशिक्षु अधिकारी के रूप में रवि जैन, दीपांकर चौधरी, पियूष सिन्हा, अनिकेत सचान, आशीष अग्रवाल, रीना हंसडक भी उपस्थित थी.

इसे भी पढ़ें:कैबिनेट में बिजली का मुद्दा उठा, 21 प्रस्ताव की मंजूरी, डीवीसी-एनटीपीसी को 1690 करोड़ की टैरिफ सब्सिडी, होल्डिंग टैक्स में वृद्धि

Related Articles

Back to top button