National

#IndiaFightsCorona : भाजपा नेता एकमत नहीं,  मंत्री गिरिराज बोले, मांसाहार से संबंध नहीं, साक्षी महाराज की राय,  नॉनवेज है कारण

विज्ञापन

NewDelhi :  कोरोना वायरस का मांसाहार से क्या संबंध है. इसे लेकर देश भर में तरह तरह की अफवाहों और चर्चाओं का बाजार गर्म है.  जान लें कि सरकार द्वारा  इस खतरनाक वायरस से बचाव के लिए गाइडलाइन्स जारी की गयी हैं, लेकिन इसके बावजूद अफवाहें थम नहीं रही हैं.  लोगों के बीच ऐसी चर्चा है कि कोरोना वायरस नॉनवेज खाने से होता है. इसे लेकर  केन्द्र की सत्ताधारी पार्टी भाजपा के नेता एकमत नहीं हैं.

इसे भी पढ़ें : #IndiaFightsCorona: झारखंड के सभी स्कूल-कॉलेज, सिनेमा हॉल, क्लब व पार्क 14 अप्रैल तक बंद किये गये

मीट, मुर्गा, अंडा, मछली से कोरोना का कोई संबंध नहीं

advt

भाजपा नेता और केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह मानते हैं कि मांसाहार का कोरोना वायरस का कोई संबंध नहीं है. गिरिराज सिंह ने अपने बयान में कहा है कि मीट, मुर्गा, अंडा, मछली से कोरोना का कोई संबंध नहीं है. यह भी कहा कि वह देश के सभी प्रशासनिक अधिकारियों से अपील करते हैं कि वह चिकन पर बैन के आदेश तभी जारी करें, जब सरकार या मंत्रालय की तरफ से ऐसा कोई आदेश जारी किया जाये, वरना देश को भारी नुकसान होगा.

इसे भी पढ़ें : #Fear_Of_Corona : शेयर बाजार में कोहराम जारी, सेंसेक्स 2600 अंकों से ज्यादा लुढ़का

कोरोना वायरस की  माहमारी के पीछे नॉनवेज 

दूसरी ओर भाजपा सांसद साक्षी महाराज  अलग राय रखते हैं. साक्षी महाराज ने अपने बयान में कहा कि कोरोना वायरस की बीमारी चीन से शुरू हुई.  साक्षी महाराज ने दावा किया कि चीन में नॉनवेज के 170 आइटम हैं, वो चमगादड़, कुत्ता, छछुंदर, सांप आदि किसी का मांस नहीं छोड़ते.  भाजपा सांसद ने कहा कि पूरे देश में कोरोना वायरस की जो माहमारी फैली है, उसके पीछे नॉनवेज है.

इस क्रम में  देश के दो जिम्मेदार लोगों की कोरोना वायरस और नॉनवेज को लेकर जो अलग अलग राय है. इनकी राय   की देश में खूब चर्चा हो रही है.  हालांकि विशेषज्ञों का भी कहना है कि मांसाहार का कोरोना वायरस से कोई संबंध नहीं है. एम्स के प्रोफेसर आनंद कृष्णन के अनुसार  वायरस के ट्रांसमिशन का कारण खाना नहीं है.

adv

यदि घर पर चिकन बनाकर खाते हैं तो उससे कोई समस्या नहीं :  प्रोफेसर आनंद 

प्रोफेसर आनंद ने कहा कि यदि घर पर चिकन बनाकर खाते हैं तो उससे कोई समस्या नहीं है.  इसके अलावा लहसुन, हल्दी और शहद से कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने की बात  भी प्रोफेसर आनंद ने खारिज कर दी है.

चिकन से कोरोना वायरस फैलने की अफवाह के बीच देश में कई जगह पर चिकन के दामों में भारी गिरावट आयी है.  कुछ जगहों पर तो अफवाह के चलते मुर्गियों को मारा भी जा रहा है.  हालांकि अभी तक यह साबित नहीं हो सका है कि कोरोना वायरस के फैलने में चिकन की कोई भूमिका है या नहीं.

इसे भी पढ़ें : #IndiaFightsCorona: विश्व भर की अधिकतर विमानन कंपनियां मई के अंत तक दिवालिया हो सकती हैं

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button