BusinessNational

भारत दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था, ब्रिटेन-फ्रांस को पीछे छोड़ा: रिपोर्ट

New Delhi: आर्थिक मोर्चे पर काफी दिनों बाद कोई अच्छी खबर आयी है. भारत दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश बन गया है. उसने 2019 में ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ दिया.

Advt

अमेरिका का शोध संस्थान वर्ल्ड पोपुलेशन रिव्यू ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि आत्म निर्भर बनने की पूर्व की नीति से भारत अब आगे बढ़ते हुए एक खुली बाजार वाली अर्थव्यवस्था के रूप में विकसित हो रहा है. बता दें कि अमेरिका का वर्ल्ड पोपुलेशन रिव्यू एक स्वतंत्र संगठन है.

इसे भी पढ़ेंः#Giridih: 16 मौतों के बाद पीएमसीएच से चिकित्सकों की टीम प्रभावित गांवों में पहुंची, स्वास्थ्य जांच की

GDP के मामले में भारत पांचवीं बड़ी इकोनॉमी

रिपोर्ट के अनुसार, ‘सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के मामले में भारत 2940 अरब डॉलर के साथ दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश बन गया है. इस मामले में उसने 2019 में ब्रिटेन तथा फ्रांस को पीछे छोड़ दिया.’

न्यूज एजेंसी पीटीआइ के मुताबिक, ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था का आकार 2830 अरब डॉलर है, जबकि फ्रांस का 2710 अरब डॉलर है.

क्रय शक्ति समता (पीपीपी) के आधार पर भारत का जीडीपी 10,510 अरब डॉलर है और यह जापान तथा जर्मनी से आगे है. भारत में अधिक आबादी के कारण प्रति व्यक्ति जीडीपी 2170 डॉलर है. जबकि यह अमेरिका में प्रति व्यक्ति 62,794 डॉलर है.

हालांकि भारत की वास्तविक जीडीपी वृद्धि दर लगातार तीसरी तिमाही में कमजोर रह सकती है, और 7.5 प्रतिशत से घटकर 5 प्रतिशत पर आ सकती है.

90 के दशक में शुरू हुआ उदारीकरण का दौर

रिपोर्ट में कांग्रेस के दौर में शुरू किए गए उदारीकरण की तारीफ की गई है. रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में आर्थिक उदारीकरण 1990 की दशक में शुरू हुआ है. उद्योगों को नियंत्रण मुक्त किया गया और विदेशी व्यापार एवं निवेश पर पर नियंत्रण कम किया. साथ ही सरकारी कंपनियों का निजीकरण किया गया. जिसके कारण भारत को आर्थिक वृद्धि तेज करने में मदद मिली है.

इसे भी पढ़ेंःबिहार: 22 IAS अधिकारियों का हुआ ट्रांसफर, बदले गये कई जिलों के DM

जीडीपी ग्रोथ सुस्त

गौरतलब है कि देश की जीडीपी ग्रोथ स्थ‍िति अच्छी नहीं है. हाल में कई रेटिंग एजेसियों ने भारत के विकास दर के अनुमान को घटा दिया है. रेटिंग एजेंसी मूडीज इनवेस्टर्स सर्विस ने साल 2020 के लिए भारत के जीडीपी ग्रोथ अनुमान को घटा दिया है. और इस अनुमान को 6.6 फीसदी से घटाकर 5.4 फीसदी कर दिया है. इसके साथ ही मूडीज ने 2021 में जीडीपी बढ़त के अनुमान को भी कम करते हुए 6.7 फीसदी से 5.8 फीसदी कर दिया है.

मूडीज ने नोवेल कोरोना वायरस के कारण वैश्विक अर्थव्यवस्था में आयी सुस्ती का हवाला देते हुए कहा है कि भारत के जीडीपी ग्रोथ में तेजी की रफ्तार कम हो सकती है.

इसे भी पढ़ेंःहेमंत सरकार गरीबों और बेरोजगारों की, जनता की भलाई ही मुख्य उद्देश्य : आलमगीर आलम

Advt

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button