Lead NewsNational

भारत ने किया ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल के एक नये संस्करण का सफल परीक्षण, देखें VIDEO

New Delhi : भारत ने बालासोर में ओडिशा के तट से ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल के एक नए संस्करण का सफल परीक्षण गुरुवार को किया. इस संबंध में रक्षा सूत्रों ने बताया कि मिसाइल नए तकनीक से लैस थी जिसका सफल परीक्षण किया गया है.

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के एक सूत्र ने बताया कि बेहतर नियंत्रण प्रणाली सहित अन्य नई तकनीकों से लैस इस मिसाइल को सुबह लगभग 10.45 बजे चांदीपुर स्थित एकीकृत परीक्षण रेंज के लॉन्च पैड-3 से प्रक्षेपित किया गया. सूत्र ने बताया कि परीक्षण के विस्तृत डाटा का विश्लेषण किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें : संगठन में रहना है तो कर्मचारियों के हित में काम करें : सुभाष मजुमदार

11 जनवरी को भी किया था परीक्षण

आपको बता दें कि इससे पहले 11 जनवरी को भारत ने आधुनिक सुपरसोनिक ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल के एक नये संस्करण का परीक्षण किया था. इसे भारतीय नौसेना के गुप्त तरीके से निर्देशित मिसाइल विध्वंसक पोत से सफल परीक्षण-प्रक्षेपण किया था.

इसे लेकर रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) ने कहा था कि मिसाइल ने सटीक तरीके से निर्धारित लक्ष्य पर निशाना साधा. समझा जाता है कि इस मिसाइल में 290 किलोमीटर की मूल क्षमता की तुलना में 350 से 400 किलोमीटर तक प्रहार करने की अधिक क्षमता है.

इसे भी पढ़ें : UP Election 2022 : हॉट केक बनी गोरखपुर सदर विधानसभा सीट, यहां योगी को टक्कर देंगे भीम आर्मी के चंद्रशेखर

डीआरडीओ ने किया था ट्वीट

डीआरडीओ ने ट्वीट किया था कि ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल के समुद्र से समुद्र में प्रहार करने वाले आधुनिक संस्करण का आईएनएस विशाखापत्तनम से परीक्षण किया गया. मिसाइल ने निर्धारित लक्ष्य पर सटीक तरीके से निशाना साधा.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि मिसाइल के सफल प्रक्षेपण से भारतीय नौसेना की ‘मिशन संबंधी तैयारियों’ की दृढ़ता स्पष्ट हुई है. उन्होंने ट्वीट कर भारतीय नौसेना और डीआरडीओ को इस उपलब्धि के लिए बधाई दी थी.

इसे भी पढ़ें : इंटीग्रेटेड एक्वा पार्क से समृद्ध होगी झारखंड में मत्स्य संपदा

भारत-रूस का संयुक्त उपक्रम बनाया है मिसाइल

आपको बता दें कि भारत-रूस का संयुक्त उपक्रम ‘ब्रह्मोस एयरोस्पेस’ सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का उत्पादन करता है. इन्हें पनडुब्बियों, जलपोतों, विमान या भूतल पर स्थित प्लेटफॉर्मों से प्रक्षेपित किया जा सकता है. ब्रह्मोस मिसाइल 2.8 मैक या ध्वनि की गति से लगभग तीन गुना रफ्तार से प्रक्षेपित हो सकती हैं. भारत ने रणनीतिक महत्व वाले अनेक स्थानों पर बड़ी संख्या में मूल ब्रह्मोस मिसाइलों आदि को तैनात कर रखा है.

 

इसे भी पढ़ें : बिरसानगर में आर्मी के जवान ने कुएं में कूदकर दी जान

Advt

Related Articles

Back to top button