NEWSWING
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एशियाई खेलों से पहले भारत को झटकाः गोल्ड की दावेदार मीराबाई चानू ने वापस लिया नाम

भारोत्तोलक मीराबाई चानू ने कमर के दर्द के कारण वापस लिया नाम

165

NewDelhi: एशियाई खेलों से पहले भारत को मंगलवार को करारा झटका लगा है. दरअसल स्वर्ण पदक उम्मीदों में शुमार मौजूदा विश्व और राष्ट्रमंडल चैम्पियन भारोत्तोलक मीराबाई चानू ने कमर के दर्द का हवाला देते हुए 18 अगस्त से शुरू हो रहे इन खेलों से नाम वापिस ले लिया.

इसे भी पढ़ेंःअतिक्रमण की जद में सीएम का विभागः हर प्रमंडल और जिले में वन भूमि का हुआ अतिक्रमण

ईमेल भेज वापस लिया नाम

मीराबाई ने भारतीय भारोत्तोलन महासंघ को ईमेल भेजकर इन खेलों से बाहर रहने का अनुरोध किया है. महासंघ के महासचिव सहदेव यादव ने भाषा को बताया कि कमर के दर्द और ओलंपिक क्वालीफायर की तैयारी के लिये उसने समय मांगा है और इन खेलों से बाहर रहने का अनुरोध किया है .

यादव ने कहा कि यह सही है कि मीराबाई चानू ने एशियाई खेलों से नाम वापस लेने के लिये हमें आज ईमेल भेजा है. उन्होंने बताया है कि वह कमर के दर्द से पूरी तरह निजात पाना चाहती है और ओलंपिक क्वालीफायर की उन्हें तैयारी करनी है.

इसे भी पढ़ेंःगुरेज सेक्टर में घुसपैठ की कोशिश नाकामः मेजर समेत चार जवान शहीद, चार आतंकी ढेर

गोल्ड की थी उम्मीद

सहदेव यादव ने कहा कि महासंघ के लिये भी यह करारा झटका है क्योंकि मीराबाई से स्वर्ण पदक की उम्मीद थी. उन्होंने कहा कि यह बहुत निराशाजनक खबर है क्योंकि उससे पदक ही नहीं बल्कि स्वर्ण पदक की उम्मीद थी. लेकिन यह खेल का हिस्सा है और इस पर किसी का नियंत्रण नहीं है.

एक नवंबर से अश्गाबात में शुरू हो रही विश्व चैम्पियनशिप इस साल का पहला ओलंपिक क्वालीफायर होगा. गौरतलब है कि मीराबाई मई के आखिर से कमर के निचले हिस्से में दर्द से जूझ रही थी और उन्होंने पूरी तरह से अभ्यास भी शुरू नहीं किया था.

madhuranjan_add

इसे भी पढ़ेंःJSMDC : 11 में 10 खदानें बंद, वेतन पर सालाना खर्च 100 करोड़, आमदनी महज 16-17 करोड़

मीराबाई ने बनाये कई रिकॉर्ड

उनका एशियाई खेलों में नहीं जाना भारत के लिये बड़ा झटका है. क्योंकि पिछले प्रदर्शन के आधार पर वह बड़ी पदक उम्मीद थी. नवंबर में उन्होंने 22 साल में विश्व चैम्पियनशिप में भारत के लिये पहला स्वर्ण जीता था, जब अमेरिका के अनाहेम में हुई चैम्पियनशिप में उसने 48 किलो वर्ग में 194 किलो (85 और 109 किलो) के साथ रिकार्ड भी बनाया था. इसके बाद अप्रैल में गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में अपना निजी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 196 किलो वजन उठाकर उसने स्वर्ण पदक हासिल किया था .

मीराबाई के अलावा राखी हलधर (63 किलो), राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता सतीश शिवलिंगम और अजय सिंह (77 किलो) और कांस्य पदक विजेता विकास ठाकुर (94 किलो) भी एशियाई खेलों के लिये भारतीय भारोत्तोलन दल में हैं .

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Averon

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: